राजस्थान यूनिवर्सिटी : प्रोस्पेक्टस में ही मिलेगी 'घूमर' की जानकारी

इस साल प्रोस्पेक्टस में ही मिलेगी 'घूमर' की जानकारी

एजुकेशन डेस्क। राजस्थान यूनिवर्सिटी में हर साल होने वाले इंटरनेशनल यूथ फेस्ट 'घूमर' को अब नई पहचान मिलेगी। इसके लिए फेस्ट को सेशन की शुरुआत में प्रोस्पेक्टस में शामिल कराया जाएगा। इसके लिए डीएसडब्ल्यू की ओर से प्रयास किए जा रहे हैं। इसके बाद घूमर और ज्यादा व्यवस्थित व भव्यता के साथ होगा। इससे देश-विदेश से आने वाली यूनिवर्सिटी को बुलाना आसान हो जाएगा। 

अभी तक क्या होता था?

उल्लेखनीय है अभी घूमर की कोई फिक्स डेट नहीं होती है। इसे आयोजित करने से कुछ दिनों पहले इसकी तारीख तय की जाती है। इससे कई बार व्यवस्थाओं को पूरा करने का समय पर्याप्त नहीं मिल पाता है। अब ऐसा नहीं होगा और वर्ष की शुरुआत में घूमर की तारीख तय हो जाने से इसका आयोजन और अच्छे तरीके किया जा सकेगा। 

एग्जाम्स के बाद तय होगी तारीख 

फिलहाल आरयू में यूजी-पीजी के एग्जाम्स हो रहे हैं, जिसमें टीचर्स बिजी हैं। एग्जाम्स के बाद डीएसडब्ल्यू टीचर्स के साथ मीटिंग करेंगी और तारीख तय करके उसे प्रोस्पेक्टस में जोड़ने के लिए कुलपति को लेटर देकर अपील करेंगी। यदि कुलपति ने सहमति दी तो घूमर सेशन की शुरुआत में प्रोस्पेक्टस में शामिल हो जाएगा। 

स्टूडेंट्स को दी स्कॉलरशिप 

दूसरी ओर डीएसडब्ल्यू के सहयोग से स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप दी गई। इसके लिए सभी संघटक कॉलेजों व डिपार्टमेंट्स के स्टूडेंट्स से एप्लीकेशन मांगी गई थीं। डीएसडब्ल्यू के अनुसार यह एक फिक्स डिपोजिट के इंटरेस्ट से आया अमाउंट था, जिसे यूनिवर्सिटी की ओर से स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप के रूप में दिया गया। 

इनका क्या है कहना?

प्रोस्पेक्टस पर काम चल रहा है। घूमर को सेशन की शुरुआत में प्रोस्पेक्ट्स में जोड़ने के प्रयास हैं। अभी एग्जाम्स में टीचर्स बिजी हैं, उनसे फ्री होने पर मीटिंग की जाएगी और घूमर की तारीख तय कर उसे प्रोस्पेक्ट्स में शामिल करने के लिए कुलपति को लेटर िलखा जाएगा। 
सरीना कालिया, डीएसडब्ल्यू, आरयू 

Next News

नॉन-आईआईटी इंजीनियरिंग कॉलेजों में भी हो सकेगी PhD., सरकार ने लिया फैसला

गैर आईआईटी कॉलेजों में भी इसी सत्र से पीएचडी कोर्स शुरू करने की तैयारी है।

कहीं आप भी तो नहीं ले रहे फर्जी यूनिवर्सिटी में एडमिशन, यहां देखें लिस्ट

UGC ने नियमों का पालन ना करने वालीं 24 फर्जी यूनिवर्सिटियों की लिस्ट जारी की है। ये सभी नियम विरूध चल रहीं थीं। आयोग ने इन सभी को फर्जी घोषित कर डिग्री

Array ( )