NEET 2018 : आखिरी टाइम में इन टिप्स को अपनाकर सुनिश्चित करें अपनी सफलता

नीट 2018 के लिए कुछ दिन ही शेष बचे हैं, ऐसे में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के नये टॉपिक्स को पढ़ने की बजाय जिन टॉपिक्स को आप पढ़ चुके हैं, उन्हें ही दोहराने पर विशेष ध्यान दें।

एजुकेशन डेस्क । नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET)  6 मई को होगा। NEET के लिए अब अपनी तैयारी को अंतिम रूप देने का वक्त आ गया है। ऐसे में बिना भटके अपनी तैयारी को सही रूप देना आपको सफल बना सकता है। इसलिए हम आपके लिए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए हैं जो आप के बहुत का आएंगे।

पढ़े गए टॉपिक्स का ही करें रिवीजन
नीट 2018 के लिए कुछ दिन ही शेष बचे हैं, ऐसे में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के नये टॉपिक्स को पढ़ने की बजाय जिन टॉपिक्स को आप पढ़ चुके हैं, उन्हें ही दोहराने पर विशेष ध्यान दें। अब तक आपने जो तैयारी की है, उसे पर्याप्त मान कर चलें और किसी भी प्रकार के नये टॉपिक या नई पुस्तक को हाथ न लगायें। तैयारी के इन अंतिम दिनों में नये टॉपिक को पढ़ना आपके आत्मवश्विास को डगमगा सकता है। अब तक पढ़े गये सभी टॉपिक को दोहराते समय एक शॉर्ट नोट बनाते चलें, जिसे परीक्षा में शामिल होने के कुछ घंटों पहले दोहरा सकें।

फॉर्मूलों का रखें ध्यान
किसी भी परीक्षा में सफलता पाने के लिए उससे संबंधित विषय के सैद्धांतिक पहलुओं को समझना बेहद जरूरी है। इसी के चलते किसी टॉपिक की तैयारी करते समय खास कर फॉर्मूलों पर आधारित चैप्टर का गहराई से अध्ययन करें। आखिरी वक्त में तैयारी करते समय फॉर्मूलों और बेसिक कंसेप्ट पर आपकी पकड़ तैयारी को आसान बना देती है और इससे परीक्षा हाल में जरूरी तथ्य याद रहते हैं।

एक ही सवाल पर ना अटकें
इस परीक्षा में तीनों विषयों यानी फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी से संबंधित सवाल पूछे जाएंगे। ऐसे में किसी भी विषय को नजरअंदाज करना ठीक नहीं। स्मार्ट तरीके से सभी विषयों की तैयारी आवश्यक है। तीन घंटे की इस परीक्षा में कुल 180 सवाल पूछे जाते हैं, जिसमें 90 बायोलॉजी और 45-45 फिजिक्स, केमिस्ट्री से होते हैं। चूंकि, परीक्षा में निगेटिव मार्किंग का प्रावधान भी है, ऐसे में सवालों का जवाब देते वक्त विशेष तौर पर सावधानी बरतें। अगर आप किसी सवाल को हल नहीं कर पा रहे हैं और उसमें एक या दो मिनट से ज्यादा का समय लग रहा है, तो बेहतर होगा कि आप उसे छोड़कर आगे बढ़ जायें, क्योंकि आपको निर्धारित समय में पूरा पेपर सॉल्व करना है।

आसान सवालों को पहले करें टारगेट
परीक्षा में कामयाबी हासिल करने के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण फैक्टर है। सभी विषयों में सबसे पहले ऑब्जेक्टिव टाइप के आसान सवालों का हल करना चाहिए। उसके बाद कुछ कठिन सवालों का और सबसे आखिर में कठिन सवालों का हल करना चाहिए। 

