Articles worth reading

कभी कोचिंग नहीं की, हिस्ट्री में इन्ट्रेस्ट ने यश को बनाया सिटी टॉपर 

इस बार भी ह्यूमेनिटीज सब्जेक्ट के स्टूडेंट ने किया ओवरऑल 12वीं में टॉप

एजुकेशन डेस्क, भोपाल। स्टूडेंट्स को अगर उनके मनपसंद सब्जेक्ट के साथ आगे बढ़ने की छूट दी जाए, तो वे पढ़ाई को भी उतना ही एन्जॉय करते हैं, जितना कि खेल-कूद और दूसरी एक्टिविटीज को। इस बार आईएससी एग्जाम में भोपाल में टॉप करने वाले द संस्कार वैली स्कूल के ह्यूमेनिटीज स्ट्रीम के स्टूडेंट यश गुप्ता ने इस एग्जाम में 98.50 प्रतिशत स्कोर किए। यश ने कोई कोचिंग नहीं की, बस हिस्ट्री सब्जेक्ट पसंद था, इसलिए 10वीं में अच्छे मार्क्स आने के बावजूद पैरेंट्स को ह्यूमेनिटीज सब्जेक्ट लेने के लिए कन्विंस किया और पढ़ाई की। 
मल्टीपल लैंग्वेज और कल्चर एक्सपर्ट के रूप में पहचाने जाने का सपना देखने वाले यश ने इतिहास, सायकोलॉजी और पॉलिटिकल साइंस में 100/100 स्कोर किए। खास बात यह कि महज 17 साल की उम्र में यश ने जापानी संस्कृति पर रिसर्च की है। इसके अलावा नॉर्थ कोरिया, इजिप्टियन कल्चर, ग्रीक कल्चर, मेसोपोटामियन कल्चर, रोमन कल्चर और बुद्धिस्ट बिलीफ जैसे विषयों की भी वे अच्छी-खासी समझ रखते हैं। 

सीआईएससीई ने सोमवार को जारी किया था 10th और 12th का रिजल्ट 
-काउंसिल फॉर इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआईएससीई) के इंडियन सर्टिफिकेट सेकंडरी एजुकेशन यानी 10वीं क्लास और इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट यानी क्लास 12वीं के परीक्षा परिणाम सोमवार को जारी किए गए। जिनमें आईएससी में द संस्कार वैली स्कूल के यश गुप्ता ने 98.50 प्रतिशत मार्क्स स्कोर कर सिटी में टॉप किया। वहीं आईसीएसई में भी द संस्कार वैली के दिव्यांश अग्रवाल और जाह्नवी गुप्ता 97.80 प्रतिशत अंकों के साथ शहर के टॉपर बने। 


टॉपर्स व्यू

मेरे सब्जेक्ट की मेरे स्ट्रेस बस्टर : यश गुप्ता  (98.50% स्ट्रीम - ह्यूमेनिटीज)
- यश ने कहा, मैं बोर्ड की तैयारी 11वीं क्लास से ही कर रहा हूं। मेरे सब्जेक्ट ही मेरे स्ट्रेस बस्टर हैं। मैं जब भी बोर होता हूं, अलग-अलग लैंग्वेजेस और दूसरे कल्चर के बारे में पढ़ता हूं। अब अगला टारगेट जापानी लैंग्वेज एंड कल्चर पर रिसर्च करने का है। 
छह देशों के कल्चर पर स्टडी कर चुका संस्कार वैली का यश गुप्ता आईएससी का सिटी टॉपर 


पहले स्ट्रॉन्ग सब्जेक्ट की तैयारी : (अग्निता निमजे - 97.75% स्ट्रीम - साइंस) 
- मैं पढ़ाई को बोरिंग नहीं बनाती, स्टडी के बीच में डांस और एरोबिक्स करती हूं। फिजिक्स वीक था, इसलिए सबसे पहले स्ट्रॉन्ग सब्जेक्ट तैयार किए, बाद में फिजिक्स की तैयारी की। मेरा मानना  है कि सभी चीजों को एन्जॉय करते हुए पढ़ाई को कन्टीन्यू रखना चाहिए। 

बोर्ड के पुराने पेपर सॉल्व किए : (सृष्टि अग्रवाल - 97.50% स्ट्रीम - कॉमर्स) 
- मैंने आखिरी के दो महीने में खुद को रिलेक्स रखने के लिए पूरे साल लगातार तैयारी की। रोजाना 6 घंटे पढ़ाई और प्रैक्टिस पर फोकस किया। एग्जाम के लिए बोर्ड के पुराने पेपर्स भी सॉल्व किए, ताकि एग्जाम हॉल में स्ट्रेस के साथ सवालों को हल करने की प्रैक्टिस कर सकूं। 

इंटरनल एग्जाम का एनालिसिस : (दिव्यांश अग्रवाल, क्लास 10वीं, 97.80%) 
- मैंने प्रिपरेशन इंटरनल एग्जाम्स से की। इंटरनल में जैसे मार्क्स आते, उसके अकॉर्डिंग प्रिपरेशन पर फोकस किया। थ्योरेटीकल पार्ट में मुझे काफी मेहनत करनी पड़ी। मैंने 6-7 घंटे वीडियो गेम  खेला, टीवी देखी। खुद को रिफ्रेश करने के लिए अरिजीत सिंह के गाने सुने। 

बोर होने पर आइसक्रीम खाई : (जाह्नवी बत्रा, क्लास 10वीं, 97.80%) 
- मैथ्स वीक है और इसी में प्रिपरेशन लीव नहीं मिली। पूरे साल सब्जेक्ट्स को क्लासरूम स्टडी के साथ रिवाइज किया। आखिरी के दो महीने पुराने पेपर्स सॉल्व किए। पैरेंट्स की तरह डॉक्टर  बनना है। जब भी पढ़ाई से बोर होती थी, पैरेंट्स रात में आइसक्रीम खिलाने ले जाते थे। 

स्ट्रीम वाइज टॉपर्स 

ह्यूमेनिटीज  
- यश गुप्ता 98.50% 
- आहना रंजन 97.25% 
- देवक नामधारी 96.25% 
- सिद्धि निगम 96.25% 

साइंस 
- अग्निता निमजे 97.75% 
- ऐश्वर्या नायर 97.75% 
- उन्नति गोयल%96.50% 
- अथर्व निगम - 96% 

कॉमर्स 
- सृष्टि अग्रवाल- 97.50% 
- अंशिका मोटवानी - 97% 
- अर्सलान ताहिर - 96% 
 

Next News

एमपी बोर्ड: छोटे शहरों के स्टूडेंट्स ने भोपाल और इंदौर को पीछे छोड़ा

इस रिजल्ट की सबसे खास बात यह रही है छोटे शहरों के स्टूडेंट्स ने टॉपर लिस्ट शामिल होकर भोपाल और इंदौर जैसे बड़े शहरों को पीछे छोड़ दिया है।

चिकनपॉक्स जैसी बीमारी कर देती है स्टूडेंट्स का साल खराब

स्टूडेंट्स को एग्जाम से वंचित कर कॉपी भी जला देते हैं

Array ( )