वाइल्ड लाइफ में कॅरियर की चमकीली संभावनाएं के साथ संवारें अपना कल

अगर आपको जंगल और जंगली जीव-जंतुओं से प्यार है, और वाइल्ड लाइफ आपको आकर्षित करता है, तो वाइल्ड लाइफ के क्षेत्र में आप शानदार करियर बना सकते हैं।

वाइल्ड लाइफ में कॅरियर की चमकीली संभावनाएं

करियर डेस्क । अगर आपको वन क्षेत्र और जंगली जीव-जंतुओं से प्यार है, और वाइल्ड लाइफ आपको आकर्षित करता है, तो वाइल्ड लाइफ के क्षेत्र में आप शानदार करियर बना सकते हैं। आने वाले समय में आप इस फील्ड में शानदार मुकाम हासिल कर सकते हैं।

क्या करें?
इस फील्ड में प्रवेश के लिए विज्ञान विषय से 12वीं के बाद बायोलॉजिकल साइंस से बीएससी कर सकते हैं। एग्रीकल्चर में बैचलर डिग्री भी इस क्षेत्र में प्रवेश दिला सकती है। फोरेस्ट्री या एन्वायरनमेंटल साइंस से भी स्नातक की डिग्री ली जा सकती है। बीएससी के बाद वाइल्ड लाइफ साइंस से एमएससी करने वालों के लिए भी यह क्षेत्र असीम संभावनाओं से भरा हुआ है।


जॉब
मुंबई नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी, वर्ल्ड वाइड फंड, वाइल्ड लाइफ इंस्टीच्यूट ऑफ इंडिया, वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट ऑफ इंडिया के अलावा कई ऐसे आर्गेनाइजेशंज हैं, जिनमें रिसर्चज और प्रोजेक्ट आफिसर्ज के रूप में काम कर सकते हैं। वाइल्ड बायोलॉजिस्ट में कोर्स पूरा करने के बाद वाइल्ड लाइफ सेंक्चुरीज, एन्वायरनमेंटल एजेंसी, जूलॉजिकल फर्म, एन्वायरनमेंटल कंसल्टेंसी फर्म, नॉन गवर्नमेंटल आर्गेनाइजेशन, एग्रीकल्चरल कंसल्टेंट फर्म, इंडियन काउंसिल ऑफ फोरेस्ट रिसर्च एंड एजुकेशन और ईको रिहैबिलीटेशन फर्मों में नौकरी पा सकते हैं।


सैलरी 
प्राइवेट सेक्टर में वाइल्ड लाइफ साइंटिस्ट को 20 से 25 हजार रुपए मासिक वेतन मिलता है। यह वेतन सीनियोरिटी और अनुभव के साथ बढ़ता जाता है। पीएचडी होल्डर एक वरिष्ठ वैज्ञानिक का 50 हजार प्रतिमाह वेतन हो सकता है। इसके विपरीत एनजीओ या सरकारी विभाग में वाइल्ड लाइफ साइंस से जुड़े कर्मचारियों को काफी अच्छे वेतनमान पर नौकरियां मिलती हैं।

योग्यता
बायोलॉजी, मैथमेटिक्स तथा स्टेटिस्टिक्स में मजबूत पकड़ हो।
वन्य जीवन के प्रति आकर्षण हो।
बेहतर कम्युनिकेशन स्किल हो।
कम्प्यूटर पर काम करने की जानकारी हो।

क्या करना होता है काम 
फील्ड साइट पर पहुंच कर डाटा एकत्र करना।
फील्ड साइट की भौगोलिक स्थिति के मुताबिक ऊबड़-खाबड़ और मुश्किल रास्तों पर चढ़ाई या ड्राइव करना होता है।
वन्य जीव विशेषज्ञों से मिलना और बातचीत करना।
साइंटिफिक पेपर, टेक्निकल रिपोर्ट या पॉपुलर ऑर्टिकल्स का काम पूरा करना या अनुदान या वित्तीय सहायता के लिए लिखना तथा नीति निर्माताओं या कॉलेबोरेटर्स से मुलाकात करना।

कोर्सेज
बीएससी इन वाइल्ड लाइफ
एमएससी इन वाइल्ड लाइफ बायोलॉजी
एमएससी इन वाइल्ड लाइफ
पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री इन वाइल्ड लाइफ साइंस
अंडर ग्रेजुएट कोर्स इन वाइल्ड लाइफ
पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन एडवांस्ड वाइल्ड लाइफ साइंस
बीएससी इन फोरेस्ट्री इन वाइल्ड लाइफ मैनेजमेंट
डिप्लोमा इन जू एंड वाइल्ड एनिमल हैल्थ केयर एंड मैनेजमेंट
सर्टिफिकेट कोर्स इन वाइल्ड लाइफ मैनेजमेंट

प्रमुख संस्थान 

वाइल्ड लाइफ इंस्टीच्यूट ऑफ इंडिया,देहरादून
संपर्क - 0135 264 0115
http://www.wii.gov.in/


हिमाचल फोरेस्ट रिसर्च इंस्टीच्यूट, शिमला
संपर्क - 0177 262 6778
http://hfri.icfre.gov.in/


टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, बंगलूर
संपर्क - 080669 53790
http://www.tifr.res.in/


सौराष्ट्र विश्वविद्यालय राजकोट, गुजरात
0281-2576511, 2576030/40/50
http://www.saurashtrauniversity.edu/UserSideSaurashtr_Dyanamic/Default.aspx


अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़, उत्तरप्रदेश
संपर्क - 0571-2700935 / 0571-2706152 
https://www.amu.ac.in/

Next News

12वीं के बाद चिप डिजाइनिंग में करियर के लिए शानदार संभावनाएं

देश विदेश में स्मार्ट और इंटेलिजेंट डिवाइसेज की मांग बढ़ रही है। इसे देखते हुए इंटीग्रेटेड सर्किट यानी चिप डिजाइनिंग इंडस्ट्री में तेजी से ग्रो करने का

इंफोटेनमेंट के जमाने में रेडियो में बनाएं करियर

अब  रेडियो सूचना के माध्यम से आगे निकलकर मनोरंजन तक पहुच गया है। इंफोटेंटमेंट के इस माध्यम में अब आरजे की जिम्मेदारी भी पहले से बढ़ गई है।

Array ( )