Articles worth reading

असफलता ही कामयाबी के लिए तैयार करती है: राकेश ओमप्रकाश मेहरा

आप चाहे जो कुछ भी कर रहे हों लेकिन सिर्फ सामान्य तरीके से उसे अंजाम दे रहे हैं तो उसका आउटपुट भी सामान्य ही होगा।

असफलता ही कामयाबी के लिए तैयार करती है: राकेश ओमप्रकाश मेहरा

First Person : दिल्ली में वैक्यूम क्लीनर मशीनें बेचा करता था। इसके बदले महीने के 415 रुपए मिला करते थे। लेकिन गेम चेंज करने की खूबी मेरे अंदर शुरू से थी। एडवरटाइजिंग में दिलचस्पी के चलते मैं दिल्ली से मुंबई आया। धीरे-धीरे कई नेशनल व मल्टीनेशनल ब्रांड्स के टीवी एड शूट किए और पहचान भी पाई। जल्द ही लोगों के बीच फिल्म डायरेक्टर के रूप में जाना जाने लगा। लेकिन यहां तक के सफर के लिए कड़ी मेहनत का निवेश इसके लिए किया था। सच यह भी है कि आप चाहे जो कुछ भी कर रहे हों लेकिन अगर सिर्फ सामान्य तरीके से उसे अंजाम दे रहे हैं तो फिर उसका आउटपुट भी सामान्य ही होगा। पहचान हासिल करने के लिए तो आपको कुछ अलग ही करना होगा। 

असफलता ही आपको कामिया्ब करती है

-असफलता के दूसरे छोर पर है सफलतापहली बार मिली असफलता से अक्सर हम निराश हो जाते हैं। लेकिन सच यह भी है कि निराशा के दौर के छंटने के बाद जब हम फिर से कोशिश करते हैं तो पहले से कहीं अधिक विपरीत परिस्थितियों के लिए तैयार होते हैं और ये विपरीतता हमें ताकत देती है। असफलता इसी तरह आपको कामयाबी के लिए तैयार करती है। इससे मिले सबक आपके लिए आगे के रास्ते तैयार कर देते हैं। 

सही फैसला लेने पर आगे की राह आसान

-मुझे लगता है कि जिंदगी में उतार चढ़ाव के दौर तो आते रहते हैं, लेकिन सफल होने के लिए असली लड़ाई आपको खुद से ही लड़नी होती है। इस दौर में काफी सारे सवाल आपके भीतर होते हैं। लेकिन इन सभी सवालों से बाहर निकलकर हिम्मत के साथ आगे बढ़ने का फैसला भी आपको खुद ही लेना पड़ता है। एक बार सही निर्णय ले लिया तो फिर आगे का संघर्ष आसान हो जाता है। 

दिल की तसल्ली जरूरी 
 

-किसी भी फिल्म की कामयाबी या नाकामयाबी से ज्यादा मन का सुकून मेरी लिए महत्वपूर्ण था। हालांकि जरूरी नहीं कि मन के काम को हमेशा सफलता मिले ही। ऐसा भी होगा कि पसंद के काम को पैशन के साथ करते हुए भी कामयाबी आपके हाथ न लगे। लेकिन इस स्थिति के लिए आपको मानसिक तैयारी करनी होगी। लोगों की राय की भी फिक्र न करें और अपने भीतर से सारी नकारात्मक बातों को निकालकर आगे बढ़ें। मैंने ये तमाम सूत्र अपनाएं हैं और मुझे लगता है कि मुझे इनसे मदद भी मिली है। 

कौन है राकेश ओमप्रकाश मेहरा ?

- राकेश ओमप्रकाश मेहरा का जन्म 7 जुलाई 1963 नई दिल्ली में एक पंजाबी परिवार में हुआ। 

Next News

कामयाबी सबको नहीं मिलती, अगर मिली है तो उसका सम्मान करें: साइना

टैलेंट सब में नहीं होता, लेकिन कई बार कड़ी मेहनत करके टैलेंट को विकसित किया जा सकता है।

सफलता इंतजार करवाती है, धैर्य रखना जरूरी : राहुल द्रविड़

संघर्ष करना जरूरी है और सफलता व असफलता दोनों ही इसके हिस्से हैं। आपको दोनों का सामना करना पड़ेगा। 

Array ( )