आरजीपीवी : ऑनलाइन पेपर में आएंगे रीजनिंग, ऑब्जेक्टिव, न्यूमेरिकल और डिस्क्रिप्टिव के सवाल

यह व्यवस्था अप्रैल-मई में होने वाली सेमेस्टर परीक्षा से ही लागू होगी। पिछले साल दिसंबर में आयोजित की गई अॉनलाइन परीक्षा में विवि ने स्टूडेंट्स से केवल ऑब्जेक्टिव सवालाें ही पूछे थे।

एजूकेशन डेस्क । राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के लिए आयोजित किए जाने वाले ऑनलाइन थ्योरी पेपर में बहुवैकल्पिक, रीजनिंग, न्यूमेरिकल और डिस्क्रिप्टिव सवाल पूछे जाएंगे। यह व्यवस्था अप्रैल-मई में होने वाली सेमेस्टर परीक्षा से ही लागू की जा रही है। पिछले साल दिसंबर माह में आयोजित की गई अॉनलाइन परीक्षा में विवि ने स्टूडेंट्स से केवल ऑब्जेक्टिव सवाल ही पूछे थे। नई व्यवस्था के तहत विवि इस बार यूआईटी की इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रानिक्स, सिविल ब्रांच को भी जोड़ रहा है। अभी तक यह परीक्षाएं कंप्यूटर साइंस, पेट्रोकेमिकल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग ब्रांच के लिए ही हो रही थीं। विश्वविद्यालय ने नए प्रयोग के तहत इंजीनियरिंग की सेमेस्टर परीक्षाएं ऑनलाइन माध्यम से लेने की तैयारी की है। फिलहाल यह परीक्षाएं पायलट प्रोजेक्ट के रूप में विवि के यूआईटी में संचालित ब्रांचों के स्टूडेंट्स के लिए आयाेजित की जा रही है। इसके बाद यह पूरे प्रदेश में होगी।

यूनिवर्सिटी ने पेपर में पूछे जाने वाले सवालों के पैटर्न में बदलाव किया है। इसकी अधिकारिक घोषणा सोमवार को होगी। विवि के ऑटोमेशन कोआर्डिनेटर डॉ. मोहन सेन के अनुसार सब्जेक्टिव वाले हिस्से में स्टूडेंट्स को सवाल के जवाब लिखकर देंगे होंगे। इसके लिए शब्द सीमा तय रहेगी। न्यूमेरिक सवाल हल करने के लिए स्टूडेंट्स को अलग से की-पैड की व्यवस्था कराई जाएगी। हर सेक्शन में स्टूडेंट्स को विकल्प व इंटरनल च्वाइस दी जाएगी।

वैल्युअर को ऑनलाइन ही भेजेंगे पेपर

विवि सब्जेक्टिव सवालाें के उत्तरों का ई-वैल्यूएशन कराएगा। पेपर सबमिट करते ही विवि इन सवालों का वैल्यूएशन करने तुरंत वैल्यूअर को भेज देगा। हालांकि, ऑनलाइन पेपर के तहत स्टूडेंट्स को वैकल्पिक सवालाेंों का रिजल्ट तुरंत ही मिल जाएगा। लेकिन सब्जेक्टिव सवालाेंों का रिजल्ट देर शाम मिल सकेगा।

ऐसा रहेगा पेपर का नया पैटर्न

  • 15 ऑबजेक्टिव सवालाें होंगे। हर सवाल के लिए चार विकल्प दिए जाएंगे। हर एक सवालाें के लिए 2 नंबर रहेंगे ।
  • 10 रीजनिंग सवालाें होंगे। हर सवाल के लिए 2 विकल्प रहेंगे और हर एक के लिए तीन नंबर होंगे।
  • 5 न्यूमेरिकल आधारित सवालाें पूछे जाएंगे और प्रत्येक सवालाें के लिए 5 नंबर निर्धारित रहेंगे। स्टूडेंट्स के लिए इंटरनल च्वाइस रहेगी।
  • 5 डिस्क्रिप्टिव सवालाें होंगे। हर सवाल के उत्तर 250 शब्दाें में लिखने होंगे और हर एक सवालाें के लिए 4 नंबर रहेंगे। इसमें भी स्टूडेंट्स के लिए इंटरनल च्वाइस रहेगी।
Next News

जेएनयू में तैयार होंगे प्रशिक्षित पंडित और धार्मिक पर्यटन के एक्सपर्ट

जेएनयू में हाल ही में स्थापित स्कूल ऑफ संस्कृत एंड इंडिक स्टडीज (एसएसआईएस) ने इसका प्रस्ताव तैयार किया है। इस कोर्स में हर धर्म, जाति और समुदाय के छात्र

हायर एजुकेशन के लिए आएगी नई अथॉरिटी, सरकार बिल लाने तैयारी में

नई रेगुलेटर अथॉरिटी आ जाने के बाद UGC, AICTE और NCTE जैसी संस्थाएं खत्म हो जाएंगी।

Array ( )