NEET Exam 2018: सिलेक्शन पाना है तो इन टिप्स के साथ करें तैयारी

देश के बड़े मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन के लिए होने वाली नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेस एग्जाम NEET Exam 2018 पूरे देश में 6 मई को होगी। NEET Exam देश के कठिन एग्जाम्स में से एक माना जाता है।

एजुकेशन डेस्क । देश के बड़े मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन के लिए होने वाली नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेस एग्जाम NEET Exam 2018 पूरे देश में 6 मई को होगी। NEET Exam देश के कठिन एग्जाम्स में से एक माना जाता है। यदि आप एंट्रेंस एग्जाम में सफल होना चाहते हैं तो ये टिप्स आप के बहुत काम आ सकते हैं। आप को बता दें कि CBSE इस एग्जाम के लिए एडमिट कार्ड जारी कर चुका है।

ऐसे करें NEET की तैयारी

11वीं का सिलेबस देखें
NEET के सिलेबस पर गौर किया जाए तो जितना महत्वपूर्ण 12वीं का सिलेबस है, उतना ही महत्वपूर्ण 11वीं का सिलेबस भी है, पिछले वर्ष 11वीं से 352 अंकों के सवाल पूछे गए थे, वहीं 12वीं से 368 अंकों के सवाल थे, इसीलिए 12वीं के साथ ही 11वीं क्लास के सिलेबस पर भी ध्यान दें।

शॉर्टकट तरीके अपनाएं
NEET में सवालों को हल करने के लिए समय काफी कम होता है, इसलिए कम समय में ज्यादा सवाल हल करने के लिए शॉर्टकट तरीके को अपनाने की अभी से प्रेक्टिस करें, मॉक टेस्ट देते समय, शॉर्टकट तरीकों की भी प्रेक्टिस ज्यादा से ज्यादा करें इससे आप नर्धिारित समय में सभी सवालों को हल कर सकेंगे।

NCERT की किताबों से करें तैयारी
डेरिवेशंस को छोड़ दें। फॉर्मूला याद रखना ही काफी है। फिजिक्स की अपेक्षा केमेस्ट्री ज्यादा स्कोर हासिल करने में मदद करेगी खासतौर पर ऑर्गेनिक और नॉन- ऑर्गेनिक केमेस्ट्री। फिजिक्स में ध्यान रखें कि हीट एंड थरमोडायनामिक्स, प्रॉपर्टीज ऑफ मैटर, ऑप्टिक्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, सेमीकंडक्टर डिवाइसेस जैसे चैप्टर्स को बिलकुल न छोड़ें। ये चैप्टर्स छोटे और आसान हैं और एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे नंबर हासिल करने में मदद करेंगे।

पुराने पेपर्स देखें 
पुराने साल के पेपर्स को जरूर देख लें। पुराने साल के पेपर्स को सॉल्व कर आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि आपकी कितनी तैयारी हो चुकी है। पुराने पेपर्स को सॉल्व करते समय केवल जवाब ही न देखें बल्कि उसके पीछे के कॉन्सेप्ट को समझने की कोशिश करें। 

मॉडल टेस्ट पेपर्स की मदद लें 
एक बार तैयारी पूरी होने के बाद मॉडल टेस्ट पेपर्स को जरूर सॉल्व करें। ये एग्जाम पैटर्न को समझने में आपकी मदद करेंगे। मॉडल पेपर सॉल्व करते समय टाईम का ध्यान रखें।  इसे लेकर अपनी एक स्ट्रेटजी बनाएं। इसके अलावा जैसे-जैसे सवालों को सॉल्व करने की स्पीड बनती जाएगी आप खुद में एक बदलाव महसूस करेंगे। आप खुद को ज्यादा कॉन्फिडेंट पाएंगे।मॉक टेस्ट जरूरी
एग्जाम से कुछ दिन पहले तैयारी के लिए सबसे अच्छा तरीका होता है कि ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट में शामिल हों। बीते सालों के पेपर्स को सॉल्व करें। इससे आपकी प्रॉब्लम सॉल्व करने की स्ट्रेटजी बनेगी और टाइम मैनेजमेंट भी बेहतर होगा।

एक सवाल में न उलझें 
परीक्षा में फिजिक्स, कैमिस्ट्री और बायोलॉजी के कुल 180 ऑब्जेक्टिव सवाल पूछे जाते हैं। अगर आप किसी सवाल को सॉल्व नहीं कर पा रहे हैं और उसमें एक या दो मिनट से ज्यादा का समय लग रहा हो तो उसे छोड़कर आगे बढ़ जाएं ताकि आपका टाइम बरबाद ना हो। अगर आपको किसी सवाल के जवाब के दो ऑप्शन में कंफ्यूजन हो तो उसका जवाब देने से बचें। यह आपके लिए रिस्की हो सकता है। नेगेटिव मार्र्किंग के कारण स्टूडेंट्स को रिस्क नहीं लेना चाहिए।

टेंशन से बचे
एग्जाम से पहले टेंशन होना एक आम बात है। एक लेवल तक तो ये टेंशन ठीक है क्योंकि ये आपको अच्छी तैयारी करने के लिए प्रोत्साहित करता है, लेकिन अगर ये डिप्रेशन का रूप ले रहा है तो ये आपके लिए घातक साबित हो सकता है। बाकी बचे हुए दिनों के लिए टाइम टेबल बना लें और रणनीति के तहत तैयारी में जुट जाएं। इससे टेंशन अपने आप ही कम हो जाएगी। 

Next News

नीट 2018 : ओवरएज स्टूडेंट्स के एडमिट कार्ड जारी, 6 मई को होगा एग्जाम

सीबीएसई ने 25 साल से अधिक आयु के नीट देने वाले स्टूडेंट्स के एडमिट कार्ड जारी कर दिए हैं। इससे पहले एडिशनल बॉयोलाजी व अन्य पात्र स्टूडेंट्स के एडमिट कार्ड

NEET 2018: मॉक टेस्ट बढ़ाएगा स्कोर, फॉलो करें लास्ट मोमेंट्स टिप्स

पेपर को सॉल्व करने एलिमिनेशन टेक्नीक यूज कर सकते हैं। सभी क्वेशचन्स के ऑप्शन्स को ध्यान से पढ़ें। इनमें से गलत को अलग कर दें। फिर पॉसिबल आन्सर टिक करें।

Array ( )