9 देशों के लोग दे सकते हैं भारत की IIT-JEE, पाक स्टूडेंट्स को नो एंट्री

जून 2016 में भारत सरकार ने 9 देशों को IIT-JEE के लिए परमिशन दी थी। हालांकि पाकिस्तान को इसमें शामिल नहीं किया गया था।

एजुकेशन डेस्क। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) सोमवार को IIT-JEE Main का रिजल्ट डिक्लेयर करेगा। इस एग्जाम में पास होने वाले स्टूडेंट्स 20 मई को होने वाले JEE Advance में बैठेंगे और उसके बाद ही क्वालीफाय कर पाएंगे। देश के IITs में फॉरेन स्टूडेंट्स भी पढ़ाई करते हैं और इसके लिए उन्हें JEE Main एग्जाम देने की जरुरत नहीं होती है। बल्कि फॉरेन स्टूडेंट सीधे JEE Advance को क्वालिफाय करके ही IITs में एडमिशन ले सकते हैं। भारत के IITs में एडमिशन के लिए 8 देशों के स्टूडेंट्स को परमिशन है, लेकिन पाकिस्तानी स्टूडेंट्स को इसकी इजाजत नहीं है।

किन देशों के स्टूडेंट्स दे सकते हैं IIT-JEE?

- अफगानिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान, मालदीव्स, सिंगापुर, संयुक्त अरब अमीरात और इथियोपिया।
- भारत ने 2 साल पहले यानी 2016 में इन 9 देशों को JEE Advance में अपीयर होने की परमिशन दी थी। हालांकि पाकिस्तान को छोड़कर बाकी सभी SAARC कंट्रीज़ शामिल थीं।
- SAARC कंट्रीज़ में भारत के अलावा बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, अफगानिस्तान, श्रीलंका, मालदीव्स और पाकिस्तान शामिल हैं।

10% सीट रहती है रिजर्व

- फॉरेन स्टूडेंट्स जो भारत में IITs में पढ़ना चाहते हैं, वो यहां पर पढ़ सकते हैं। फॉरेन स्टूडेंट्स को JEE Main का एग्जाम देना जरूरी नहीं होता। फॉरेनर्स सीधे JEE Advance के लिए रजिस्टर्ड कर सकते हैं और इसके जरिए ही क्वालीफाय कर सकते हैं।
- भारत के हर IITs में फॉरेन स्टूडेंट्स के लिए 10% सीट रिजर्व रहती है। ये सीट हर कोर्स के लिए रिजर्व रहती है।

कितनी फीस लगती है फॉरेनर्स के लिए?

- भारतीय स्टूडेंट्स के हिसाब से फॉरेन स्टूडेंट्स की फीस ज्यादा लगती है। सार्क (SAARC) कंट्रीज़ के स्टूडेंट्स के लिए JEE Advance के रजिस्ट्रेशन के लिए 160 डॉलर (करीब 10 हजार रुपए) और नॉन-सार्क (Non-SAARC) कंट्रीज़ के स्टूडेंट्स के लिए 300 डॉलर (करीब 20 हजार रुपए) की फीस लगती है।
- फीस के साथ-साथ स्टूडेंट्स को रजिस्ट्रेशन चार्ज के साथ GST भी देना होता है।

कैसे होता है रजिस्ट्रेशन?

- JEE Advance के लिए जिस तरह से इंडियन स्टूडेंट्स के लिए रजिस्ट्रेशन प्रोसेस होती है, उसी तरह से फॉरेन स्टूडेंट्स के लिए भी होती है। फॉरेन स्टूडेंट्स को भी रजिस्ट्रेशन के लिए भी JEE Main की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर रजिस्टर्ड करना होता है।
- सबसे पहले JEE Advance के लिए रजिस्ट्रेशन करना होता है। इसके लिए रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरना होता है।
- रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरने के बाद फॉरेन स्टूडेंट्स को अपने सारे डॉक्यूमेंट्स स्कैन करके अपलोड करना होता है।
- इतनी प्रोसेस हो जाने के बाद फीस पे करनी होती है। 

क्या-क्या लगते हैं डॉक्यूमेंट्स?

- फोटो
- सिग्नेचर
- क्लास-10th सर्टिफिकेट
- क्लास-12th सर्टिफिकेट
- आइडेंटिटी प्रूफ
- माता-पिता का पासपोर्ट
- टेस्टीमोनियल

फॉरेन में कहां-कहां होंगे एग्जाम?

- JEE Advance के फॉरेन सेंटर्स अदीस अदाबा (इथियोपिया), कोलंबो (श्रीलंका), ढाका (बांग्लादेश), दुबई (यूएई), काठमांडू (नेपाल) और सिंगापुर में हैं।

Next News

IIT JEE: 11000 ही जाएंगे IITs में, बाकी पढ़ेंगे अदर इंस्टीट्यूट्स में

जेईई की पॉलिसी के अकॉर्डिंग किसी भी एस्पिरेंट के पास एग्जाम में अपीयर करने केवल 2 अटैम्प्ट्स ही होते हैं। इस बार जेईई मेन एग्जाम देने 14 लाख स्टूडेंट्स

JEE Main 2018 : जानें सीट्स, कट-आॅफ, रैंकिंग कैल्कुलेशन और इंट्रेस्टिंग फैक्ट

जानिए आईआईटी जेईई 2018 से जुड़े कई सवालों के जवाब और कुछ एंट्रेस्टिंग फैक्ट  जानना बेहद जरूरी है। 

Array ( )