जर्मन लैंग्वेज सीखने वालों के लिए भारत में कहां है मौके?

जर्मन लैंग्वेज सीखकर कई बड़ी MNCs में काम कर सकते हैं।

जर्मन लैंग्वेज सीखने वालों के लिए भारत में कहां है मौके?

एजुकेशन डेस्क। आजकल दूसरे देशों की लैंग्वेज को सीखने का ट्रेंड यूथ के बीच काफी बढ़ता जा रहा है। फॉरेन लैंग्वेज सीखने का सबसे ज्यादा फायदा जॉब और बिजनेस में मिलता है। जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर प्रियदा पाध्ये ने जर्मन लैंग्वेज के फायदे बताए। उन्होंने बताया कि जर्मन लैंग्वेज सीखकर यूथ न सिर्फ फॉरेन में बल्कि भारत में भी अच्छी जॉब और अपना बिजनेस स्टार्ट कर सकते हैं।

जर्मन लैंग्वेज से जुड़ी 2 बड़ी बातें

- दुनिया भर में 15 मिलियन से ज्यादा लोग जर्मन लैंग्वेज बोलते हैं। 
- इस लैंग्वेज को बालने वालों में से करीब 61% लोग यूरोपीय देशों से हैं। 

भारत-जर्मनी के बीच इतना है व्यापार 

- भारत और जर्मनी के बीच कुल व्यापार 18 बिलियन यूएस डॉलर से ज्यादा का है। ऐसे में जर्मन भाषा में रोजगार के अवसर काफी मजबूत हैं। 
- इसलिए अगर किसी का इंटरेस्ट एक फॉरेन लैंग्वेज और वहां के कल्चर को सीखने में है तो उसके लिए जर्मन लैंग्वेज एक अच्छा ऑप्शन हो सकती है। आने वाले समय में इस लैंग्वेज के जानकारों की मांग को देखते हुए अब भारत में भी कई इंस्टीट्यूट्स में इस भाषा के कोर्स पढ़ाए जा रहे हैं। 

यहां से कर सकते हैं पढ़ाई 

- देश में जर्मन भाषा के लिए डिग्री और शॉर्ट टर्म कोर्स सावित्री बाई फुले यूनिवर्सिटी-पुणे, इंग्लिश एंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी-हैदराबाद, जेएनयू-दिल्ली, दिल्ली यूनिवर्सिटी, मुंबई यूनिवर्सिटी, गांधीनगर यूनिवर्सिटी जैसे इंस्टीट्यूट्स से किए जा सकते हैं। 

जर्मन लैंग्वेज की पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप्स 

- जर्मन एकेडमिक एक्सचेंज इस लैंग्वेज की पढ़ाई को बढ़ावा देने के लिए स्कॉलरशिप ऑफर करता है और इसकी ब्रांचेज़ दुनिया के सभी बड़े शहरों में मौजूद हैं। 
- इसके अलावा बीकेडी, द गोएथे इंस्टीट्यूट जैसे संस्थानों की तरफ से इस सब्जेक्ट की पढ़ाई और रिसर्च के लिए स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप दी जाती है। 

इन कंपनियों में कर सकते हैं जॉब 

- जर्मन लैंग्वेज सीखकर अमेजन, गूगल, उबर, माइक्रोसॉफ्ट, इंफोसिस, विप्रो, मर्सडीज, बेयर जैसी कई मल्टी नेशनल कंपनियों में डेटा माइनिंग एक्सपर्ट, कल्चरल कोऑर्डिनेटर, लैंग्वेज एक्सपर्ट, मार्केटिंग मैनेजर जैसी पोस्ट पर काम कर सकते हैं। 

Next News

काउंसलर जितिन चावला से जाने एथिकल हैकिंग में कैसे बनाएं करियर

मैथ्स में 12वीं के बाद एथिकल हैकर बनने के लिए क्या करें? -प्रवीण

काउंसलर से जाने मेकैनिकल इंजीनियरिंग के बाद कहां है संभावनाएं

मेकैनिकल इंजीनियरिंग में बीई के बाद क्या स्कोप है? -रजत मेहता

Array ( )