दिल के मरीजों के लिए आईआईटी रुड़की के स्टूडेंट्स ने बनाई एप

आईआईटी रुड़की के कंप्यूटेशनल बायोलॉजी समूह ने विकसित किया है। समूह का नेतृत्व बायोटेक्नोलॉजी विभाग में सहायक प्राध्यापक दीपक शर्मा ने किया।

एजुकेशन डेस्क । आईआईटी रुड़की के स्टूडेंट्स ने धड़कन नाम का एक एप बनाया है। इससे दिल के मरीजों की सेहत का ध्यान रखा जाएगा। साथ ही आपात स्थिति में मरीजों की मेडिकल मदद भी की जा सकेगी। 
5 प्वाइंट में जानिए इस एप की खासियतें

- हार्ट की मॉनिटरिंग रखने के साथ यह एप इमरजेंसी में मेडिकल सहायता भी मुहैया कराएगा। 
- यह ऐप मरीज के हेल्थ डाटा कोई बड़ा बदलाव दिखने पर अपने आप डॉक्टर और मरीज को सूचना भेजेगा।
- धड़कन एप की मदद से दिल का दौरा पड़ने की आशंका के भी मरीज को संकेत मिल सकते हैं। 
- इस एप को आईआईटी रुड़की के कंप्यूटेशनल बायोलॉजी समूह ने विकसित किया है। समूह का नेतृत्व बायोटेक्नोलॉजी विभाग में सहायक प्राध्यापक दीपक शर्मा ने किया। 
- यह एप निशुल्क है और इसे एम्स के विशेषज्ञों की मदद से डिजाइन किया गया है।

धड़कन एप भारत के लिए काफी फायदेमंद होगा। जहां करीब एक करोड़ लोग दिल की गंभीर बीमारियों से ग्रस्त हैं। 
दीपक शर्मा, सहायक प्राध्यापक, बायोटेक्नोलॉजी विभाग
 

Next News

IIT JEE: नेगेटिव मार्किंग की वजह से -35 पर पहुंचा दिव्यांग स्टूडेंट्स का कट ऑफ

दिव्यांग केटेगरी में भी स्टूडेंट्स को जनरल, ओबीसी, एससी/एसटी में अलग रखा गया था। इसकी वजह से दिव्यांग स्टूडेंट्स का मैक्सिमम कट ऑफ 73 रहा और मिनिमम कटऑफ

IIT JEE कोटा : जानें कितने अंकों पर कौन सा कॉलेज मिलेगा

विभिन्न कोचिंग संस्थानों के आंकड़ों के अनुसार अब तक कोटा के 42 हजार से अधिक स्टूडेंट्स एडवांस्ड के लिए क्वालिफाई कर चुके हैं। जानिए अंकों के आधार पर कौन

Array ( )