RGPV में लीडरशिप वर्कशॉप में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने लॉन्च की स्टार्टअप पॉलिसी 

आरजीपीवी 100 स्टूडेंट्स को स्टार्टअप फंडिंग देगा, साथ ही आरजीपीवी स्टूडेंट्स को स्टार्टअप शुरू करने और इसका पेटेंट लेने में भी मदद करेगा। 

भोपाल। स्टार्टअप देश में शुरू हुई एक ऐसी परंपरा है, जिसकी देश को बहुत अधिक जरूरत थी। इसका उद्देश्य देश में नये विचारों के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करना है, ताकि देश का आर्थिक विकास हो और बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर बन सकें। यह पहल युवाओं को उद्योगपति और उद्यमी बनाने का अवसर प्रदान करने के लिए की गई है। यह बात बुधवार को राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने कही। वे राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विवि (आरजीपीवी) में आयोजित स्टार्टअप लीडरशिप वर्कशॉप को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने यहां स्टार्टअप पॉलिसी भी लॉन्च की। कार्यक्रम में एआईसीटीई नई दिल्ली के सदस्य सचिव डॉ. एपी मित्तल ने कहा कि इस योजना का सही अर्थ यही है कि हम जॉब के पीछे न भागें, बल्कि हम में दूसरे को जॉब देने की क्षमता हो।

4 किश्तों में मिलेंगे एक लाख रुपए 

आरजीपीवी के कुलपति सुनील कुमार ने बताया कि स्टार्टअप पॉलिसी के तहत 100 स्टूडेंट्स को स्टार्टअप के लिए एक-एक लाख रुपए का अनुदान चार किश्तों में दिया जाएगा। साथ ही नगर निगम द्वारा बनाए जा रहे इन्क्यूबेशन सेंटर में इन स्टूडेंट्स को एक खास रूम मिलेगा। जिसमें उनके स्टार्टअप को स्टेब्लिश करने से जुड़े सारे इक्यूपमेंट और सामान उन्हें मुहैया कराए जाएंगे। आरजीपीवी स्टूडेंट्स को स्टार्टअप शुरू करने और इसका पेटेंट लेने में भी मदद करेगा। 
 

Next News

RJIT ने जीते एशिया सोलर चैलेंज कॉम्पटीशन में 4 अवार्ड, बना ओवरऑल रनरअप

रुस्तमजी प्रौद्योगिकी संस्थान के 25 स्टूडेंट्स ने सोलर व्हीकल को एशिया सोलर चैलेंज कॉम्पटीशन में भागीदारी की। 

देश के टॉप MBA कॉलेज, जहां बिना CAT के मिलेगा एडमिशन

देश में कई ऐसे कॉलेज हैं जो अपना अलग टेस्ट लेते हैं ऐसे में आप इसमें अच्छा स्कोर करके बेहतरीन कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं।

Array ( )