एमपी बोर्ड: पिछले 5 सालों में पहली बार 10वीं का रिजल्ट 60% के पार

पिछले साल के नतीजों की बात करें तो रिजल्ट अच्छा नहीं रहा था। 10वीं के आधे स्टूडेंट्स फेल हो गए थे। 2017 में 49.86 प्रतिशत स्टूडेंट्स ही पास हो पाए थे।

एजुकेशन डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने 10वीं और 12वीं के परिणाम  सोमवार को घोषित कर दिए हैं। एमपी बोर्ड 10वीं और 12वीं एग्जाम्स के रिजल्ट सोमवार को सुबह सवा ग्यारह बजे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम आवास से जारी किए।
10 वीं का रिजल्ट 66.54 प्रतिशत रहा, जो पिछले साल की तुलना में 16.68% ज्यादा है। 

 

पिछले साल से 16.68% ज्यादा रहा 10वीं का रिज्लट

- पिछले 5 साल यानी 2013 से 2017 तक 10वीं का रिजल्ट 60 फीसदी तक नहीं पहुंचा हैं। लेकिन इस बार 5 साल का रिकार्ड टूट गया । इस साल 10वीं का पासिंग पर्सेंट्ज 66% रहा। जो पिछले साल की तुलना में 16.68% ज्यादा है।
- 10वीं में हर्षवर्धन परमार और अनामिका ने टॉप किया है। हर्षवर्धन नीमच जिले के रहने वाले हैं। वहीं, अनामिका विदिशा की रहने वाली हैं।
- 39% स्टूडेंट्स फर्स्ट डिविजन से पास हुए हैं। 
- 10वीं और 12वीं के कुल मिलाकर 283 छात्र-छात्रों ने टॉप 10 मेरिट में अपनी जगह बनाई।
- 12वीं में जिन्हें 70% से ज्यादा नंबर मिले हैं, उन्हें एमपी सरकार की ओर से करियर काउंसलिंग की सुविधा दी जाएगी।
- पूरे प्रदेश भर से एमपी बोर्ड दसवीं और एमपी बोर्ड बारहवीं एग्जाम्स में करीब 20 लाख स्टूडेंट्स शामिल हुए थे।
- 7.69 लाख ने 12वीं के लिए और 11.48 लाख स्टूडेंट्स ने 10वीं बोर्ड परीक्षाओं के लिए पंजीकरण करवाया था।
- एमपी बोर्ड 12वीं की एग्जाम्स1 मार्च से 3 अप्रैल तक चली थीं, जबकि एमपी बोर्ड 10वीं की एग्जाम्स 5 मार्च से 31 मार्च तक आयोजित कराई गई थीं। 
- 10वीं की डिफरेंटली एबल्ड कैटेगरी में शशि शेखर प्रकाश ने टॉप पोजिशन प्राप्त की है।
- 10वीं के कुल 180 स्टेट टॉपर में 98 लड़कियां और 83 लड़के शामिल हैं।
- करीब 39 प्रतिशत स्टूडेंट्स ऐसे हैं जिन्हें पहली पोजिशन मिली है। इसके अलावा 12वीं के 103 टॉपर में से 82 ल​ड़कियां और 41 लड़के शामिल हैं।
- एमपी बोर्ड ऑफ सीनियर सेकेंडरी एजुकेशन के चेयरमैन एस आर मोहंती के मुताबिक इस साल रिजल्ट का प्रतिशत 16 फीसदी बढ़ा है। 

 

पिछले 5 सालों का पास प्रतिशत

2017 - 49.86%
2016 - 53.87
2015 - 47.04
2014 - 54.14
2013 - 60.40

रिजल्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें 

Next News

इंजीनियरिंग नहीं, स्टूडेंट्स को MBBS है पसंद, ये कहते हैं आंकड़े

इस साल NEET में IIT के मुकाबले 1 लाख 91 हजार स्टूडेंट्स अधिक रजिस्टर्ड हुए

एमपी बोर्ड: पिता मजदूर, मैथ्स पढ़ने के पैसे नहीं थे तो आर्ट में टॉप किया

शाजापुर के सत्यम ने 12वीं में 460 अंक प्राप्त तक प्रदेश में 7वां स्थान हासिल किया है। सत्यम के पिता मजदूर हैं।

Array ( )