UP Board : टॉपर लिस्ट में किसान और ऑटो ड्राइवर के बच्चे, डॉ. एपीजे कलाम जैसा बनने की चाहत

टॉप करने वाले स्टूडेंट्स ने बताया कि वे एग्जाम से पहले 8-10 घंटे स्टडी में देते और सोशल मीडिया से पूरी तरह दूरी बनाए रखते थे।

एजुकेशन डेस्क। यूपी बोर्ड के टॉपर्स की लिस्ट में किसान, ऑटो ड्राइवर और मिस्त्री के बच्चों ने जगह बनाई है। इंटरमीडिएट में टॉप करने वाले बाराबंकी के आकाश मौर्य के पिता ऑटो ड्राइवर हैं। आकाश का सपना डॉ. एपीजे कलाम की तरह देश के लिए कुछ करने का है। 10th में टॉप करने वाली अंजलि के पिता किसान हैं। अंजलि साइंटिस्ट बनना चाहती हैं।

टॉपर्स की कहानी, उनकी जुबानी

# इंटरमीडिएट

आकाश मौर्य - बाराबंकी के बद्री गांव में रहने वाले कुलदीप मौर्या के बेटे आकाश मौर्या ने इंटरमीडिएट की यूपी बोर्ड की परीक्षा में टॉप किया है। आकाश इंजीनियर बनना चाहते हैं। स्कूल के अलावा 8-10 घंटे पढ़ाई करने वाले आकाश ने कहा, "पिता ऑटो ड्राइवर हैं, घर में पैसा हमेशा समस्या रहा है। हम दो भाई, एक बहन हैं। पिता की कोशिश है कि सभी बड़े आदमी बनें। मेरा सपना है कि एपीजी अब्दुल कलाम की तरह देश के लिए कुछ कर सकूं। अच्छे रिजल्ट की उम्मीद थी, लेकिन टॉप करने के बारे में नहीं सोचा था।"

रजनीश शुक्ला - फर्स्ट रैंक आकाश के साथ शेयर करने वाले फतेहपुर के गुरदौली गांव में रहने वाले रजनीश शुक्ल के पिता प्राइवेट स्कूल में टीचर हैं। रजनीश दो भाई और एक बहन हैं। उन्होंने कहा, "मेरे लिए मेरे आइडियल मेरे पिता ही हैं। कम सैलरी के बावजूद उन्होंने कभी हमारी डिमांड को टाला नहीं। हां, उनकी अपेक्षा थी कि हम अपनी जिंदगी में कुछ बेहतर कर लें। इसलिए मैं आईपीएस बनना चाहता हूं। परीक्षा के लिए मैंने टाइम टेबल तो बनाया था, लेकिन यह नहीं डिसाइड था कि कब क्या पढ़ना है।"

अनन्या राय - गाज़ीपुर की रहने वाली अनन्या राय ने सेकंड पोजीशन हासिल की है। उनके पिता मनोज कुमार राय किसान हैं। अनन्या ने कहा, "पिता किसान हैं, मां ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं हैं। सभी को मुझसे उम्मीदें हैं। मैं उनकी कसौटी पर हर हाल में खरा उतरना चाहती हूं। अनन्या कहती हैं कि मुझे साइंटिस्ट बनना है, रिसर्च करनी है।"

अजीत पटेल - राजमिस्त्री रामेश्वर के बेटे अजीत पटेल 92.20% मार्क्स के साथ तीसरे स्थान पर रहे। अजीत के चार भाई बहन हैं। अजीत ने बताया, "मैं आईएएस बनना चाहता हूं। मुझे उम्मीद थी कि मैं स्कूल में टॉप करूंगा, लेकिन प्रदेश में टॉप किया। इसकी वजह परिवार और टीचर्स का स्नेह है। मैं व्हाट्सप नहीं चलाता हूं। सोशल मीडिया से दूर रहता हूं।"

# हाईस्कूल

अंजलि वर्मा - मूलतः अम्बेडकर की रहने वाली अंजली वर्मा भाई के साथ इलाहाबाद में रहकर पढ़ाई कर रही हैं। उनके पिता आशा राम वर्मा किसान हैं। अंजलि ने कहा, "मैं साइंटिस्ट बनना चाहती हूं। देश का नाम रौशन करना चाहती हूं। पढ़ाई में सबसे ज्यादा मेरे भाई और मां का सहयोग रहा है। कभी भी मुझे किसी भी चीज की कमी नहीं हुई।"

यशस्वी - टॉपर्स की लिस्ट में सेकंड रहने वाली यशस्वी के पिता देवी प्रसाद किसान हैं। वे फतेहपुर के अमौली में रहती हैं। चार भाई-बहनों में सबसे छोटी यशस्वी ने कहा, "मेरी पढ़ाई में सबसे ज्यादा स्पोर्ट मेरे स्कूल के प्रबंधक ने किया। मैं डिफेन्स में अफसर बनाना चाहती हूं। मेरे चाचा-चाची कर्नल हैं, जिनको देखकर मुझे भी डिफेन्स में जाना है।"

विनय कुमार वर्मा - सीतापुर जिले के मनकापुर के रहने वाले विनय कुमार वर्मा ने 94.17 प्रतिशत अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहे। विनय के पिता धनी राम मौर्य किसान हैं। विनय ने कहा, "मेरा लक्ष्य हाई स्कूल में 570 नंबर लाना था, लेकिन पांच नंबर कम आए। मैं आईआईटी के बाद इंजीनियर बनना चाहता हूं। पिता घर का खर्च गन्ने की खेती के जरिए चलाते हैं।"
 

Next News

UPSC सक्सेस स्टोरी: अनुदीप से पहले 3 साल टॉप पर थीं गर्ल्स

ईरा सिंघल, टीना डाबी और नंदिनी केआर पिछले तीन साल में डिक्लेयर किए गए यूपीएससी रिजल्ट में टॉप पर रहीं। इस बार डुरीशेट्टी अनुदीप ने टॉप किया है।

पटना की मधुमिता को गूगल में मिला 1 करोड़ का पैकेज, जानें उनके बारे में

मधुमिता को गूगल में जॉब के लिए 7 राउंड क्लियर करने पड़े। इस बीच उनके पास कई बड़ी कंपनियों के भी ऑफर आए।

Array ( )