दर्जी के बेटे को मिला सबसे ज्‍यादा सैलरी पैकेज, बन गया कंपनी का एसोसिएट डायरेक्‍टर

हाल ही केरल के रहने वाले जस्टिल को 19 लाख रुपए का पैकेज मिला है। जस्टिन ने दूसरे IIM-नागपुर का एंट्रेंस एग्‍जाम क्लियर किया और फिर एमबीए में एडम‍िशन ले ल‍िया।

करियर डेस्क । अगर सच्‍ची लगन हो तो आपको मंजिल तक पहुंचने से कोई नहीं रोक सकता। ऐसा ही कुछ हुआ है 27 साल के  एक लड़के के साथ साथ ज‍िसे IIM- नागपुर के कैंपस प्‍लेसमेंट में सबसे ज्‍यादा 19 लाख का पैकेज म‍िला है। खास बात यह है कि उसके पिता पेशे से दर्जी हैं और बहुत मुश्किल से घर का खर्च निकाल पाते हैं। केरल के रहने वाले जस्टिन फर्नांडिज के घर की सालाना आमदनी मात्र 50 हजार रुपये थी। ऐसे में बमुश्किल ही घर का खर्च चल पाता था। लेकिन जस्टिन की आंटी जानती थीं कि श‍िक्षा कितनी जरूरी है। ऐसे में उन्‍होंने 12वीं तक जस्टिन की पढ़ाई का पूरा खर्चा उठाया। 

कंट्रोल के राशन से होता था गुजारा

कठिन दौर को याद करते हुए जस्टिन ने बताया, 'मेरे दादाजी दर्जी थे। जाहिर है मेरे पिता को भी यही काम करना पड़ा। लेकिन रेडिमेड गारमेंट के दौर में हमारे जैसे कई घर बर्बाद हो गए। कंट्रोल रेट पर म‍िलने वाले राशन से ही हम गुजारा करते थे।' केरल के कोल्‍लम के रहने वाले जस्टिन ने स्‍कॉलरशिप के सहारे सरकारी कॉलेज से बीटेक किया। इसके बाद उन्‍होंने दो सालों तक सॉफ्टवेयर कंप‍नी में काम किया और साथ-साथ वो एमबीए की भी तैयारी करते रहे। अपने दूसरे अटेंप्‍ट में उन्‍होंने IIM-नागपुर का एंट्रेंस एग्‍जाम क्लियर किया और फिर एमबीए में एडम‍िशन ले ल‍िया। 

बैच में रहे अव्वल
कोर्स पूरा होने के बाद जब प्‍लेसमेंट हुआ तो बेहतरीन एकेडमिक रिकॉर्ड वाले जस्टिन अपने बैच में अव्‍वल रहे। उन्‍हें हैदराबाद की वैल्‍यू लैब्‍स कंपनी ने बतौर एसोसिएट डायरेक्‍टर ज्‍वॉन करने का ऑफर दिया। साथ ही 19 लाख के सालाना पैकेज का ऑफर भी म‍िला। बता दें कि IIM-नागपुर में जस्टिन के अलावा किसी दूसरे स्‍टूडेंट को इतनी बड़ी पोस्‍ट और सैलरी ऑफर नहीं हुई है। 
 

Next News

कैंपस प्लेसमेंट : अगर होंगी ये खूबियां तो आपको चुनेंगी कंपनी, मिलेगी अच्छी सैलरी

कोर्स के बाद नौकरी पाने का सबसे अच्छा मौका होता है कैंपस प्लेसमेंट। कैंपस प्लेसमेंट के दौरान होने वाले इंटरव्यू में कंपनियां कैंडिडेट में कुछ खास खूबियां

नए नियम के अनुसार UGC फिजियोथेरेपी में योगा डिप्लोमा होल्डर्स को मिलेगी प्राथमिकता

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने योग विषय में डिप्लोमा धारकों को फिजियोथेरेपी के डिग्री में एडमिशन के लिए प्राथमिकता देना का फैसला किया है। एक विशेषज्ञ

Array ( )