UPSC Result 2018 : WHY फैक्टर से मिलता है मोटिवेशन—आदित्य मिश्रा

आदित्य कहते हैं कि एक ही चीज मोटिवेशन देती है, आईएएस क्यों बनना है। मुझे आईएएस इसलिए बनना है, क्योंकि आजादी के 70 साल बाद भी आम आदमी रोजमर्रा की चीजों के लिए संघर्ष कर रहा है।

एजुकेशन डेस्क । संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) 2017 का फाइनल रिजल्ट शुक्रवार को घोषित हुआ। भोपाल से इस परीक्षा में आदित्य मिश्रा को 158 वीं रैंक और अविरल शर्मा को 449 वीं रैंक हासिल हुई है। कैंपियन स्कूल से पढ़ाई के बाद मैनिट से मेकेनिकल इंजीनियरिंग कर चुके आदित्य मिश्रा को यूपीएससी में 158 वीं रैंक हासिल हुई है। इससे पहले इनका सिलेक्शन इंडियन रेवेन्यू सर्विस इंकम टैक्स में भी हो चुका है, लेकिन आईएएस की तैयारी के लिए विशेष छुट्टी ली। इस बार इन्हें आईपीएस बनने का मौका मिला है लेकिन सपना आईएएस बनने का ही है। 

ऑनलाइन रिसोर्सेज से की तैयारी 
आदित्य कहते हैं, मैंने ऑनलाइन रिसोर्सेज से तैयारी की क्योंकि यहां सिलेबस को बहुत अच्छे से हिस्सों में बांटकर समझाया गया है। इस परीक्षा की तैयारी क्यों कर रहे हैं, सबसे पहले यह तय करना जरूरी है क्योंकि पैसा, गाड़ी, बंगला यह फैक्टर्स सिर्फ छह महीने तक मोटिवेशन देंगे लेकिन सफल होने में सालों लग जाते हैं। इसलिए एक ही चीज मोटिवेशन देती है, आईएएस क्यों बनना है। मुझे आईएएस इसलिए बनना है, क्योंकि आजादी के 70 साल बाद भी आम आदमी रोजमर्रा की चीजों के लिए संघर्ष कर रहा है। 

बदलनी चाहिए महिलाओं की स्थिति
45 फीसदी महिलाएं एनीमिक और 50 फीसदी बच्चे कुपोषित हैं। यह स्थितियां प्रशासनिक पद पर आकर बदली जा सकती हैं। इंटरव्यू में अपनी हॉबी टीचिंग बताई तो फिर इसके बारे में मुझसे पूछा गया था। 

Next News

UPSC 2017: फर्स्ट अटैम्प्ट में ही पूरा हुआ उत्तराखंड की अपूर्वा का IAS बनने का सपना

उत्तराखंड से टॉप 50 में अपूर्वा पांडेय इकलौती कैंडिडेट हैं। वहीं दो अन्य कैंडिडेट्स भी रैंक हासिल करने में सफल रहे।

UPSC 2017: डॉक्टर बनने का था सपना यूपीएससी किया क्लीयर अब IAS बनेंगी ज्योति

आईएएस बनी ज्योति के पिता कहलगांव में रसकदम बनाते हैं। शहर के तीन अन्य युवा भी हुए सफल, नारायणपुर व एकचारी का नाम भी रोशन हुआ है।

Array ( )