'दिव्यांग सारथी' एप: बिना इंटरनेट के रोजगार-योजनाओं की मिलेगी जानकारी

भारत सरकार के सुगम्य भारत अभियान के तहत 2.80 करोड़ से ज्यादा दिव्यांगों के लिए शुरू होगी सेवा

एजुकेशन डेस्क। दिव्यांगजनों को विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ देने के लिए और समय-समय पर उन्हें अपडेट करने के लिए भारत सरकार ने मोबाइल एप की सेवा शुरू की है। सुगम्य भारत अभियान के तहत सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रालय की ओर से शुरू इस एप को 'दिव्यांग सारथी' नाम दिया गया है। इसके पीछे सरकार का उद्देश्य दिव्यांग सशक्तिकरण है, जिससे कि दिव्यांगजनों को मुख्य धारा में शामिल किया जा सके। मोबाइल एप शुरू करने के पीछे सरकार का उद्देश्य यह है कि दिव्यांगों को आसानी और सुविधाजनक तरीके से सभी सूचनाएं मिल जाएंगी। सिर्फ एक क्लिक के जरिए वह खुद से जुड़ी सरकारी योजनाओं, विभिन्न नियमों, दिशा निर्देशों, रोजगार संबंधी अवसर, छात्रवृत्ति जैसी महत्वपूर्ण जानकारी ले सकते हैं। 

बिना नेट के चलेगा एप 

- एप की विशेष बात यह रहेगी कि इसे चलाने के लिए इंटरनेट कनेक्शन की भी जरूरत नहीं है और मोबाइल में डाउनलोड करने के बाद यह बिना नेट के ही संचालित होगा। 

लिखित जानकारी को ऑडियो में बदल सकेंगे 

- सरकार ने दिव्यांगों के लिए एप में एक विशेष सुविधा भी दी है। इसमें ऑडियो नोट्स नाम का एक कार्नर है, जिसमें जाकर दिव्यांग किसी भी लिखित नोट्स को ऑडियो नोट्स में बदल सकते हैं। इतना ही नहीं एप के जरिए वह इसके फोन्ट भी छोटे बड़े कर सकते हैं।
- मोबाइल एप को हिंदी या इंग्लिश दोनों भाषाओं के अनुरूप तैयार किया गया है और इसे स्मार्ट फोन के माध्यम से गूगल प्ले स्टोर पर जाकर डाउनलोड किया जा सकता है। डाउनलोड करने के बाद जिसके पास इंटरनेट नहीं है, वह भी इसे इस्तेमाल कर सकता है।

2.68 करोड़ से ज्यादा दिव्यांग हैं भारत में 

- वर्ष 2011 की जनसंख्या के अनुसार भारत में 2.68 करोड़ से ज्यादा दिव्यांगजन हैं। यह कुल संख्या के 2.2 प्रतिशत से अधिक हैं।
- पिछले 6-7 सालों में दिव्यांगजनों की संख्या में और ज्यादा बढ़ोत्तरी हुई है।
- इसलिए सरकार ने इन्हें विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ देने के लिए यह व्यवस्था शुरू की। इससे दिव्यांगजनों को समय समय पर अपडेट किया जा सके।

Next News

मैनेजमेंट एजुकेशन : एक सोच जो भारत को ले जाती है दुनिया के हर कोने में

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, अहमदाबाद (IIMA) की स्थापना 1961 में ट्रेन्ड मैनजमेंट प्रैक्टिशनर को तैयार करने के उद्देश्य से की गई थी।

CLAT: एग्जाम में गड़बड़ी की शिकायत 27 मई तक करें स्टूडेंट्स, SC ने कहा

ऑनलाइन हुए इस एग्जाम में स्टूडेंट्स को कंप्यूटर हैंग, कंप्यूटर बंद होने जैसे समस्याएं आईं थीं।

Array ( )