हल करें पुराने पेपर
सभी टॉपिक की तैयारी करने के बाद पिछले कुछ वर्षों के सवालपत्रों से अभ्यास जरूर करें। ऐसा करने से सवालों का स्तर और पैटर्न समझने में आसानी होती है। हाल के वर्षों में परीक्षा पैटर्न में बड़े बदलाव हुए, ऐसे में बीते पांच वर्षों के सवालपत्र मददगार होंगे। इससे आप उन महत्वपूर्ण अध्यायों को जान सकेंगे, जिससे अक्सर सवाल पूछे जाते रहे हैं। इसके अतिरिक्त इस सवालपत्रों को हल करने से आपकी टाइमिंग, स्पीड और एक्यूरेसी में सुधार होगा। सवालों को हल करने की स्पीड बढ़ेगी। आपको अपने कमजोर और मजबूत पकड़वाले टॉपिक्स की जानकारी हो जायेगी। साथ ही एग्जाम के माहौल में बैठने की आदत हो जाएगी।

स्कोरिंग है बायोलॉजी
नीट परीक्षा में जहां फिजिक्स और केमिस्ट्री सेक्शन में प्रत्येक से 45 सवाल पूछे जायेंगे, वहीं अकेले बायोलॉजी से 90 सवाल पूछे जाएंगे। ऐसे में बायोलॉजी आपके लिए स्कोरिंग विषय साबित हो सकता है। बायोलॉजी के सवालों को हल करते समय किसी भी तरह का तुक्का लगाने से बचें, क्योंकि गलत जवाब बड़ी समस्या खड़े कर सकते हैं। परीक्षा में इकोलॉजी व एनवायर्नमेंट, जेनेटिक्स, सेल बायोलॉजी, मॉर्फोलॉजी, रिप्रोडक्शन व प्लांट और एनिमल फिजियोलॉजी, बायोटेक्नोलॉजी जैसे टॉपिक से काफी सवाल पूछे जाते हैं। आप इन टॉपिक पर फोकस कर अपनी तैयारी को मजबूत बना सकते हैं।

न्यूमेरिकल पर जोर
न्यूमेरिकल सवालों का खूब अभ्यास करें, इससे अच्छा स्कोर करने में मदद मिलेगी। इसके अलावा सेमीकंडक्टर, कम्युनिकेशन सिस्टम, नेचर ऑफ मैटर, इलेक्ट्रिसिटी आदि टॉपिक पर पकड़ जरूर बनायें।

नकारात्मकता और तनाव से रहें दूर 
किसी भी स्टूडेंट के लिए हर विषय के सभी टॉपिक में समान रूप से पकड़ बनाये रखना मुश्किल होता है। ऐसे में अब जबकि परीक्षा के लिए मात्र 3 दिनों का समय बचा है, आपको उन टॉपिक्स पर ध्यान देने की जरूरत है, जिनमें आप बेहतर हैं। इस प्रकार उन टॉपिक्स पर आपकी पकड़ और मजबूत हो जायेगी और परीक्षा में आप अच्छे अंक हासिल कर पायेंगे। जिन विषय या टॉपिक में आप कमजोर हैं, उन पर अब ध्यान देने का समय नहीं बचा है, इसलिए उनके बारे में सोचकर परेशान न हों। डायग्राम, फॉर्मूला, ग्राफ आदि पर रोजाना कुछ समय अवश्य दें। इस तरह परीक्षा के दिन तक वे आपके मस्तिष्क में अच्छी तरह से बैठ जायेंगे और एकदम ताजा रहेंगे। परीक्षा हॉल में आपको उन्हें लेकर किसी प्रकार की दुविधा का सामना नहीं करना पड़ेगा।

Next News

NEET 2018 : MBBS & BDS के अलावा वेटरनरी कोर्स में भी मिलेगा एडमिशन

इस साल NEET 2018 की मेरिट लिस्ट का इस्तेमाल वेटरनरी साइंस एनिमल हसबेंडरी के कॉलेज में एडमिशन के लिए भी किया जाएगा। इस साल इनकी 15% सीटों पर NEET एग्जाम

NEET 2018: करना चाहते हैं अच्छा स्कोर, तो जरूर आजमाएं ये टिप्स

लास्ट मोमेंट्स में नर्वस या टेंशन में रहने की कोई जरुरत नहीं है बल्कि इसकी जगह अपना कॉन्फिडेंस बनाए रखें।

Array ( )