13.36 लाख स्टूडेंट्स देंगे नीट,  पिछले साल 11.50 लाख स्टूडेंट्स ने दी थी परीक्षा

इस साल मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम नीट में कॉम्पीटिशन का लेवल और बढ़ जाएगा। इस साल करीब 13.36 लाख स्टूडेंट्स नीट की परीक्षा देंगे। दूसरी ओर, एडमिशन के लिए करीब 60 हजार सीट हीं हैं। पिछले साल 11.50 लाख स्टूडेंट्स ने नीट की परीक्षा दी थी।

एजुकेशन डेस्क | इस साल मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम नीट में कॉम्पीटिशन का लेवल और बढ़ जाएगा। इस साल करीब 13.36 लाख स्टूडेंट्स नीट की परीक्षा देंगे। दूसरी ओर, एडमिशन के लिए करीब 60 हजार सीट हीं हैं। पिछले साल 11.50 लाख स्टूडेंट्स ने नीट की परीक्षा दी थी। सीबीएसई की ओर से नीट 6 मई को आयोजित की जाएगी। 

कट ऑफ भी जा सकता है हाई
कॉम्पीटिशन बढ़ने के कारण इस साल नीट की कट ऑफ बढ़ सकती है। वहीं अधिक स्टूडेंट्स को भी क्वालीफाई किया जा सकता है। दरअसल, नीट का यह लगातार दूसरा साल है। इससे पहले नीट अलग अलग फेज में हुआ था। नीट के पेपर और काउंसलिंग के बाद इस परीक्षा पर स्टूडेंट्स का भरोसा बढ़ा है। वहीं अब सभी स्टेट के अपने एंट्रेंस टेस्ट भी बंद कर दिए हैं। प्राइवेट कॉलेज में भी दाखिला भी नीट क्वालिफाइड करने वालों को ही मिलेगा। इस साल यह संख्या बढ़ रही है। सरकार ने भी स्पष्ट कर दिया है कि आने वालों में मेडिकल कॉलेजों में इस एग्जाम के जरिए ही दाखिला मिलेगा। दूसरी ओर अभी 25 साल से अधिक आयु व ओपन स्कूलिंग के बारे में फैसला आना शेष है। इस कारण परीक्षा देने वाले स्टूडेंट्स की संख्या के आंकड़े में थोड़ा बदलाव होना भी संभव है। 

नीट पीजी: स्टेट को नहीं मिलेगी इंडिया कोटे की सीट 
नीट पीजी को लेकर भी हलचल जारी है। मेडिकल एक्सपर्ट डॉ. अमित गुप्ता ने बताया कि कोर्ट ने ऑल इंडिया कोटे की सीट खाली रहने पर स्टेट को सरेंडर होने पर कोर्ट ने स्टे लगा दिया है। नीट पीजी में ऑल इंडिया व स्टेट कोटे के 50-50 प्रतिशत सीटें रहती हैं। ब्लॉकिंग के कारण ऑल इंडिया सीटें भी स्टेट को सरेंडर कर दी जाती हैं। फिलहाल अब इस पर रोक लगा दी गई है। अंतिम निर्णय आना अभी बाकी है। दूसरी ओर, यूजी में ऑल इंडिया की 15 व स्टेट कोटे की 85 प्रतिशत सीटें रहती हैं। 

परीक्षा में जूते पर बैन 
सीबीएसई ने एग्जाम हॉल में प्रतिबंधित चीजों की सूची भी जारी कर दी है। मेडिकल कॅरियर काउंसलर पारिजात मिश्रा ने बताया कि सेंटर पर जूते प्रतिबंधित रहेंगे। स्टूडेंट्स को चप्पल पहनकर एग्जाम देने जाना होगा। मेटेलिक आइटम को केंद्र में नहीं ले जा सकते हैं। हल्के कपड़े और हाफ आस्तीन की शर्ट एग्जाम में पहनकर जानी होगी। इसमें भी बड़े बटन नहीं होने चाहिए। धार्मिक वेशभूषा धारण करने वालों को एक घंटे पहले रिपोर्ट करना होगा। 

Next News

IIT-JEE 2018: स्मार्ट स्टडी स्ट्रेटेजी और कॉन्सन्ट्रेशन ने सर्वेश महतानी को बनाया था 2017 में टॉपर

जेईई एडवांस 2017 में पंचकुला चंडीगढ़ के सर्वेश महतानी ने 366 में से 339 स्कोर लाकर देश में टॉप किया था। जबकि मेन एग्जाम में उनकी 55'th रैंक थी।

IIT-JEE 2018: अब नहीं होगा रैंक में कन्फयूजन, पॉजिटिव आन्सर बनेंगे टाई ब्रेकर

जेईई एडवांस में मार्क्स टाई होने पर रैंक निर्धारण का नया नियम लागू किया गया है। इसके तहत स्टूडेंट्स के गलत आन्सर उसकी रैंक को प्रभावित कर सकते हैं।

Array ( )