JEE Advanced: स्टूडेंट्स की संख्या घटी, 42% पर मिल सकेगी IIT में सीट

एक्सपर्ट्स का मानना है कि इस साल जिस तरह से एडवांस्ड में स्टूडेंट्स की संख्या कम रही, उससे कटऑफ नीचे जाने की संभावना है।

एजुकेशन डेस्क, नई दिल्ली। आईआईटी कानपुर की तरफ से रविवार को देशभर में जेईई एडवांस्ड का एग्जाम कंडक्ट कराया गया। इस साल ये एग्जाम पूरी तरह से ऑनलाइन रहा, जिस वजह से कई सेंटर्स पर स्टूडेंट्स को परेशानियों का भी सामना करना पड़ा। इस साल 2 लाख 31 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स ने जेईई मेन क्लियर किया था, लेकिन इनमें से करीब 70 हजार स्टूडेंट्स ने जेईई एडवांस्ड के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। लिहाजा एक्सपर्ट्स का मानना है कि स्टूडेंट्स की संख्या में कमी का असर कटऑफ पर पड़ सकता है और 42% लाने पर ही आईआईटी में एडमिशन मिल सकता है। 

1,60,716 कैंडिडेट्स ने ही कराया था एडवांस्ड के लिए रजिस्ट्रेशन

- इस साल 2,31,024 कैंडिडेट्स ने जेईई मेन का एग्जाम क्लियर किया था। इनमें से सिर्फ 1,60,716 कैंडिडेट्स ने ही जेईई एडवांस्ड के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। हालांकि इनमें से भी 10 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स एब्सेंट रहे।
- जिन कैंडिडेट्स ने रजिस्ट्रेशन कराया है, उनमें से 97,866 कैंडिडेट्स एसटी और अन्य रिजर्व्ड कैटेगरी से हैं, जबकि 62,850 कैंडिडेट्स जनरल कैटेगरी के हैं।

पिछले साल 23% कैंडिडेट्स ने नहीं कराया था रजिस्ट्रेशन

- साल 2017 में करीब 2 लाख 20 हजार कैंडिडेट्स ने जेईई मेन को क्लियर किया था, जिसमें से सिर्फ 1 लाख 71 हजार कैंडिडेट्स ने ही जेईई एडवांस्ड के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था।
- इसका मतलब 2017 में 23% कैंडिडेट्स ने जेईई एडवांस्ड के लिए अप्लाय ही नहीं किया था, जबकि 2016 में 21% कैंडिडेट्स ऐसे थे जिन्होंने जेईई एडवांस्ड के लिए रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था।

फिजिक्स का पेपर टफ, कटऑफ नीचे जाने की संभावना

- एक्सपर्ट अज्ञात गुप्ता और बालेंदु चांदिल का कहना है कि इस साल जिस तरह से एडवांस्ड में स्टूडेंट्स की संख्या कम रही, उससे कटऑफ नीचे जाने की संभावना है।
- आईआईटी सीट के लिए एडवांस्ड में 50% मार्क्स होने जरूरी हैं, हालांकि इस साल 42% से ज्यादा मार्क्स लाने पर ही आईआईटी सीट मिलने की संभावना है।
- एक्सपर्ट्स ने बताया कि इस साल फिजिक्स का पेपर पिछले साल के मुकाबले काफी टफ रहा, जिससे कटऑफ 100 नंबर से भी नीचे जा सकता है। पिछली बार क्वालिफाइंग के लिए 126 नंबर तय किए गए थे।

पेपर-2 की फिजिक्स रही टफ, मैथ्स में स्कोरिंग तय करेगी रैंक

- पेपर-1 की फिजिक्स आसान थी, लेकिन पेपर-2 में इस सब्जेक्ट के सवाल कठिन थे। मैथ्स का पेपर लेंदी था। यहां पेपर-2 में मैथ्स का स्तर ठीक था। दोनों पेपर में केमेस्ट्री का स्तर मध्यम रहा। ऐसे में मैथ्स में अच्छा स्कोर करने वाले स्टूडेंट्स को फायदा होगा। -बृजेश माहेश्वरी, एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट 

- इस साल न्यूमेरिकल वैल्यू के सवालों के उत्तर एक्यूरेट देने थे। सवालों के उत्तर दशमलव के बाद दो डिजिट तक भी गए हैं। इस कारण पेपर लेंदी भी रहा। पेपर वन में केमेस्ट्री के सवाल व पेपर टू में कॉलम मैचिंग के सवाल डिसाइडिंग फैक्टर रहेंगे। पेपर दो में केमेस्ट्री और मैथ्स का पार्ट लेंदी रहा। - शैलेंद्र माहेश्वरी, कॅरियर प्वाइंट 

- पहला आसान रहा, वहीं दूसरा थोड़ा कठिन रहा। पेपर-2 में मार्किंग स्कीम पेपर-1 की तरह समान रही। सिर्फ पेपर-1 के तीसरे सेक्शन से कुछ अलग रहा। कटऑफ कम रहने की संभावना है। -महेंद्र सिंह, निदेशक, वाइब्रेंट एकेडमी 

