Articles worth reading

अमेरिका में वीजा के सख्त नियम, फिर भी भारतीय स्टूडेंट्स की पहली पसंद

अमेरिका में पढ़ने वाले विदेशी छात्रों की संख्या के लिहाज से देखा जाए, तो भारत दूसरे स्थान पर है।

एजुकेशन डेस्क। अमेरिका में इस वर्ष उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश लेने वाले भारतीय छात्रों की संख्या कम हो सकती है। जॉब के लिए कड़े होते वीजा नियम इसका सबसे बड़ा कारण हैं। इसके कारण छात्रों के लिए पढ़ाई के बाद वहां जॉब हासिल करना मुश्किल होता जा रहा है। इस लिहाज से पढ़ाई का खर्च ज्यादा है। ऐसे में भारतीय छात्र अन्य देशों का रुख कर रहे हैं। हालांकि विदेश जाने वाले सबसे ज्यादा भारतीय छात्र अब भी अमेरिका में ही पढ़ाई कर रहे हैं। कड़े वीजा नियमों से विदेशों में पढ़ रहे छात्रों के लिए जॉब करना हुआ मुश्किल विदेशों में पढ़ाई की इच्छा रखने वाले भारतीय छात्रों के लिए अमेरिका और ब्रिटेन पसंदीदा देशों में शामिल रहे हैं। लेकिन अब पढ़ाई के बाद जॉब के लिए वहां रुकना मुश्किल होता जा रहा है। इन देशों में जॉब के लिए कड़े होते वीजा नियम इसका मुख्य कारण हैं। इसका सबसे ज्यादा असर अमेरिका जाने वाले छात्रों पर देखने को मिल रहा है। इसका नतीजा यह रहा है कि अमेरिका के उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश लेने वाले भारतीय छात्रों की संख्या कम हो रही है। हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट के मुताबिक इस वर्ष अमेरिका में पढ़ाई के लिए वीजा आवेदन करने वाले भारतीय छात्रों की संख्या 30 से 40 फीसदी तक कम हो सकती है।

अन्य देशों में बढ़े भारतीय छात्र

- कुछ देश ऐसे में भी हैं जहां पिछले वर्षों के मुकाबले प्रवेश लेने वाले भारतीय छात्रों की संख्या बढ़ी है। इसमें कनाडा, जर्मनी, फ्रांस और न्यूजीलैंड जैसे देश शामिल हैं। हालांकि कनाडा को छोड़ दिया जाए, तो इन देशों के उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश लेने वाले भारतीय छात्रों की संख्या अब भी अन्य देशों की अपेक्षा कम है। 

उच्च शिक्षण संस्थानों में भारतीय छात्रों की संख्या

देश

2016

2017

कनाडा

52,785

83,630

जर्मनी

13,740

15,529

फ्रांस

4,324

5,306

न्यूजीलैंड

-

2,578


यूके में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी

- पिछले 12 महीनों में दौरान यूनाइटेड किंगडम के लिए स्टूडेंट वीजा हासिल करने वाले छात्रों की संख्या में 28 फीसदी तक की बढ़ोतरी देखी गई है। इस दौरान 14 हजार 500 छात्रों ने यूनाइटेड किंगडम में पढ़ाई के लिए वीजा लिया। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया में भी भारतीय छात्रों की संख्या में इजाफा देखने को मिला है।
- 2017 में करीब 68 हजार 285 छात्रों ने ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई की, जो 2016 के अपेक्षा करीब 14 फीसदी तक ज्यादा है। वहीं 2018 में जनवरी-फरवरी में ऑस्ट्रेलिया में करीब 60 हजार 62 छात्र पढ़ाई कर रहे हैं। यह संख्या 2017 में इन्हीं महीनों के मुकाबले 17 फीसदी तक ज्यादा है।

अमेरिका में 2 लाख से ज्यादा भारतीय छात्र

- जॉब के लिए कड़े होते वीजा नियमों के बावजूद अब भी अमेरिका भारतीय छात्रों के लिए पसंदीदा देश बना हुआ है।
- हाल ही में जारी हुई एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में 2 लाख 11 हजार 703 भारतीय छात्र पढ़ाई कर रहे हैं।
- अमेरिका में पढ़ने वाले विदेशी छात्रों की संख्या के लिहाज से देखा जाए, तो भारत दूसरे स्थान पर है।
- 3 लाख 77 हजार छात्रों के साथ सबसे ज्यादा चीन के छात्र अमेरिका में पढ़ाई करते हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अमेरिका में पढ़ने वाले 49 फीसदी छात्र भारत और चीन से आते हैं।

अमेरिका में अन्य देशों के छात्र भी हुए कम

- अमेरिका में अन्य देशों से आने वाले छात्रों की संख्या भी घटी है। सऊदी अरब के करीब 10 हजार और दक्षिण कोरिया के 5,488 छात्र कम हो गए हैं। इसके अलावा यमन, म्यामार और कम्बोडिया जैसे देशों के छात्र भी कम हो गए हैं।

Next News

विदेश पढ़ने जा रहे हैं तो जरूर करवाएं ट्रैवल इंश्योरेंस

ट्रैवल इंश्योरेंस विदेश यात्रा बुकिंग के वक्त भी लिया जा सकता है।

कनाडा में स्टडी के लिए भारतीयों को 60 के बजाय 45 दिन में मिलेगा स्टूडेंट वीजा

जून से लागू हुए एसडीएस प्रोग्राम के तहत स्टूडेंट सभी डेजिग्नेटेड लर्निंग इंस्टीट्यूट्स में कॉलेज स्तर की शिक्षा पा सकेंगे।

Array ( )