कामयाबी कभी भी मार्क्स की मोहताज नहीं होती : रानी मुखर्जी

First Person : अभिनेत्री रानी मुखर्जी के मुताबिक अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए आपको खुद को लगातार प्रेरित करना होगा। अपने टैलेंट की कद्र करना सीखिए, कामयाबी खुद ही करीब आएगी।

एजुकेशन डेस्क । जब मैंने इंडस्ट्री में शुरुआत की तो लोग मेरी कम हाइट को लेकर बात किया करते थे, लेकिन मैंने इस कमजोरी को अपनी ताकत में बदल लिया। लोगों को लगता था कि मेरे पास एक्टर जैसी हाइट, लुक्स और आवाज नहीं है। तब मैंने अपने शारीरिक कद के बजाय उपलब्धियों की ऊंचाई पर ध्यान दिया। शुरुआत में ही मेरी अावाज पर भी कई सवाल उठाए गए, लेकिन मैंने इस पर काम किया और अपनी एक्टिंग को इससे प्रभावित नहीं होने दिया। दरअसल हर व्यक्ति में कुछ खूबियां व कुछ कमियां होती हैं। यह मुमकिन है कि लोग आपकी अच्छाइयों को नजरअंदाज कर आपकी कमियों का मजाक बनाएंगे। लेकिन कामयाब होने के लिए आपको इन्हीं कमजोरियों को अपनी ताकत बनाना होगा। याद रखें हरेक के आसपास कुछ ऐसे नकारात्मक लोग होते हैं, जो उसे आगे बढ़ने से रोकते हैं। ऐसे वक्त में आपके भीतर की सकारात्मकता ही आपको आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है और जब आप इन सारी बातों को नजरअंदाज करने के बाद सफल होते हैं तो सही मायने में अचीवर कहलाते हैं।

जिंदगी में आसानी से कुछ नहीं मिलता है

यह मत सोचिए कि जीवन में सब कुछ आपको आसानी से मिलेगा। याद रखें जब आप अपनी मंजिल के लिए निकलते हैं तो रास्ते में कुछ रुकावटें आती ही हैं। इन्हें पार करने के लिए आपको हर तरह से तैयार रहने की जरूरत होगी। हर स्थिति का सामना आपको अपने स्तर पर करना होगा।

सब कुछ भूलकर अपने गोल पर फोकस करें

जिंदगी में कई बार आपकी हिम्मत और खुद पर भरोसा दूसरों की नेगेटिव प्रतिक्रिया की वजह से डगमगाने लगता है। ऐसे में जरूरी है कि आप अर्जुन की तरह सब कुछ भूलकर सिर्फ अपने गोल पर फोकस करें। इससे सफलता की संभावना बढ़ जाएगी। लेकिन सेल्फ मोटिवेशन यहां बेहद जरूरी है। अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए आपको खुद को लगातार प्रेरित करना होगा। अपने टैलेंट की कद्र करना सीखिए, कामयाबी खुद ही करीब आएगी।

सफल होने के लिए टाॅपर हाेना जरूरी नहीं

जरूरी नहीं कि हमेशा टॉपर स्टूडेंट्स ही सफल हों। कई बार बेहद शरारती स्टूडेंट्स भी बेहतर प्रदर्शन कर जाते हैं। क्योंकि कामयाबी कभी भी मार्क्स की मोहताज नहीं होती, बल्कि यह आपकी प्रतिभा और उसे विकसित करने के लिए की गई मेहनत पर निर्भर करती है।

Next News

जब पहली बार मुंबई आया था तो जेब में सिर्फ 37 रुपए थे: अनुपम खेर

First Person : अभिनेता अनुपम खेर ने शेयर किए जीवन और फिल्मी करियर से जुड़े अनुभव।

सक्सेज के लिए अपनाइए 3 पी फॉर्मूला : अजीम प्रेमजी

FIRST PERSON: प्रो चेयरमैन अजीम प्रेमजी ने स्टूडेंट्स के लिए कुछ सलाह दी हैं जिनसे उन्हें जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलेगी।

Array ( )