IIT advance 2017 के सेकंड टॉपर अक्षत ने शेयर किया सफलता का सीक्रेट 

जेईई एडवांस्ड में सेकंड टॉपर पुणे के रहने वाले अक्षत अल्बर्ट आइन्स्टाइन को अपना रोल मॉडल मानते हैं और एक दिन उन्हीं की तरह बड़ा नाम कमाना चाहते हैं।

एजुकेशन डेस्क । पुणे के रहने वाले अक्षत कहते हैं, "रोजाना पढ़ाई तो जरुरी है ही, लेकिन अपने समय का सही ढंग से इस्तेमाल करना सबसे महत्वपूर्ण है। अक्षय के अनुसार, 1,75000 स्टूडेंट्स में से जेईई एडवांस्ड का सेकंड टॉपर बनना एक सपने के सच होने जैसा है। इस सक्सेस में उनके दो साल की फोकस्ड स्टडी और अल्बर्ट आइन्स्टाइन जैसा बनने की चाह सबसे बड़ी वजह रही है। अक्षत को जेईई मेंस में भी 7वीं रैंक मिली थी। इस सफलता पर dainikbhaskar से खास बातचीत में अक्षत ने जेईई एडवांस्ड की तैयारी के विभिन्न पहलुओं के बारे में बताया और स्टूडेंट्स को महत्वपूर्ण टिप्स दिए हैं।

Q. जेईई एडवांस्ड में सेकंड टॉपर बनने के बाद आपका फर्स्ट रिएक्शन क्या था?
अक्षत-
 आंसर 'की' सामने आने के बाद मुझे उम्मीद थी कि मेरा नाम टॉप 5 टॉपर्स की लिस्ट में जरुर शामिल होगा। मेरे कोचिंग इंस्टिट्यूट ने मुझे मेरे नंबर जोड़ कर बता दिए थे। लेकिन बोनस मार्क्स डिक्लेरेशन के बाद मुझे थोड़ी चिंता हो गई थी। लेकिन मेरी सेकंड रैंक ने मेरी सभी चिंता को दूर कर दिया।

Q. अपने बारे में और अपनी स्कूलिंग के बारे में कुछ बताएं?
अक्षत-
 मैंने दिल्ली पब्लिक स्कूल- पुणे से पढ़ाई की है। यह सीबीएसई बोर्ड का स्कूल है।

Q. जेईई एडवांस्ड 2017 में आपका स्कोर क्या है? आल इंडिया में आपकी क्या रैंकिंग थी और सभी सब्जेक्ट में आपके कितने मार्क्स थे?
अक्षत- मैंने जेईई एडवांस्ड में 335 मार्क्स हासिल किए हैं। मेरी आल इंडिया रैंक 2 है। मुझे मैथ्स में -122, फिजिक्स में 101, कैमिस्ट्री में 112 मार्क्स मिले हैं।

Q. आपने इंजीनियरिंग का फैसला कब और क्यों लिया?, क्या आप किसी खास ब्रांच में इंटरेस्ट रखते हैं।
अक्षत-
 मैं हमेशा से मैथ्स और फिजिक्स की स्टडी करना चाहता था। मैं शुरू से ही एक अच्छे इंस्टीट्यूट में एडमिशन लेना चाहता था। मैंने 9वीं और 10वीं में पढ़ने के दौरान ही आईआईटी के बारे में सोचना शुरू कर दिया था। लेकिन जब मैं 11वीं क्लास में था तब मैंने, सीरियस तौर पर इंजीनियरिंग के लिए तैयारी शुरू की। स्कूल से आने के बाद मैं आईआईटी के लिए 3 घंटे तक कोचिंग करता था। कोचिंग से आने के बाद मैं रात में कम से कम एक घंटा रिवीजन और स्टडी करता था। यह महत्वपूर्ण है कि आपकी स्ट्रेटेजी क्लियर होनी चाहिए।

Q. जेईई एडवांस के लिए कैसे पढ़ाई की?
अक्षत-
 मैंने पहले ही तय कर लिया था कि मुझे आईआईटी से ही पढ़ाई करनी है। इसलिए मैंने एमएच-सीईटी के लिए नहीं बैठा, बल्कि आईआईटी के लिए बहुत ही फोकस करके पढ़ाई की। इसके लिए हर दिन सात से आठ घंटे ही पढ़ाई करता था।

Q. आगे आप क्या करना चाहते हैं?
अक्षत- 
मेरा इंटरेस्ट कम्प्यूटर साइंस में है। मैंने पहले से तय करके रखा था।  

Q. अपनी सफलता का श्रेय किसे देते हैं?
अक्षत- 
मेरी सफलता का श्रेय मेरे माता-पिता और ट्यूटोरियल्स के टीचर को जाता है। जब तक मेरे डाउट्स क्लियर नहीं हो जाते थे, तब तक मैं उनके पीछे पड़ा रहता था।

Q. क्या आपने कोई कोचिंग की थी?
अक्षत.
हां मैंने आईआईटी के लिए कोचिंग की थी, मेरे टीचर्स अक्सर एक्स्ट्रा एफर्ट लगाकर मेरे डाउट्स क्लियर करते थे।

Q. पढ़ाई के अलावा आपको क्या पसंद है?
अक्षत- माइंड फ्रेस करने के लिए मैं स्पोर्ट्स और टीवी देखता हूं। मुझे शर्लाक होम्स की सीरिज बहुत पसंद है।

Q.खाने में क्या पसंद है?
अक्षत-
मुझे चिकन बहुत पसंद है। मम्मी अक्सर मेरे लिए चिकन बनाती हैं। रिजल्ट आने के बाद मैंने पूरी फैमिली के साथ 'पिज्जा हट' जाकर पार्टी की।

Q. आईआईटी की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स को आप क्या टिप्स देना चाहते हैं?
अक्षत-
स्टूडेंट्स को फोकस्ड होकर स्टडी करना चाहिए। फ़ॉर्मूले याद कर लेना चाहिए। जब तक डाउट्स क्लियर नहीं हो जाते, तब तक टीचर्स से लगातार पूछना चाहिए। जो दिन में पढ़ा उसकी प्रैक्टिस दिन में एक बार जरुर करना चाहिए। अगर आपने डाउट्स क्लियर नहीं किया और आगे बढ़ गए, तो इससे आगे चलकर बहुत परेशानी होगी। टाइम मैनजमेंट बहुत जरुरी है और मेहनत का कोई विकल्प नहीं है।

Next News

IIT-JEE EXAMS: अधिक पॉजिटिव आंसर पर एडवांस में मिलेगी हायर रैंक

आईआईटी कानपुर की ओर से आयोजित होने वाले जेईई एडवांस में टाईब्रेकर होने पर ज्यादा पॉजिटिव अंक हासिल करने वाले स्टूडेंट को हायर रैंक दी जाएगी। अगर दो या

IIT JEE advance 2017 : 46 वीं रैंक पाने वाले अर्पित ने बताया कैसे की थी तैयारी

अर्पित बताते हैं कि उन्होंने परीक्षा की तैयार बिना स्ट्रेस लिए की थी। विषयों को रटने की बजाय समझने पर फोकस किया था।

Array ( )