सीईओ बनने के लिए 20 साल की उम्र से शुरू करें तैयारी

छोटी उम्र से ही खुद को विकसित करना आपको बड़ी सफलता की ओर ले जा सकता है। यहां कुछ लीडर्स के अनुभव और सलाहें हैं, जो बड़ी कामयाबी की ओर बढ़ने में आपके काम आ सकते हैं।

करियर डेस्क । दुनिया भर के कई शीर्ष पदों के लीडर्स की राय है कि अगर आपका प्लान सीईओ बनने का है तो आपको 20 साल की उम्र से ही अपनी तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। उनके मुताबिक छोटी उम्र से ही खुद को विकसित करना आपको बड़ी सफलता की ओर ले जा सकता है। यहां कुछ लीडर्स के अनुभव और सलाहें हैं, जो बड़ी कामयाबी की ओर बढ़ने में आपके काम आ सकते हैं।

आगे बढने के लिए जोखिम उठाना सीखना जरूरी
अगर आप वाकई सफलता हासिल करना चाहते हैं तो आपको रिस्क लेते रहना होगा। भले ही वह किसी भी क्षेत्र में हो। किसी को यह कहने का मौका न दें कि आप यह नहीं कर सकते। रिस्क लेने के साथ आपका खुद पर भरोसा होना जरूरी है। खासकर जब आप कम उम्र के हों। इस वक्त बिजनेस की दुनिया में एक मुकाम हासिल करने के लिए आपको जोखिम उठाने होंगे। साथ ही छोटे से छोटा काम भी अलग तरीके से करना होगा। ऐसा करना आपको निश्चित रूप से कामयाबी की ओर ले जाएगा। 
शेरिल सैंडबर्ग, सीओओ, फेसबुक

नया सीखने के लिए हमेशा रहें तैयार
जिंदगी में सही कॅरिअर की पहचान अौर उसे शुरू करने का सही समय पता होना चाहिए। जरूरी है कि आप आने वाले पांच सालों का प्लान बनाएं और इसके लिए जो भी लर्निंग्स लेनी हैं उन्हें अभी से लें। कोई भी पैदाइशी सीईओ नहीं होता, लेकिन कामों को अंजाम देने का तरीका आपको सीईओ बनाता है। मैं इंजीनियरिंग स्ट्रीम से था और मुझे बिजनेस की नॉलेज नहीं थी। तब मैंने सब कुछ सीखने की ठानी और सभी विषयों की किताबें ऑनलाइन पढ़ना शुरू कर दिया। इस नॉलेज ने मेरी नींव मजबूत कर दी। 
ड्रियू ह्यूस्टन, सीईओ, ड्रॉप बॉक्

आपकी जिज्ञासा ही आप को भीड़ से अलग बनाती है
सफलता के लिए जिज्ञासु होना बहुत जरूरी है। चीजों के बारे में ज्यादा से ज्यादा सीखने की इच्छा होने पर न केवल आप अपनी नॉलेज को बढ़ा पाते हैं बल्कि आपकी लर्निंग स्किल्स भी बेहतर होती हैं। इसकी मदद से हर समस्या के लिए आपको समाधान सूझते हैं। साथ ही समस्याओं का हल भी आप उन तरीकों से कर पाते हैं, जो पहले इस्तेमाल नहीं हुए हैं। एेसा करके आप भीड़ से अलग बन पाते हैं। 
जॉन स्कले, पूर्व सीईओ, एप्पल

हार्ड वर्क और टीम पर भरोसा करना जरूरी
हार्डवर्क का कोई विकल्प नहीं है। निजी जिंदगी में एक बार मैं पारिवारिक ताैर पर पूरी तरह से टूट चुका था तब प्रोफेशनल लाइफ में मेरी टीम ने मुझे संभाला। उस वक्त मुझे लगा कि चाहे जो भी हो आपको अपनी टीम को प्राथमिकता देनी चाहिए। उन्हें मोटिवेट करते रहना चाहिए क्योंकि अगर आप टीम के लिए सोचेंगे तो वह भी कहीं न कहीं आपके लिए स्टैंड लेगी। जितना ज्यादा आप दूसरों को क्रेडिट देंगे वे आपके प्रति ईमानदार होंगे। इसी से आप एक अच्छे लीडर साबित हो पाएंगे। 
डेनियल शुलमैन, सीईओ, पेपाल

अपने जुनून का पता लगाना जरूरी 
सबसे पहले यह पता लगाना जरूरी है कि वह कौनसा काम है, जिसका आपकाे जुनून है। अगर ऐसा नहीं है तो यह चिंताजनक स्थिति है क्योंकि जीवन में किसी न किसी काम का पैशन होना जरूरी है। याद रखें, अगर आप लॉन्ग टर्म सक्सेस चाहते हैं तो आपको काम करने के लिए जीना होगा। लोग स्मार्ट हैं और हार्डवर्क भी करते हैं, लेकिन आपको उनसे ज्यादा स्मार्ट और ज्यादा हार्डवर्किंग होना होगा।
स्टीव बाॅलमेर, पूर्व सीईओ, माइक्रोसॉफ्ट

Next News

एक आंत्रप्रेन्योर का स्टोरीटेलर होना जरूरी है : टिम वेस्टरग्रेन

एक वेंचर कैपिटलिस्ट के तौर पर स्थापित हुए टिम से जानें इंवेस्टर्स को आकर्षित करने के टिप्स

Array ( )