जॉब के साथ शुरू करना चाहते है अपना बिजनेस तो ये टिप्स आएंगे बहुत काम

जॉब के साथ-साथ खुद का स्टार्टअप शुरू करना अब एक प्रचलित ट्रेंड बनता जा रहा है, लेकिन इसके लिए टाइम मैनेजमेंट के साथ सही प्लानिंग भी जरूरी है।

करियर डेस्क । कई बार ऐसा होता है कि जॉब में आने के बाद आपके दिमाग में कोई बिजनेस आइडिया आया हो जिसे आप डेवलप करना चाहते हों, लेकिन पूरा समय नौकरी को देने के बाद ऐसा नहीं कर पा रहे हों। लेकिन आप चाहें तो जॉब के साथ-साथ अपने वेंचर के लिए भी समय निकाल सकते हैं। इसके लिए बस सही प्लानिंग की जरूरत है।

कितना वक्त दे सकते हैं?
सबसे पहले अपने सभी कमिटमेंट्स की लिस्ट बनाएं। अब देखें कि हर हफ्ते अपने नए वेंचर को आप कितना वक्त दे पाएंगे। अब उन एक्टिविटीज को देखें जिनमें आप कम समय दे सकते हैं। सोशल मीडिया एक्टिविटी से बचाया गया समय भी इसमें काम आ सकता है।

स्किल्स और कमजोरियां
अब देखें अपने बिजनेस आइडिया को विकसित करने के लिए आपके पास क्या स्किल्स हैं। साथ ही अपनी मौजूदा स्किल्स के अलावा भी आपको कई नई स्किल्स भी
सीखनी होंगी। इसके लिए समय निकालिए या किसी एक्सपर्ट की मदद लीजिए।

रीयलिस्टिक गोल्स तय करें 
वास्तविक गोल्स और डेडलाइंस तय किए बिना आपका काम अधूरा होगा। अपने लिए रोजाना के, साप्ताहिक व महीने के गोल्स तय करें। इससे आपके कम व लंबे समय के लक्ष्य पूरे होंगे। शुरुआत रोजाना के लक्ष्यों से करें। जब ये पूरे होने लगें तो बड़े लक्ष्यों की ओर बढ़ें।

आइडिया को बनाएं मजबूत
फॉर्च्यून मैग्जीन के एक अध्ययन में पाया गया कि 42 प्रतिशत कंपनियां इसलिए फेल हो जाती हैं क्योंकि उनके प्रॉडक्ट की बाजार में जरूरत नहीं होती। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने बिजनेस आइडिया को मजबूत बनाएं। साथ ही शुरुआत से पहले मार्केट फीडबैक जरूर लें।

आउटसोर्सिंग की मदद
काम को आउटसोर्सकरें। हालांकि यह आप नहीं चाहेंगे कि कोई दूसरा आपके गोल्स की प्लानिंग करें या 100 प्रतिशत आपको बताए कि आपका प्रॉडक्ट या सर्विस कैसे होने चाहिए, लेकिन जिन कामों में आप दूसरों की मदद ले सकते हैं वहां आउटसोर्सिंग करें।

प्लान B रखें तैयार
वी वर्क कंपनी के को फाउंडर एडम न्यूमान की राय में आपको हमेशा अपना प्लान बी पता होना चाहिए, यह जरूरी है। इसकी मदद से ही वे अपनी को
वर्किंग स्पेस कम्यूनिटीज को मल्टी बिलियन डॉलर के बिजनेस में बदल पाए।

पर्सनल प्रोजेक्ट और जॉब को अलग रखें
नौकरी के घंटों को बिजनेस के काम से न मिलाएं। जॉब छोड़ने के लिए भी अपना टार्गेट तय करें।


 

Next News

छोटे बिजनेस की ग्रोथ के लिए बदलनी होगी आपको अपनी स्ट्रैटजी

ऐसी कई ग्रोथ स्ट्रैटजी हैं, जो छोटे उद्यमों के काम आ सकती हैं। बस जरूरत है उन्हें सही प्लानिंग के साथ आजमाने की। अगर आप भी किसी छोटे बिजनेस से जुड़े आंत्रप्रेन्योर

स्मृति शेष: पत्रकारिता के जोश, जुनून और जिद थे कल्पेशजी...

दैनिक भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक नहीं रहे। शुक्रवार को इंदौर में हुआ अंतिम संस्कार

Array ( )