IIT-JEE: लास्ट डेज में नहीं पढ़े नोट्स, स्कोर के लिए एग्ज़ाम के टाइम पर रोज़ दिए मॉक टेस्ट

भास्कर एजुकेशन शुरू कर रहा है गाइडेंस सीरीज़।जिसमें जेईई टॉपर्स बताएंगे कि एग्ज़ाम से कुछ दिन पहले उन्होंने कैसे तैयारी की थी।

एजुकेशन डेस्क। जेईई एडवांस्ड 20 मई को है। स्टूडेंट्स तैयारियों में जुटे हैं। अब समय सब्जेक्टिव लर्निंग का नहीं, बल्कि सही स्ट्रेटजी से चलने का है। स्टूडेंट्स बेहतर स्कोर कर सकें इस उद्देश्य से यह गाइडेंस सीरीज़ शुरू की जा रही है जिसमें जेईई टॉप कर चुके कैंडिडेट्स बताएंगे कि एग्ज़ाम से ठीक पहले उन्होंने कैसे तैयारी की थी। सभी ब्रिलियंट स्टूडेंट्स के बीच वे कैसे बेहतर स्कोर कर पाए।

जेईई में आखिरी दिनों की तैयारी ही रैंक तय करती है। सिलेक्शन और बात है लेकिन रैंक इस लास्ट टाइम प्रिपरेशन से सुधरेगी। तैयारी तो एग्ज़ाम दे रहे लाखों कैंडिडेट्स ने की है और सभी ब्रिलियंट हैं। इन सबके बीच ये आखिरी तैयारी कई ईक्वेशंस बदल देगी। यह मेरा अनुभव है। मैंने इस दौरान वे ही टॉपिक पढ़े जो टीचर्स ने इम्पॉर्टेंट बताए थे। सबसे ज्यादा फोकस रखा मॉक टेस्ट पर। इससे स्पीड और एक्यूरेसी बढ़ी। सारे टॉपिक्स रिवाइज़ हो गए। 

जनक अग्रवाल,  AIR-2, 2016

पेपर टाइम पर मॉक देने से सेट हुई बायो क्लाॅक

  • अब एग्ज़ाम टाइमिंग के मुताबिक बायोलॉजिकल क्लॉक सेट करने का समय है। माइंड उस वक्त बहुत एक्टिव होता है जिस वक्त के लिए आपने उसे ट्रेंड किया है। इसलिए जब जेईई एडवांस्ड का पेपर है उसी वक्त मॉक टेस्ट दीजिए। यकीन मानिए इसका असर होता है। 
  • दोपहर में सोने की आदत परेशानी बन सकती है। मैं 20 मिनट पावर नैप लेता था, लेकिन एग्ज़ाम के समय के आसपास नहीं। 
  • आखिरी 15-20 दिनों में पढ़ते हुए मैंने एक डायरी में बुलेट पॉइंट्स में इम्पॉर्टेंट चीज़ें नोट कीं। जैसे हर टॉपिक के कुछ क्लू होते हैं। वो याद रहें तो मुश्किल नहीं होती। एक-दो दिन पहले इस डायरी के मुताबिक रिविज़न किया। 
  • एग्ज़ाम से पहले स्ट्रेस होगा। फुटबॉल बास्केटबॉल खेलना पसंद है लेकिन नहीं खेला। इनमें चोट लगने की संभावना है। ऐन वक्त पर ऐसा रिस्क नहीं ले सकते। 
  • वीडियो गेम या मोबाइल पर गेम खेलना रिलैक्सेशन नहीं, डिस्ट्रैक्शन है। 

सब्जेक्स के मुताबिक सबसे ज़रूरी टॉपिक्स 

  • केमिस्ट्री : थर्मोडायनेमिक्स 
  • मैथ्स : कोऑर्डिनेट ज्यॉमेट्री, कैल्कुलस 
  • फिज़िक्स : रोटेशन, मॉडर्न फिज़िक्स 

टॉपर्स टिप 
ब्रिलियंट सभी हैं और सभी ने तगड़ी तैयारी की है। आपकी लास्ट मिनट प्रिपरेशन रैंक पर असर करेगी। मॉक टेस्ट और इम्पॉर्टेंट टॉपिक्स। इन्हीं पर फोकस करें।  

Next News

JEE ADVANCE : कॉमन लिस्ट में सिलेक्ट होने से गर्ल्स को होगा ज्यादा फायदा

जेईई एडवांस के लिए क्वालिफाई होने वाली गर्ल्स के लिए इस बार ज्यादा अपॉर्च्युनिटी हैं। वजह है कि टॉप इंजीनियरिंग संस्थानों में जेंडर गैप को घटाने के लिए

IIT-JEE: आखिरी दिनों में नया पढ़ने की बजाए सिर्फ रिवाइज करें

लास्ट मोमेंट में ऐसी चीजें पढ़ें, जिनमें फॉर्मूले ज्यादा हों। फॉर्मूले रिवाइज नहीं करने से रैंक और स्कोर पर असर पड़ सकता है।

Array ( )