NEET 2018: गाइडलाइन, ड्रेस कोड और एग्जाम से जुड़ी हर बड़ी बात

2017 में AIPMT को खत्म करके NEET को शुरू किया गया था। इसके जरिए देश के सभी मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन मिलता है।

एजुकेशन डेस्क। नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) का एग्जाम रविवार को हागा। ये एग्जाम सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) की तरफ से कंडक्ट कराया जाता है और इसके जरिए स्टूडेंट्स को मेडिकल कोर्सेस में एडमिशन मिलता है। इस साल 13 लाख से ज्यादा कैंडिडेट्स इस एग्जाम को दे रहे हैं। अब क्योंकि एग्जाम में कुछ ही घंटों का वक्त बचा है तो ऐसे में स्टूडेंट्स को अपनी प्रीपरेशन और बाकी चीजों को लेकर थोड़ा टेंशन हो रहा है। इसीलिए bhaskareducation.com एग्जाम से पहले कैंडिडेट्स को गाइड करने के लिए इस एग्जाम से जुड़ी हर वो बात बता रहा है, जिसे जानना हर कैंडिडेट के लिए बेहद जरूरी है।

1. एग्जाम टाइम और ड्यूरेशन

- NEET का एग्जाम रविवार यानी 6 मई को होगा। ये एग्जाम सुबह 10 बजे शुरू होगा और दोपहर के 1 बजे तक चलेगा। जबकि एग्जाम हॉल में कैंडिडेट्स का रिपोर्टिंग टाइम सुबह 7:30 बजे शुरू होगा और 9:30 बजे तक ही हॉल में एंट्री मिलेगी। 
- 9:30 बजे के बाद किसी भी कैंडिडेट्स को हॉल में एंट्री नहीं मिलेगी। इसके बाद 9:45 बजे कैंडिडेट्स को बुकलेट बांटी जाएगी। इतना ही नहीं 3 घंटे के एग्जाम के दौरान किसी भी कैंडिडेट को हॉल से बाहर जाने की परमिशन नहीं होगी।

2. एग्जाम हॉल में क्या लेकर जाएं?

- एडमिट कार्ड : घर से एग्जाम के लिए निकलने से पहले अपना एडमिट कार्ड जरूर चेक कर लें। एडमिट कार्ड डाउनलोड करने के लिए cbseneet.nic.in पर जाएं। इसके साथ ही अपने साथ एक्स्ट्रा पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ भी जरूर लेकर जाएं।
- आईडी प्रूफ : कैंडिडेट्स अपने साथ भारत सरकार द्वारा जारी किया गया कोई भी एक आईडी प्रूफ अपने साथ जरूर लेकर जाएं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार, आधार कार्ड अपने साथ ले जाना जरूरी नहीं है, तो ऐसे में वोटर आईडी या लाइसेंस अपने साथ ले जा सकते हैं। जबकि एनआरआई कैंडिडेट्स और फॉरेन कैंडिडेट्स अपने साथ पासपोर्ट जरूर ले जाएं।

3. एग्जाम हॉल में क्या न लेकर जाएं?

- कैंडिडेट्स अपने साथ पेन, पेंसिल, प्लास्टिक बैग या पाउच, स्केल, कैलकुलेटर्स, रबर जैसी कोई भी स्टेशनरी न लेकर जाएं। कैंडिडेट्स को एग्जाम हॉल के अंदर ही बॉल-प्वॉइंट पेन दिए जाएंगे। 
- अपने साथ वॉच, कैमरा, इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स, मैटेलिक आइटम्स, वॉलेट, बेल्ट, चश्मे और हैंडबैग्स को भी न लेकर जाएं। 
- इसके अलावा किसी भी तरह की एसेसरीज या ज्वैलरी आइटम्स जैसे- नोस पिन्स, रिंग्स, ईयररिंग्स, नेकलेस भी न लेकर जाएं और न ही पहनें। किसी भी तरह के ज्वैलरी आइटम्स को अवॉयड करना ही बेहतर होगा।

4. सबसे जरूरी : ड्रेस कोड का ख्याल

- एग्जाम हॉल में ड्रेस कोड का ख्याल जरूर रखें। हॉल में हाफ स्लीव और हल्के रंग के कपड़े पहनकर ही आना होगा।
- एग्जाम में जूते पहनकर आने की सख्त मनाही है। कैंडिडेट्स चप्पल पहनकर आ सकते हैं। हालांकि, हल्की हील्स वाली सैंडल भी पहनी जा सकती है, लेकिन वो जूते की तरह नहीं होनी चाहिए।
- धार्मिकता से जुड़ा पहनावा जैसे कि बुर्का या पगड़ी पहनने वाले कैंडिडेट्स कोगाइड एग्जाम शुरू होने से 1 घंटा पहले एग्जाम सेंटर पर रिपोर्ट करना होगा।

इस साल 13 लाख से ज्यादा कैंडिडेट्स, एक ट्रांसजेंडर भी

- साल 2018 में होने वाले NEET एग्जाम में 13 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स हिस्सा ले रहे हैं। इसमें 7,46,076 फीमेल कैंडिडेट्स और 5,80,648 कैंडिडेट्स शामिल हैं। जबकि एक ट्रांसजेंडर कैंडिडेट भी NEET एग्जाम दे रहा है।
- रविवार को होने वाले इस एग्जाम के लिए देशभर के 136 शहरों में 2,225 एग्जाम सेंटर्स बनाए गए हैं। बता दें कि एग्जाम का रिजल्ट 5 जून तक डिक्लेयर किया जा सकता है और इसी के बाद आगे की प्रोसेस शुरू होगी।

NEET एग्जाम से जुड़ी 3 बड़ी बातें

- साल 2016 से पहले तक मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम को ऑल इंडिया प्री-मेडिकल टेस्ट (AIPMT) कहा जाता था। जिसमें गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेजों की 15% एमबीबीएस और बीडीएस की सीटों को भरा जाता था, जबकि बाकी की 85% सीटें स्टेट गवर्नमेंट अपने एंट्रेंस एग्जाम के जरिए भरती थी। इसके साथ ही प्राइवेट कॉलेज भी अलग से एंट्रेंस टेस्ट लेते थे।
- इतने सारे एग्जाम्स की जगह 2017 में NEET का कॉन्सेप्ट आया और इसी साल पहली बार देशभर में ये एग्जाम हुआ। इस एग्जाम के जरिए ही स्टूडेंट्स को प्राइवेट और गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन मिलता है। 
- NEET एग्जाम के जरिए AIIMS, JIPMER और AFMC को छोड़कर बाकी सभी गवर्नमेंट और प्राइवेट मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में एडमिशन मिलता है। 

Next News

NEET 2018: करना चाहते हैं अच्छा स्कोर, तो जरूर आजमाएं ये टिप्स

लास्ट मोमेंट्स में नर्वस या टेंशन में रहने की कोई जरुरत नहीं है बल्कि इसकी जगह अपना कॉन्फिडेंस बनाए रखें।

NEET 2018: फिजिक्स के पेपर से तय होगी रैंक, 180 में से 110 आसान सवाल

फिजिक्स के क्वेश्चंस ने कैंडिडेट्स को परेशान किया। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इस साल कटऑफ कम हो सकता है।

Array ( )