देशभर के 4305 रिसर्च जर्नल्स की मान्यता रद्द, पैसे लेकर रिसर्च पब्लिश कर रही थी पत्रिकाएं

पैसे लेकर रिसर्च पब्लिश करने की लगातार मिल रही शिकायतें और मापदंडों पर खरा नही उतरने पर यूजीसी ने यह कार्रवाई की

एजुकेशन डेस्क। यूजीसी ने देशभर के 4305 रिसर्च जर्नल्स की मान्यता रद्द कर दी है। इनमें से इंदौर के 15 रिसर्च जर्नल्स , जिसमें 3 रिसर्च जर्नल्स देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी के भी हैं।
मापदंडों पर खरा नहीं उतरने के कारण यूजीसी ने यह कार्रवाई की। अब इनमें रिसर्च पेपर पब्लिश करने पर भी न तो नई नियुक्ति और न प्रमोशन में फायदा मिल सकेगा। 

क्यों जरूरी हैं जर्नल्स
सहायक प्राध्यापक की नियुक्ति में आवेदक के पीएचडी-नेट होने के साथ ही रिसर्च जर्नल्स में कम से कम 5 रिसर्च पेपर पब्लिश होना जरूरी है। यह मापदंड सहायक प्राध्यापक से रीडर, रीडर से प्रोफेसर और प्रोफेसर से प्राचार्य बनने के प्रमोशन में भी लागू है, पर नैक के दौरे में घटिया जनरल्स से बेहतरीन रिसर्च दिखाने की कोशिश होती है। 

- 40200 जनरल्स देशभर में मान्य थे 
- 4300 से ज्यादा की मान्यता खत्म की 
- 35 हजार से ज्यादा जनरल्स अब मान्य 
- 400 से ज्यादा इंदौर और आसपास के जिलों के 

रद्द किए गए रिसर्च जर्नल्स देखने के लिए यहां क्लिक करें

 

गड़बड़ियां ये भी : छापने के बदले लिए पैसे 

- इन जर्नल्स की लगातार शिकायतें मिल रही थीं। मापदंडों पर खरे नहीं उतर रहे थे। 
- इनमें से कई जर्नल्स प्रोफेसर या रिसर्च स्कॉलर्स से लेख छापने के बदले में पैसा लेते थे। 
- कुछ जर्नल्स के संपादकों के नाम-पते और ई-मेल तक नहीं दिए गए थे। 
- कई जर्नल्स की पब्लिकेशन पॉलिसी तक स्पष्ट नहीं थी। 
- न तो वेबसाइट थी और न यह सुनिश्चित था कि साल में कितने एडिशन निकलते हैं। 
- यूनिवर्सिटी सीधे कोई रिसर्च जर्नल्स नहीं निकालती है। हालांकि जो सहयोग से निकलते हैं, उन्हें अमान्य किया गया है तो इसकी जानकारी ली जाएगी। यूजीसी को भी इस बारे में अपना पक्ष भेजेंगे। - प्रो. नरेंद्र कुमार धाकड़, कुलपति 

 

क्वालिटी रिसर्च करना होगी 

- प्रोफेसर या स्कॉलर रिसर्च पेपर पब्लिकेशन में फर्जीवाड़ा नहीं कर सकेंगे। क्वॉलिटी रिसर्च करना होगी। 
- फर्जी या अमान्य जर्नल्स पर अंकुश लगने से डेटा चोरी पर अंकुश लगेगा। 
- रिसर्च पेपर पब्लिश करने के लिए अब सभी को रेडीमेड डेटा के बजाय खुद के आंकड़े जुटाना होंगे। 

 

इंदौर के इन जर्नल्स को किया अमान्य 

- इंटरनेशनल रिसर्च जर्नल फॉर क्वॉलिटी इन एजुकेशन 
- आंबेडकर जर्नल ऑफ सोशल जस्टिस एंड डेवलपमेंट (महू) 
- आंबेडकर सामाजिक विज्ञान शोध पत्रिका 
- रिसर्च लिंक शोध निधि मनस्वी इक्वेटर  इंटरनेशनल रिसर्च जर्नल ऑफ सोशल साइंस एंड रिसर्च आईएमआई- दिशा 
- इंडियन रिसर्च कम्युनिकेशन 
- आईजेसीआर (डीएवीवी) 
- इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फिजिकल एजुकेशन स्पोर्टस एंड यौगिक साइंस (डीएवीवी) 
- शब्द ब्रह्म 
- जर्नल ऑफ मप्र इकोनॉमिक्स एसोसिएशन (डीएवीवी) 
- इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फील्ड वेटरनरी (इंदौर) 

 

Next News

स्टूडेंट्स ने एडमिशन नहीं लिया, तो उसके डॉक्यूमेंट्स और फीस लौटानी होगी : MHRD

इंस्टीट्यूट्स अगर एडमिशन नहीं लेने वाले स्टूडेंट्स की फीस और डॉक्यूमेंट्स नहीं लौटाते हैं, तो उनकी मान्यता रद्द की जा सकती है।

UPSC प्रीलिम्स पास करने पर SC/ST को 1 लाख, हर महीने 15 किलो अनाज

बिहार कैबिनेट ने एजुकेशन लोन देने के लिए भी 100 करोड़ रुपए जारी किए हैं। इसके तहत स्टूडेंट्स को 4 लाख रुपए तक का लोन दिया जाएगा।

Array ( )