Articles worth reading

एमपी बोर्ड ने बढ़ाई एग्जाम फीस, सालाना 108 करोड़ की होगी कमाई

बोर्ड ने इस साल एग्जाम फीस 550 से बढ़ाकर 900 रुपए कर दिया है।

एजुकेशन डेस्क, भोपाल । माध्यमिक शिक्षा मंडल ने आगामी सत्र 2018-19 में स्टूडेंट्स की एग्जाम फीस में 61 %  तक का इजाफा कर दिया है। अब स्टूडेंट्स को 550 रुपए की जगह 900 रुपए एग्जाम फीस देनी होगी। फीस बढ़ाने से शिक्षा मंडल को हर साल 42 करोड़ रुपए का अतिरिक्त फायदा होगा जबकि पहले सिर्फ 21 करोड़ रुपए का फायदा होता था।

दूसरे राज्यों से कम है फीस
- फीस बढ़ाने के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल का तर्क है कि बोर्ड के खर्चे पहले से ज्यादा बढ़ गए हैं, फिर भी मध्य प्रदेश में दूसरे राज्यों की तुलना में कम एग्जाम फीस ली जाती है। दूसरो राज्यों के बोर्ड 2 से 3 हजार रुपए एग्जाम फीस लेते हैं।

20 लाख स्टूडेंट्स देते हैं परीक्षा
- मध्य प्रदेश में हर साल 10वीं और 12वीं के कुल 20 लाख स्टूडेंट्स एग्जाम देते हैं। 20 लाख स्टूडेंट्स में  से 12 लाख जनरल कैटेगिरी के स्टूडेंट्स होते हैं जिनसे पूरी फीस ली जाती है। इसमें से एससी-एसटी और विकलांग कोटा के स्टूडेंट्स को एग्जाम फीस में छूट दी जाती है।

बोर्ड कमाएगा 108 करोड़ सालाना
- पहले 550 फीस वसूलने से बोर्ड को 66 करोड़ रुपए मिलते थे वहीं अब 900 रुपए फीस करने से बोर्ड को सालाना 108 करोड़ रुपए की कमाई होगी।
 

Next News

ममता का NEET में गड़बड़ी का आरोप, जावड़ेकर को भेजी री- एग्जाम की चिट्‌ठी

ममता बनर्जी ने प्रकाश जावड़ेकर को लिखे लेटर में लिखा है कि स्टूडेंट्स को बंगाली में पेपर नहीं दिए गए।

NEET: एग्जाम में छात्रा के उतरवाए इनरवियर, घूरता रहा एग्जामिनर

एग्जाम में चेकिंग के नाम पर लड़कियों से उनके इनरवियर उतरवाए गए। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि एग्जामिनर बार-बार आकर उसे घूर रहा था, जिससे वो एग्जाम नहीं

Array ( )