ग्लोबलाइजेशन के साथ ही बढ़ रही है उर्दू जानने समझने वालों की डिमांड 

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के उर्दूविभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. नदीम अहमद का मानना है कि ग्लोबलाइजेशन के साथ ही देश-विदेश में उर्दू के जानकारों की बढ़ती मांग के साथ ही यह रोजगार के अच्छे मौके उपलब्ध करा रही है।

एजूकेशन डेस्क । उर्दू अब किस्से, कविताओं में इस्तेमाल होने वाली भाषा से कहीं आगे बढ़कर रोजगार से जुड़ा विषय हो गया है। ग्लोबलाइजेशन के साथ ही देश-विदेश में उर्दू भाषा के जानकारों की बढ़ती मांग के साथ ही यह युवाओं के लिए रोजगार के अच्छे मौके उपलब्ध करा रही है। इसी मांग को देखते हुए अब उर्दू सीखने में लोगोंकी दिलचस्पी भी बढ़ी है। ये कहना है डॉ. नदीम अहमद, एसोसिएट प्रोफेसर उर्दूविभाग, जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी का । उन्होने बताया कि जहां तक अवसरों की बात है तो इस भाषा के जानकारों के लिए लेखक, शिक्षक, आईएएस, आईएफएस जैसी ऑपर्च्यूनिटीज भी खुली हैं। यही नहीं कॉलेज- यूनिवर्सिटी लेवल पर उर्दू पढ़ाने वाले योग्य टीचर्स की भी डिमांड की जा रही है।

उर्दू का प्रमोशन करने वाली बड़ी संस्थाएं
डॉ. नदीम अहमद ने बताया कि देश में उर्दू के प्रमोशन के लिए एनसीपीयूएल, दिल्ली उर्दू अकादमी व कई अन्य राज्यों की उर्दू अकादमी काम कर रही हैं। इन संस्थाओं में बड़ी संख्या में लोगों को उर्दू सिखाई जाती है। इतना ही नहीं ये रोजगार भी दिलाती हैं। 

एक्सपर्ट्स के लिए जॉब के मौके
जब उनसे इस फील्ड में करियर के बारे में पूछा गया तो उन्होने बताया कि उर्दू में स्टूडेंट्स जहां प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में लैंग्वेज एक्सपर्ट, एडिटर, रिपोर्टर के तौर पर करिअर बना सकते हैं वहीं हिंदी, अंग्रेजी, फ्रेंच समेत कई दूसरी भाषाओं से उर्दू में अनुवाद के लिए एमएनसी में ट्रांसलेटर्स की जरूरत होती है। बीपीओ के अलावा गूगल, फेसबुक ही नहीं म्यूजिक, स्क्रिप्ट राइटिंग जैसे क्रिएटिव फील्ड में भी हमेशा इनकी जरूरत होती है। 

यहां से कर सकते हैं पढाई
देश में उर्दू की पढ़ाई के लिए टॉप संस्थानों में जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी, मौलाना अजाद नेशनल उर्दू यूनिवर्सिटी, डीयू, जेएनयू शामिल है। विदेश में एशियन लैंग्वेज एंड लिटरेचर, फेडरल उर्दू यूनिवर्सिटी ऑफ आर्ट्स साइंस एंड टेक्नोलॉजी, साउथ एशियन लैंग्वेज इन अमेरिकन यूनिवर्सिटी जैसे संस्थानों से उर्दू भाषा की पढ़ाई की जा सकती है।

Next News

एमसीए के बाद कहां हैं मौके बता रहे हैं काउंसलर जितिन चावला

एमसीए के बाद करियर की क्या संभावनाएं हैं, मुझे गाइड करें ? -अमित कश्यप

क्रिटिकल थिंकिंग के साथ हिस्ट्री पढ़ेंगे तो एग्जाम में आपकी सफलता पक्की

 दिल्ली यूनिवर्सिटी की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. पारुल पंड्या धर कहती है, हिस्ट्री पढ़कर आपको एक समाज की सांस्कृतिक, आर्थिक और राजनैतिक परिस्थितियों को समझने

Array ( )