हर इंटरव्यू में काम आएगी ग्रुप डिस्कशन की तैयारी 

जीडी के लिए कई स्टूडेंट्स इसके लिए अलग से कोचिंग भी लेते हैं लेकिन आप चाहें तो खुद ही अपनी तैयारी को मजबूत बना सकते हैं। यहां दिए गए टिप्स इस काम में आपकी मदद करेंगे।

करियर डेस्क । ग्रुप डिस्कशन (जीडी) अब लगभग सभी परीक्षाओं और जॉब इंटरव्यू की तैयारी का हिस्सा है। बैंकिंग व मैनेजमेंट जॉब्स के लिए तो ग्रुप डिस्कशन की बेहतरीन तैयारी करनी होती ही है, टॉप कॉलेजों में एडमिशन के लिए भी यह महत्वपूर्ण हो गया है। कई स्टूडेंट्स इसके लिए अलग से कोचिंग भी लेते हैं लेकिन आप चाहें तो खुद ही अपनी तैयारी को मजबूत बना सकते हैं। यहां दिए गए टिप्स इस काम में आपकी मदद करेंगे।

जीडी में काम आएंगे ये पॉइंट्स 

  • जितना हो सके सहज रहें। किसी को कॉपी करने के बजाय अपनी मौलिकता को बरकरार रखकर अपनी राय रखें। 
  • बॉडी पॉश्चर में आत्मविश्वास झलकना चाहिए। साथ ही अपनी बात रखने के अलावा दूसरों की राय को भी सम्मान देना होगा। 
  • बोलने में झिझकिए मत। शुरुआत अपनी राय से कीजिए। ऐसा करने पर आप अच्छा इंप्रेशन कायम कर पाएंगे।
  • किसी पॉइंट को दोहराएं नहीं। न ही उसे लंबा और उबाऊ बनाएं। अगर कोई अन्य ऐसा कर रहा हो तो उसे भी टोकें। 
  • सभी के साथ आई कॉन्टैक्ट बनाएं। इससे संवाद में सहजता होगी।
  • जब दूसरे बोलें तो उन्हें ध्यान से सुनें।  
  • दूसरे स्पीकर्स के विरोध में बोलें तो आपके पास मजबूत पॉइंट होना चाहिए। 
  •  कोट्स, फैक्ट्स, स्टेटमेंट्स का इस्तेमाल करें।
  • रोजमर्राकी जिंदगी के उदाहरणों का उल्लेख करके अपनी बात को मजबूती दें। 

इन बातों का भी ध्यान रखना होगा

  • जीडी के दौरान अपने गुस्से पर नियंत्रण रखें।
  • अपनी आवाज को तेज न रखें।
  • बोलने के समय एक ही तरह के जेश्चर न दर्शाएं। बल्कि जीडी के दौरान अपने हाव-भाव बदलते रहें।
  • दूसरे उम्मीदवारों को बीच में न टोकें। साथ ही किसी टॉपिक को जनरलाइज करने से बचें। 

कई हैं जीडी के फायदे  

  • ग्रुप डिस्कशन में न केवल उम्मीदवार की झिझक खत्म होगी, बल्कि वह अपना नजरिया भी दूसरे लोगों के सामने रख पाएगा। 
  • इससे आपकी सोचने की क्षमता व एनालिटिकल स्किल्स विकसित होती हैं। 
  • इससे कैंडिडेट को अपनी कमजोरी और ताकत का अंदाजा लगता है। 
  • यह प्रतिभागियों की नॉलेज को बढ़ाता है। 
  • यह टॉपिक्स को तर्कपूर्ण तरीके से समझने में मदद करता है।
Next News

बेहतर स्पीकिंग स्किल्स दे सकती हैं तरक्की

एक अच्छे स्पीकर का विश्वसनीय होना जरूरी है। जिसके लिए मजबूत स्पीकिंग स्किल्स के साथ-साथ उन गलत आदतों पर भी ध्यान देना होगा, जो आपके संवाद को खराब कर सकती

टेक्नोलॉजी सेक्टर में सफलता के लिए जरूरी चार स्किल 

पिछले कुछ सालों में टेक्नोलॉजी सेक्टर में बढ़ती जॉब्स की संख्या इस क्षेत्र की मजबूती की ओर इशारा कर रही है। ऐसे में यहां करियर शुरू करने वाले युवा पढ़ाई

Array ( )