स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा के लिए 6 महीने में बने पॉलिसी - सुप्रीम कोर्ट

यह निर्देश गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए बच्चे की हत्या के मामले में उसके पिता की ओर से दायर याचिका पर दिए गए हैं। उन्होंने ही यह मांग रखी थी।

एजूकेशन डेस्क । सुप्रीम कोर्ट ने देशभर में स्कूली बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए मानव संसाधन विकास (एचआरडी) मंत्रालय से छह महीने में विस्तृत नीति और दिशा-निर्देश तय करने को कहा है। यह निर्देश गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में हुए बच्चे की हत्या के मामले में उसके पिता की ओर से दायर याचिका पर दिए गए हैं। उन्होंने ही यह मांग रखी थी।

क्या था मामला?
- गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के बच्चे का मर्डर कर दिया गया था। बॉडी टॉयलेट में मिली थी। 
- इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था। आरोपी 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था।
- अशोक ने मीडिया को बताया था, ''मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। मैं बच्चों के टॉयलेट में था। वहां गलत काम कर रहा था। तभी वह बच्चा आ गया। उसने मुझे देख लिया। मैंने उसे पहले देखा धक्का दिया। फिर खींच लिया। वह शोर मचाने लगा तो मैं डर गया। फिर मैंने उसे दो बार चाकू से मारा। उसका गला रेत दिया।''

सीबीआई ने 11वीं के छात्र को बनाया था आरोप
- बाद में इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी। केंद्रीय जांच एजेंसी ने इस केस में 11वीं के एक छात्र को आरोपी बनाया था। 28 फरवरी को कोर्ट ने अशोक को बरी कर दिया था।
 

Next News

काउंसलिंग के बाद छात्रों को मिलेंगे सिचुएशन बेस्ड प्रोजेक्ट

सीबीएसई और केंद्रीय विद्यालय में स्टूडेंट्स को समर वेकेशन में होम असाइनमेंट दिए जाएंगे। इन असाइनमेंट की रिपोर्ट सब्जेक्ट टीचर को जुलाई में सब्मिट करनी

वरिष्ठ स्वास्थ्य मंत्रालय का आदेश अब स्कूलों में पढ़ाया जाएगा सेक्स एजुकेशन

वरिष्ठ स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार स्कूलों में हफ्ते में कम से कम एक पीरियड सेक्स एजुकेशन का हो। सेक्स एजुकेशन का मॉड्यूल टीनेजर्स से जुड़े इम्पोर्टेन्ट

Array ( )