सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर बनकर कर सकते हैं अच्छी कमाई

अपने प्रॉडक्ट के प्रमोशन के लिए कई बड़ी कंपनियां बॉलीवुड एक्टर्स के जगह सोशल मीडिया इंन्फलूएंजर का सहारा ले रही है

मासूम मीनावाला के इंस्टाग्राम अकाउंट पर 2 लाख फॉलोअर्स हैं। जब भी मासूम किसी फैशन ब्रांड को फीचर करते हुए कोई पोस्ट डालती हैं तो उन्हें 40 से 60 हजार रुपए की कमाई होती है। मीनावाला उन इंस्टाग्रामर्स में से एक हैं जो फैशन, ट्रैवल, फूड, फिटनेस, लाइफस्टाइल या अन्य किसी क्षेत्र के अपने अनुभवों को पोस्ट या फोटो के रूप में सोशल मीडिया पर अपने फॉलोअर्स के लिए शेयर करते हैं जैसाकि पहले ब्लॉगर कर रहे थे। मासूम असल में एक सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर हैं जिनकी मदद फैशन कंपनियां अपनी ब्रांडिंग या मार्केटिंग के लिए लेती हैं।

कई कंपनिया बॉलीवुड एक्टर्स के बजाए सोशल मीडिया इंफ्लूएंसर्स का ले रही सहारा

इंडिया इन्फ्लूएंसर रिपोर्ट 2018 के मुताबिक इस साल 90 प्रतिशत से ज्यादा मार्केटर्स अपने प्रॉडक्ट्स को लॉन्च करने के लिए बॉलीवुड स्टार्स या क्रिकेटर्स का सहारा लेने के बजाय इन्फ्लूएंसर्स की मदद लेंगे। असल में अपने प्रॉडक्ट्स के प्रमोशन के लिए अब एडवरटाइजर को सेलिब्रिटी उतना नहीं लुभा रहे जितना कि वे सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स को पसंद कर रहे हैं। इन्फ्लूएंसर मार्केटिंग प्लेटफॉर्म्स गेट इवेंजिलाइज्ड, इलेव व टेरारीच भी इससे सहमत हैं। उनके मुताबिक पिछले साल इंस्टाग्राम इन्फ्लूएंसर्स की संख्या में बढ़ोतरी हुई है और यह ट्रेंड इस साल भी बढ़ने वाला है। अच्छी बात यह है कि इस विकल्प के साथ दोहरा फायदा है। यानी एक इंस्टाग्राम फोटो या फेसबुक पोस्ट जो बेहतर अनुभवों और कंटेंट युक्त हो उससे बिजनेस के लिए न केवल बेहतरीन मार्केटिंग की जा सकती है बल्कि ऐसा करने वाले लोग इससे एक मजबूत करियर भी बना सकते हैं। 

कौन हैं इन्फ्लूएंसर्स 
ये बिल्कुल सामान्य मॉडल, फिटनेस/शॉपिंग एक्सपर्ट, शेफ, एथलीट या एक आम स्टूडेंट या प्रोफेशनल हैं। इन्फ्लूएंसर्स अपने फॉलोअर्स के लिए क्वालिटी कंटेंट तैयार करके उसे इंस्टाग्राम व दूसरे प्लेटफॉर्म्स पर शेयर करते हैं। यूट्यूब, फेसबुक, िट्वटर और खासतौर पर इंस्टाग्राम पर अपने अकाउंट पर अलग-अलग टॉपिक्स से जुड़ा कंटेंट या फोटो ये पोस्ट करते हैं। बड़ी संख्या में इनके फॉलोअर्स होते हैं जो इनकी पोस्ट या रिकमेंडेड प्रॉडक्ट्स/सर्विसेज को देखते हैं। 

