Articles worth reading

माइनॉरिटी स्कॉलरशिप स्कीम का फायदा ले रहे 10 इंस्टीट्यूट्स के खिलाफ FIR 

अमरोहा और संभल जिले के 5-5 इंस्टीट्यूट्स के नाम शामिल हैं।

माइनॉरिटी स्कॉलरशिप स्कीम का फायदा ले रहे 10 इंस्टीट्यूट्स के खिलाफ FIR 

एजुकेशन डेस्क, लखनऊ। केंद्र सरकार की माइनॉरिटी स्कॉलरशिप स्कीम में गड़बड़ी कर रहे उत्तर प्रदेश के 10 इंस्टीट्यूट्स के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है। इनमें अमरोहा और संभल जिले के 5-5 इंस्टीट्यूट्स के नाम शामिल हैं। जबकि बाकी 10 और इंस्टीट्यूट्स के खिलाफ एक्शन लेने की तैयारी की जा रही है और जिला प्रशासन की रिपोर्ट आने के बाद इनके खिलाफ भी एक्शन लिया जाएगा। 

स्टूडेंट्स के डाटा वेरिफिकेशन से चला पता

- साल 2017-18 में माइनॉरिटी स्कॉलरशिप स्कीम का फायदा लेने वाले स्टूडेंट्स के डाटा को माइनॉरिटी वेलफेयर डिपार्टमेंट के ज्वॉइंट डायरेक्टर आरपी सिंह ने रैंडम इंस्पेक्शन कराया था। 
- इस रिपोर्ट में सामने आया था कि मुरादाबाद के 3, अमरोहा के 5 और संभल के 12 इंस्टीट्यूट माइनॉरिटी स्कॉलरशिप स्कीम में गड़बड़ी कर रहे हैं। ये इंस्टीट्यूट इस स्कीम का लाभ लेने के लिए इनएलिजिबल थे, लेकिन उसके बावजूद फायदा उठा रहे थे।

अकाउंट्स में पैसे ट्रांसफर करने पर लगी रोक

- रिपोर्ट सामने आने के बाद इन 20 इंस्टीट्यूट्स के 2,328 स्टूडेंट्स के अकाउंट्स के ट्रांजेक्शन पर 12-13 फरवरी को ही रोक लगा दी गई थी।
- इन्विस्टिगेशन में सामने आया था कि ये इंस्टीट्यूट्स म्यूजिक और टेक्निकल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के तौर पर काम कर रहे थे। इसके साथ ही ये सभी इंस्टीट्यूट्स प्रयाग संगीत समिति से एफिलेटेड थे।

इसलिए लिया गया ये एक्शन

- दरअसल, केंद्र सरकार और इन इंस्टीट्यूट की तरफ से चलाए जा रहे कोर्सेस माइनॉरिटी स्कॉलरशिप स्कीम की गाइडलाइंस के मुताबिक एलिजिबल नहीं थे। 
- ये सामने आने के बाद सरकार ने इन जिलों के डीएम को इन्वेस्टिगेशन कर नियम के मुताबिक कार्रवाई करने के आदेश दिए थे।

 

Next News

विश्वविद्यालयों को रिसर्च के लिए नहीं मिलेंगे 50 करोड़: RUSA

रूसा से ग्रांट के लिए चाहिए होते हैं 3.51 अंक सबसे ज्यादा 3.09 अंक मिले इंदौर विवि को

IIM INDORE: आईपीएम एप्टिट्यूड टेस्ट आज, 28 शहरों में हो रही एग्जाम

टेस्ट शुरू होने के ढाई घंटा पहले पहुंचना होगा सेंटर, जूलरी व पेन-पेंसिल भी प्रतिबंधित

Array ( )