- पहली बार यह एग्जाम कंप्यूटर बेस्ड हुआ है। कुल प्रश्नों की संख्या एक समान रही। वर्गों के वितरण में अंतर है और पूछे गए प्रश्नों की प्रकृति भी अलग है। इंटीजर टाइप सवाल ज्यादा थे जो पिछले वर्ष से अलग था। फिजिक्स और मैथ्स के सवाल पिछले वर्ष जैसे ही थे, केमिस्ट्री मुश्किल थी। - नितिन विजय, मोशन 

- पहले पेपर में फिजिक्स का भाग कठिन था। इसमें काफी प्रश्न पेचीदा और लंबे रहे। केमेस्ट्री का भाग पिछले 2-3 सालों की तुलना में आसान था। मैथ्स के प्रश्न मध्यम स्तर के थे। द्वितीय पेपर प्रथम पेपर की तुलना में कठिन था। कुल मिलाकर परीक्षा कठिन रही और कटऑफ कम रहने की संभावना है। - डॉ. बीवी राव, चेयरमैन, राव एकेडमी 

दोनों पेपर में ऐसा रहा एग्जाम पैटर्न

- पेपर-1
- टोटल मार्क्स : 180 (फिजिक्स-60 मार्क्स, केमिस्ट्री-60 मार्क्स, मैथ्स-60 मार्क्स)
- टोटल क्वेश्चन : 54 (फिजिक्स-18 क्वेश्चन, केमिस्ट्री-18 क्वेश्चन, मैथ्स-18 क्वेश्चन)

सेक्शन टोटल मार्क्स टोटल क्वेश्चन पैटर्न माइनस मार्किंग
सेक्शन-1 24 06 मल्टीपल चॉइस प्लस 4 व माइनस 2 व आंशिक मार्किंग
सेक्शन-2 24 08 न्यूमेरिकल वैल्यू प्लस 3 व माइनस मार्किंग नहीं होगी
सेक्शन-3 12 04 पैराग्राफ टाइप प्लस 3 व माइनस 1

- पेपर-2
- टोटल मार्क्स : 180 (फिजिक्स-60 मार्क्स, केमिस्ट्री-60 मार्क्स, मैथ्स-60 मार्क्स)
- टोटल क्वेश्चन : 54 (फिजिक्स-18 क्वेश्चन, केमिस्ट्री-18 क्वेश्चन, मैथ्स-18 क्वेश्चन)

सेक्शन टोटल मार्क्स टोटल क्वेश्चन पैटर्न माइनस मार्किंग
सेक्शन-1 24 06 मल्टीपल चॉइस प्लस 4 व माइनस 2 व आंशिक मार्किंग
सेक्शन-2 24 08 न्यूमेरिकल वैल्यू प्लस 3 व माइनस मार्किंग 1
सेक्शन-3 12 04 मैच द लिस्ट प्लस 3 व माइनस 1

हर साल ऐसे बदल जाती है मार्किंग स्कीम

साल टोटल मार्क्स फिजिक्स केमेस्ट्री मैथ्स
2018 360 120 120 120
2017 366 122 122 122
2016 372 124 124 124
2015 504 168 168 168

 

दो शिफ्ट में हुआ था एग्जाम

- जेईई का पेपर सुबह 9 और दोपहर 2 बजे से शुरू हुए। दोनों पेपर्स में इस बार 54-54 सवाल थे, जिसके लिए 180-180 मार्क्स निर्धारित थे। पेपर-2 में मैथ्स सेक्शन थोड़ा टफ रहा, वहीं केमेस्ट्री के ऑर्गेनिक पार्ट के ट्रिकी सवालों ने छात्रों को उलझाया।
- पेपर-1 में सिंगल आंसर टाइप सवाल पैराग्राफ पर और पेपर-2 में यह मैच द कॉलम पैटर्न पर दिए गए। मोर दैन वन आंसर टाइप सवालों में तीन सही जवाब में से दो को टिक करने पर,उसके अनुसार ही नंबर दिए जाएंगे। 

22 से 25 मई तक मेल पर मिलेंगे पेपर, रिजल्ट 10 को 

- रिजल्ट 10 जून को आएगा। आईआईटी कानपुर 22 से 25 मई तक स्टूडेंट्स को पेपर मेल करेगा। पेपर समाप्त होने के बाद इसकी सूचना जेईई एडवांस्ड की वेबसाइट पर भी जारी हो गई थी। 29 मई को आंसर की आएगी और 30 मई को शाम 5 बजे तक आपत्ति दर्ज करा सकेंगे। 

 

Next News

IIT-JEE Advanced: मैथ्स रहा टफ, 29 मई को जारी होगी आंसर-की

जूते, हेयर बैंड, फुल शर्ट बैन, वेबसाइट से डाउनलोड किया गया प्रोविजनल एडमिट कार्ड लेकर सेंटर पर जाना होगा, ओरिजनल एडमिट कार्ड सेंटर पर ही दिया जाएगा।

IIT-JEE Advanced: डेसिमल में उलझे स्टूडेंट्स, इंटरनेट ने किया परेशान

पहली बार ऑनलाइन हुए आईआईटी एडवांस्ड के एग्जाम में देशभर के 1.60 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स शामिल हुए थे।

Array ( )