JEE ADVANCE: KV और नवोदय स्कूलों में 15 तक दे सकते हैं मॉक टेस्ट

देश के किसी भी केवी और नवोदय विधालय में क्वालिफाइड कैंडिडेट्स मॉक टेस्ट दे सकते हैं।

एजुकेशन डेस्क।  ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (जेईई) एडवांस इस बार सिर्फ कंप्यूटर मोड पर कंडक्ट हो रहा है। इसके लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक सुविधा दी है। कैंडिडेट्स अपने शहर के किसी भी केंद्रीय विद्यालय या जवाहर नवोदय विद्यालय में जाकर ऑनलाइन मॉक टेस्ट दे सकते हैं। मंत्रालय ने देश के सभी केंद्रीय विद्यालयों और जवाहर नवोदय विद्यालयों को निर्देश दिया है कि वे अपने यहां जेईई मेन क्वालिफाइड बच्चों को ये सुविधा देंगे। हालांकि कैंडिडेट्स के किसी भी परिजन को स्कूल परिसर में जाने की अनुमति नहीं मिलेगी। कैंडिडेट्स को उनके एडवांस रजिस्ट्रेशन का प्रिंट आउट, एक फोटो-आईडी प्रूफ के साथ लेकर स्कूल में मॉक टेस्ट के लिए जाना होगा। आईआईटी कानपुर ने ऐसा इसलिए किया है, ताकि किसी भी कैंडिडेट को परीक्षा के दिन कोई दिक्कत न हो, क्योंकि जेईई एडवांस पहली बार पूरी तरह ऑनलाइन मोड पर हो रहा है। www.jeeadv.ac.in पर मॉक टेस्ट की सीरीज दी गई है। 

 

कंप्यूटर में खराबी आई, तो तुरंत बदला जाएगा सिस्टम,मिलेगा अतिरिक्त टाइम

- आईआईटी कानपुर की ओर से 20 मई को आयोजित होने वाले जेईई एडवांस्ड के ऑनलाइन एग्जाम में कंप्यूटर खराब होने पर तुरंत ही स्टूडेंट्स का सिस्टम बदल दिया जाएगा। 
- इस दौरान लगने वाले समय के कारण स्टूडेंट्स को अतिरिक्त टाइम भी दिया जाएगा।
- कंप्यूटर खराब होने की स्थिति में टाइम कैलकुलेटर वॉच भी रुक जाएगी। जो काम किया वह सेव हो जाएगा। जेईई एडवांस्ड पहली बार पूरी तरीके से ऑनलाइन हो रहा है। 

 

कई स्टूडेंट्स के जारी नहीं हो पाए एडमिट कार्ड 

- स्टूडेंट्स को शनिवार रात तक भी एडमिट कार्ड जारी नहीं किए गए। 20 मई को एग्जाम होगा, लेकिन एडमिट कार्ड नहीं जारी होने के कारण स्टूडेंट्स को अभी तक सेंटर का पता नहीं चल पाया है।
- छुट्टियों के कारण ट्रेन में रिजर्वेशन नहीं मिल पा रहा है। एडमिट कार्ड जारी होने पर स्टूडेंट्स और पेरेंट्स को पता चल पाता है कि उन्हें कौनसा सेंटर अलॉट हुआ है। वे समय रहते रिजर्वेशन करवा पाते।
- फार्म भरते समय स्टूडेंट्स द्वारा तीन सेंटर भराए जाते हैं। सेंटर का फाइनल अलॉटमेंट आईआईटी की ओर से किया जाता है। पेरेंट्स को चिंता है कि अगर एडमिट कार्ड देर से जारी किए गए तो रिजर्वेशन करवाने में दिक्कत आएगी।
- कोटा के स्टूडेंट्स को इसकी चिंता ज्यादा इसीलिए है क्योंकि कोटा में एडवांस्ड का सेंटर नहीं है। 
 

