बच्चे क्लास में पढ़ रहे या नहीं, मोबाइल पर देख सकेंगे पैरेंट्स

दिल्ली के 1028 सरकारी स्कूलों में 1 लाख 46 हजार 800 कैमरे लगाए जाएंगे। इस पर 597 करोड़ खर्च होंगे।

एजुकेशन डेस्क, नई दिल्ली। मार्च 2019 से पैरेंट्स अपने मोबाइल पर सीधे देख सकेंगे कि उनका बच्चा कक्षा में पढ़ाई कर रहा या नहीं। दिल्ली सरकार की व्यय एवं वित्त समिति ने सरकारी स्कूलों में कैमरे लगाने की मंजूरी दे दी है। अब यह प्रस्ताव कैबिनेट के सामने रखा जाएगा। जहां से स्वीकृति के बाद टेंडर जारी कर दिए जाएंगे। दिल्ली सरकार के लोक निर्माण विभाग के मंत्री सत्येन्द्र जैन ने बुधवार को यह जानकारी दी। जैन ने बताया कि प्रोजेक्ट मार्च 2019 तक पूरा कर दिया जाएगा। सब कुछ ठीकठाक रहा तो अगले वर्ष से अभिभावकों को उनके बच्चे की कक्षा की गतिविधियों को मोबाइल पर देखने की सुविधा मिलना शुरू हो जाएंगी। 

 

1028 स्कूलों में लगेंगे 1.46 लाख कैमरे 

- दिल्ली के 1028 सरकारी स्कूलों में 1 लाख 46 हजार 800 कैमरे लगाए जाएंगे। इस पर 597 करोड़ खर्च होंगे। कैमरे के मेंटनेंस की जिम्मेदारी 5 साल तक प्रोजेक्ट पर काम करने वाली एजेंसी की होगी। कैमरे हर कक्षा और ओपन एरिया में लगेंगे। इनकी लाइव मॉनिटरिंग के लिए प्राचार्य के कक्ष में एलईडी स्क्रीन लगेंगी। यहां से प्राचार्य बच्चों की गतिविधियों पर नजर रख सकेंगे। 

 

एप से बच्चों की गतिविधियों पर रख सकेंगे नजर 

- बच्चों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए माता-पिता को एप डाउनलोड करना होगा। उनके बच्चों की कक्षा का वीडियो देखने के लिए उन्हें यूजर आईडी और पासवर्ड दिया जाएगा। कैमरों की रिकार्डिंग सभी स्कूलों में 30 दिन तक सुरक्षित रहेगी। सरकार बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और स्कूलों की मॉनिटरिंग को पुख्ता बनाने के लिए लंबे समय से कैमरे लगाने की कार्रवाई कर रही है। 


 

10वीं-12वीं में कैट के जरिए होगा बाहरी छात्रों का दाखिला 
- दिल्ली सरकार के 1000 स्कूलों में 10वीं और 12वीं मेंे दाखिला लेने वाले बाहरी छात्रों के लिए शिक्षा निदेशालय ने गाइडलाइंस जारी कर दी है। इन छात्रों का दाखिला कॉमन एडमिशन टेस्ट (कैट) के जरिए होगा। इस साल 10वीं बोर्ड की परीक्षा है, इसलिए छात्रों के अंकों के आधार पर दाखिला होगा। पहले ग्रेड के आधार पर दाखिला होता था। 10वीं और 12वीं के लिए 12 जून को एडमिशन टेस्ट होगा। 10वीं के लिए सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक और 12वीं के लिए सुबह 10 से 11.30 बजे तक एडमिशन टेस्ट होगा। 



दिल्ली सरकार ने शुरू की पहल, 30 जून तक 5 हजार शिक्षकों को दिया जा रहा है प्रशिक्षण

दिल्ली सरकार के सभी 1000 स्कूलों में नर्सरी से पांचवीं कक्षा के 3करीब 3 लाख बच्चों को क्राफ्ट, खेल और म्यूजिक के जरिए हिंदी, अंग्रेजी और गणित जैसे विषय पढ़ाए जाएंगे। इसके लिए शिक्षा निदेशालय की ओर से 30 जून तक 5 हजार असिस्टेंट टीचरों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। शिक्षा निदेशालय की निदेशक सौम्य गुप्ता ने बताया कि बच्चों के मनोविज्ञान और उनकी शिक्षा पद्धति को समझते हुए उन्हें इन विषयों को बेहतर तरीके से पढ़ाने के लिए यह योजना बनाई गई है। शिक्षक बच्चों को एनवायरमेंटल स्टडीज के बारे में भी जानकारी देंगे। 

Next News

CLAT: 80 मॉक टेस्ट देकर क्लैट में हासिल किए 157.5 मार्क्स

मैंने इन 90 दिनों के लिए प्लान किया कि जितने ज्यादा मॉक टेस्ट दूंगा, खुद की कमियों को सुधार पाऊंगा।

सरकार की इस स्कीम से मिलेगा 20 लाख का एजुकेशन लोन, ऐसे करें अप्लाय

एजुकेशन लोन और स्कॉलरशिप से जुड़ी जानकारी के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री विद्या लक्ष्मी योजना की शुरुआत की है, जिसके तहत स्टूडेंट्स 20 लाख रुपए तक का लोन

Array ( )