क्यों हो रहे हैं पॉपुलर 
इन्फ्लूएंसर्स की लाखों लोगों से जुड़ने की क्षमता के चलते ब्रांड्स इन्फ्लूएंसर मार्केटिंग की ओर झुकाव महसूस कर रहे हैं। इमेज गुरु दिलीप चेरियन के मुताबिक इन्फ्लूएंसर्स सेलिब्रिटीज जितना चार्ज नहीं करते। इस वजह से भी विज्ञापनदाताओं की रुचि उनमें होती है। उनके जरिए ब्रांड को अच्छा एक्सपोजर मिलता है। लेकिन इन्फ्लूएंसर्स के प्रति कंपनियों का आकर्षण इस बात पर निर्भर करता है कि वे कितने वास्तविक हैं। इस वजह से ही बड़ी संख्या में ब्रांड इनसे जुड़ते हैं।

कितनी है कमाई 
मार्केट रिपोर्ट्स के मुताबिक इन्फ्लूएंसर्स इंस्टाग्राम पर एक विज्ञापन पोस्ट के लिए 40 से 60,000 रुपए कमा सकते हैं। इंस्टाग्रामर्स जिनके 2 से 9 हजार फॉलोअर्स हैं वे प्रति पोस्ट पर 4 से 16 हजार रुपए कमा सकते हैं। 5 लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर वाले इन्फ्लूएंसर्स कम से कम 1.5 लाख रुपए प्रति पोस्ट कमा सकते हैं। एनालिटिक्स प्लेटफॉर्म कैपटीवी8 के अनुसार यूट्यूबर्स जिनके 70 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं वे तीन लाख डॉलर यानी करीब 2 करोड़ कमा सकते हैं। 

कैसे चुने जाते हैं 
चेरियन कहते हैं, इन्फ्लूएंसर का अपने ऑडिएंस के साथ रिश्ता, ब्रांड के लिए महत्वपूर्ण होता है। किसी भी इन्फ्लूएंसर को चुनने से पहले उसका प्रोफाइल देखा जाता है। इसके बाद उनके पिक्चर्स, कंटेंट, फिल्टर्स, हैशटैग्स, फॉलोअर काउंट सभी कुछ देखा जाता है। यहां तक कि ब्रांड पेड फॉलोअर्स पर भी नजर रखते हैं ताकि पता लग सके कि जिस इन्फ्लूएंसर को चुना गया है वह वास्तव में लोकप्रिय है और उसका कोई फर्जी रिकॉर्ड नहीं है। 
अपने प्रॉडक्ट्स के प्रमोशन के लिए बॉलीवुड एक्टर्स व क्रिकेटर्स अब एडवरटाइजर को उतना नहीं लुभाते जितना कि वे सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स को पसंद कर रहे हैं। इसी के चलते इस नए कॅरिअर विकल्प को मजबूती मिली है। 

क्या करना होगा 
ऐसा कंटेंट तैयार करें, जो आपके पैशन को दिखाता हो। फोटो, वीडियो और टेक्स्ट इन्फ्लूएंसर के तौर पर आपकी भूमिका को मजबूत बनाएंगे। आपकी पोस्ट एंगेजिंग और अच्छे प्रजेंटेशन वाली होनी चाहिए। अपने आइडियाज या पोस्ट को सिर्फ डिजिटल मीडियम तक सीमित न रखें। अपने प्रोफाइल को एक ब्रांड के तौर पर विकसित कीजिए और इंडस्ट्री के लोगों व टार्गेट ऑडिएंस तक ऑफलाइन रूट्स के जरिए भी पहुंचिए। सही हैशटैग्स, कैप्शंस व ह्यूमर कंटेंट को मजबूत करेंगे। 
 

Next News

कम्युनिकेशन स्किल्स और डिजिटल लिटरेसी की बढ़ी डिमांड, जॉब में मिलेगा फायदा

जॉब पाने में कम्युनिकेशन स्किल्स निभाती है अहम रोल

बिहार पुलिस :SI भर्ती का अगला पड़ाव मेन एग्जाम, जाने क्या रहेगा खास

इस बार बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग दारोगा की परीक्षा ले रहा है जबकि पहले ये परीक्षा कर्मचारी चयन आयोग लेता था।

Array ( )