इम्पॉर्टेंट डेट्स 

- एडमिट कार्ड प्राप्त करने की तिथि : 14 मई 2018
- जेईई एडवांस 2018 परीक्षा तिथि : 20 मई 2018
- पेपर 1 : सुबह 9 से 12 बजे तक 
- पेपर 2 : दोपहर 2 से 5 बजे तक 
- आंसर शीट का प्रकाशन: 29 मई 2018
- जेईई एडवांस 2018 का रिजल्ट : 10 जून 2018
- मॉक टेस्ट की अंतिम तिथि : 15 मई 2018।

 

जेईई एडवांस 2018 योग्यता 

- जेईई मेन 2018 एग्जाम के टॉप 2,24,000 कैंडिडेट ही इसमें शामिल हो सकते हैं।
 - कैंडिडेट 01 अक्टूबर 1993 या इस डेट (अनुसूचित जाति, जनजाति, विकलांग उम्मीदवारों के लिए पांच साल छूट) के बाद का जन्मा होना चाहिए।
- उम्मीदवार को 2016 या इससे पहले की जेईई एडवांस परीक्षा में सम्मिलित नहीं होना चाहिए।
- कैंडिडेट ने क्लास 12 को 2017 में उत्तीर्ण किया हो या 2018 में पहली बार सम्मिलित हुआ हो।
- उम्मीदवार का पहले से किसी आईआईटी में प्रवेश नहीं हुआ होना चाहिए।
- विदेशी नागरिकों के लिए ऊपर दिए हुए निम्न पद 2, 3, 4, 5 को पूरा करना आवश्यक है।
- उम्मीदवार ने कक्षा 12 या समकक्ष परीक्षा न्यूनतम 75% (अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और विकलांग श्रेणी के लिए कुल  65% अंक) अंकों के साथ उत्तीर्ण किया हो या वह कक्षा 12 या समकक्ष बोर्ड परीक्षा में सफल टॉप 20% उम्मीदवारों में होना चाहिए।

 

JEE एडवांस्ड की तैयारी के लिए कुछ टिप्स

- न्यूमेरिकल सवालों को हल करने के लिए स्ट्रीमलाइन प्रोसेस को अपनाना चाहिए। इस प्रकार स्टेप बाई स्टेप सॉल्यूशन से लॉजिकल सवालों के हल करने में काफी मदद मिलती है।
-जहां तक सिलेबस की बात है तो सबसे कठिन हिस्सों को टारगेट करके उसे ज्यादा समय देकर अच्छे से नोट्स बना सकते हैं।
-एग्जामनिशन के लिए रेफ्रेंस बुक्स काफी अच्छी रहती हैं। इनसे ना केवल स्टूडेंट्स को अच्छे आइडियाज मिलते हैं, बल्कि इनमें पूरा सिलेबस और सैंपल पेपर भी कवर होते हैं।
-अगर आपको एग्जाम में अच्छा स्कोर करना है तो रोजाना 40-80 न्यूमेरिकल सवाल हल करें। इन सवालों में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स के सवाल शामिल होने चाहिए। इससे आप की स्पीड भी इंप्रूव होगी।
-फॉर्मूले और थ्योरी के सवालो पर भी घ्यान दें। आप खुद से यह समझें कि किन टॉपिक्स में आपसे गलती हो सकती है और कौन से टॉपिक्स आपका ज्यादा समय खर्च कर सकते हैं। उसी के अनुसार तैयारी करें।
-स्टूडेंट्स को टॉपिक्स की एक लिस्ट बना लेनी चाहिए और पेपर में दिए गए मार्क्स के अनुसार ज्यादा मार्क्स वाले टॉपिक्स की अच्छे से तैयारी करनी चाहिए। 

 


ऑफिशियल वेबसाइट के लिए यहां क्लिक करें 
 

Next News

NEET के लिए ओपन स्कूल और प्राइवेट स्टूडेंट्स भी एलिजिबल: HC

मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने ओपन स्कूलिंग और प्राइवेट स्टूडेंट्स को NEET के इनएलिजिबल ठहराया था।

स्टूडेंट्स को मुफ्त मिलेगी नए कोर्सेस और करियर की जानकारी

12वीं और ग्रेजुएट स्टूडेंट्स को नए कोर्सेस और एडवांस डिग्री प्रोग्राम्स के बारें में भी जानकारी दी जाएगी।

Array ( )