ग्रेजुएशन के बाद ग्राफिक डिजाइनिंग में बनाएं करियर- जितिन चावला

आप क्रिएटिव हैं और क्रिएटिविटी की दुनिया में कुछ नया करने की चाहत है, तो ग्राफिक डिजाइनिंग का कॅरिअर आपके लिए बेहतरीन साबित होगा।

करियर डेस्क । आप क्रिएटिव हैं और क्रिएटिविटी की दुनिया में कुछ नया करने की चाहत है, तो ग्राफिक डिजाइनिंग का कॅरिअर आपके लिए बेहतरीन साबित होगा। करिअर काउंसलर जितिन चावला कहते हैं कि इस क्षेत्र में मजबूत भविष्य बनाने के लिए आपमें क्रिएटिविटी के अलावा इंडस्ट्री ट्रेंड्स की जानकारी, ग्राफिक डिजाइनिंग से जुड़े नए सॉफ्टवेयर्स की जानकारी, प्रोफेशनल अप्रोच और निर्धारित समय पर काम पूरा करने की योग्यता का होना जरूरी है।

ग्राफिक डिजाइन कोर्सेज
बीएससी इन विजुअल कम्यूनिकेशन, बैचलर इन फाइन आर्ट्स, मास्टर इन फाइन आर्ट्स, बैचलर इन डिजाइन के अलावा शॉर्ट टर्मकोर्स जैसे पीजी डिप्लोमा इन ग्राफिक डिजाइन करके आप इस क्षेत्र में कॅरिअर की राह चुन सकते हैं।

जरूरी स्किल्स
क्रिएटिविटी इस पेशे की पहली जरूरत है। इसके अलावा ग्राफिक डिजाइनर के पास एनालिटिकल, आर्टिस्टिक, कम्यूनिकेशन, कम्प्यूटर व टाइम मैनेजमेंट जैसी स्किल्स होनी बेहद जरूरी हैं। ग्राफिक डिजाइनर कलर, इलस्ट्रेशन, टेक्स्ट, फोटो व प्रिंट के जरिए अपनी कल्पना को एक मूर्त रूप देते हैं। ये प्रोफेशनल्स ग्राफिक्स के अलावा मैग्जीन, न्यूज पेपर व कॉर्पोरेट रिपोर्ट के ले आउट भी तैयार करते हैं।

यहां मजबूत है स्कोप
एक ग्राफिक डिजाइनर के रूप में आप मीडिया इंडस्ट्री, विज्ञापन कंपनी, प्रिंटिंग कंपनी, मार्केटिंग फर्म, एजुकेशनल इंस्टीट्यूट, फिल्म इंडस्ट्री आदि में आर्टिस्ट, आर्ट डायरेक्टर, डिजाइनर, डेस्कटॉप पब्लिशर, टेक्निकल राइटर, एनिमेटर, फोटोग्राफर, प्रेस एडिटर आदि के रूप में कॅरिअर की नींव रख सकते हैं। 

प्रमुख संस्थान

इंदिरा गांधी ओपन यूनिवर्सिटी, मैदानगढ़ी, नई दिल्ली
संपर्क - 011 2953 5438
http://www.ignou.ac.in/

जामिया मिल्लिया इस्लामिया, जामिया नगर, नई दिल्ली
संपर्क - 011 2698 1717
http://jmi.ac.in/

नेशनल इंस्टीटय़ूट ऑफ डिजाइन, अहमदाबाद
संपर्क - 079 2662 9500
http://www.nid.edu/

Next News

MPPSC mains : हिंदी, इथिक्स और निबंध का पेपर है स्कोरिंग

एग्जाम जुलाई में होने वाला है और अब ज्यादा टाइम नहीं बचा है। ऐसे में एक्सपर्ट का कहना है कि कुछ सेक्शन्स पर ही ज्यादा फोकस करना चाहिए।

प्राथमिक स्कूल ऐसा हो जिसकी शिक्षा प्राथमिक न हो!

फंडा यह है कि कई तरह के प्रत्यक्ष अनुभव देकर कोई भी प्राथमिक शिक्षा का इस्तेमाल जीवन की मजबूत नींव रखने में कर सकता है। 

Array ( )