IIM का रिटन एबिलिटी टेस्ट करना है पास, तो आजमाएं ये जरूरी टिप्स

IIM में एडमिशन के लिए रिटन एबेलिटी टेस्ट लिया जाता है। इसके जरिए स्टूडेंट्स के नॉलेज को परखा जाता है।

एजुकेशन डेस्क। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट यानी IIM अब एडमिशन के इच्छुक स्टूडेंट‌्स का एस्से यानी निबंध का टेस्ट भी लेते हैं। रिटन एबिलिटी या असेसमेंट टेस्ट यानी वैट (WAT) के नाम से जाना जाने वाला यह टेस्ट ग्रुप डिस्कशन का रिप्लेसमेंट है। वैट के जरिए स्टूडेंट्स की नॉलेज को परखा जाता है। अगर आप भी IIM में एडमिशन की तैयारी कर रहे हैं तो वैट में सफलता के कुछ टिप्स आपके लिए मददगार साबित होंगे। 

पढ़ें और नॉलेज जुटाएं 

उम्मीदवार के लिए इंडियन इकोनॉमी, पॉलिटी और सोसाइटी से संबंधित करंट ईवेंट्स की मजबूत नॉलेज होनी सबसे जरूरी है। उदाहरण के लिए अगर आपको जीएसटी पर निबंध लिखने को कहा जाए तो जरूरी है कि आपके पास टैक्सेशन की बेसिक समझ और उससे जुड़ी राजनीतिक घटनाएं व अन्य तथ्यात्मक आंकड़ों की जानकारी हो। चाहे आप जीएसटी के पक्ष में लिखें या विरोध में, लेकिन अपनी राय को असरदार ढंग से पेश करने की क्षमता इस टेस्ट में सफलता की गारंटी बन सकता है। 

निबंध का ढांचा अहम 

लिखते समय ध्यान रखें कि हर नए पॉइंट के लिए नया पैराग्राफ हो। इससे निबंध का ढांचा सुव्यवस्थित और पढ़ने में सहज लगेगा। इसके अलावा उदाहरण किसी भी निबंध में जान डाल देते हैं, लेकिन उन्हें संक्षिप्त रूप में समझाएं। इससे विषय पर आपकी अच्छी पकड़ का पता चलता है और आपके चयन की संभावना बढ़ जाती है। निष्कर्ष लिखते वक्त भी विशेष सावधानी बरतें। 

सबसे पहले फैक्ट्स लिखें 

अच्छे निबंध को तीन प्रमुख हिस्सों में बांटें- इंट्रोडक्शन, बॉडी और कनक्लूजन। निबंध की शुरुआत में कभी भी एकतरफा राय न दें। हमेशा फैक्ट्स को पहले लिखें और उसके बाद मध्य में या अंत में ओपीनियन देना बेहतर होगा। 

आइडियाज को नोट करें 

निबंध का टॉपिक मिलते ही, आपके दिमाग में कई ख्याल आते हैं, इन्हें टेस्ट शीट के अंतिम पन्ने पर नोट करें। विचारों को आने दें और उन्हें पूरी तरह कैप्चर करने के बाद उनकी नंबरिंग करें। इससे आपके निबंध का ढांचा बेहतर बनेगा। 

इन बातों का ध्यान रखें
 
- एस्से को तीन हिस्सों में बांटें - प्लानिंग, राइटिंग और एडिटिंग। 
- लिखावट साफ और स्पष्ट हो और जहां तक हो आसान शब्दों व वाक्यों का इस्तेमाल करें। 
- स्पेलिंग, ग्रामर आदि की गलतियां न करें। 
- निर्धारित समय में निबंध पूरा करें। 

Next News

कंप्यूटर में है रूचि तो 12 वीं या ग्रेजुएशन के बाद वीडियो एडिटिंग में बनाएं सुनहरा करियर

एक वीडियो एडिटर का मुख्य काम किसी भी मोशन पिक्चर, केबल या ब्रॉडकास्ट विजुअल मीडिया इंडस्ट्री के लिए साउंडट्रैक, फिल्म और वीडियो का संपादन करना होता है। 

इन फैक्टर्स के आधार पर चुनिए अपने बिजनेस स्कूल

सही कॉलेज का चुनाव आपकी एम्प्लॉयबिलिटी को मजबूत बनाता है लिए सही फैकल्टी की विशेषता

Array ( )