MP: सीएम योजना पर संकट, बोर्ड की लापरवाही से स्टूडेंट्स के लैपटॉप अटके 

28 मई को मुख्यमंत्री उन सभी परीक्षार्थियों को 25-25 हजार रुपए के चेक देंगे जिनके 75 फीसदी से अधिक नंबर हैं।

एजुकेशन डेस्क। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बोर्ड की परीक्षा में बेहतर प्रदर्शन करने वाले बच्चों को लैपटॉप दिए जाने की घोषणा की थी। प्रदेशभर के सैकड़ों स्टूडेंट्स का 12वीं का रिजल्ट अलग-अलग कारणों से अटका हुआ है। स्टूडेंट्स की चिंता यह है कि यदि जल्द ही रिजल्ट जारी नहीं हुआ तो वह लैपटॉप से वंचित हो सकते हैं। 28 मई को मुख्यमंत्री उन सभी परीक्षार्थियों को 25-25 हजार रुपए के चेक देंगे जिनके 75 फीसदी से अधिक नंबर हैं।


शिक्षा विभाग है जिम्मेदार 
- शिक्षा विभाग के जिम्मेदार कर्मचारियों की लापरवाही की वजह से हर साल अनेक स्टूडेंट्स के रिजल्ट रुक जाते हैं। इस बार भी माध्यमिक शिक्षा मंडल ने विभिन्न कारणों से प्रदेशभर के सैकड़ों परीक्षार्थियों के नतीजे रोक रखे हैं। 10वीं वाले विद्यार्थी उतने संकट में नहीं हैं जितने कि 12वीं के। कारण यह है कि 28 मई को सूबे के मुखिया अव्वल आने वाले सभी परीक्षार्थियों को लैपटॉप के लिए चेक बांटेंगे। भोपाल में डमी चेक दिए जाएंगे। इसकी राशि बैंक खातों में ट्रांसफर होगी।

स्टूडेंट्स को सता रही ये चिंता
- स्टूडेंट्स की चिंता यह है कि यदि उनके परीक्षा परिणाम 28 तक नहीं आए तो वह लैपटॉप से कहीं वंचित नहीं रह जाएं। रिजल्ट जारी कराने के लिए प्रिंसिपल से लेकर आयुक्त तक गुहार लगा चुके हैं लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं निकला है। संभागों के जेडी भी भोपाल रिमाइंडर भेज चुके हैं।

 
गलती सुधार दी फिर भी विद्यार्थियों का रिजल्ट रोका 
- विभागीय अधिकारियों के अनुसार प्रदेशभर के 500 से अधिक स्टूडेंट्स के परीक्षा परिणाम अटके हुए हैं। कायदे से जो भी कमी है उसे तत्काल दूर कर रिजल्ट घोषित किया जाना चाहिए लेकिन बोर्ड ऑफिस के कर्मचारियों लापरवाही के कारण यह हो नहीं पा रहा है। 
- अधिकारी भी शिकायतों को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। इंदौर के शासकीय उमावि मल्हाराश्रम में सुपर-100 वाले विद्यार्थी पढ़ते हैं। यहां के 22 स्टूडेंट्स का रिजल्ट भी बोर्ड ने रोक रखा है।
- स्कूल प्राचार्य राजू मेहरा ने बोर्ड सचिव और परीक्षा नियंत्रक को लिखे पत्र में कहा है कि उनके स्कूल के जिन स्टूडेंट्स के परीक्षा परिणाम जारी नहीं हुए हैं उसमें उनकी कोई गलती नहीं है। 

इस वजह रुका 22 स्टूडेंट्स का रिजल्ट 
- दरअसल, इन 22 स्टूडेंट्स ने परीक्षा फॉर्म में गलती से अतिरिक्त विषय भर दिए थे। इन्होंने बाद में अतिरिक्त विषय हटाने के आवेदन भी दे दिए थे। फॉर्म भरने की अंतिम तारीख से पहले बोर्ड ने इनके अतिरिक्त विषय हटा दिए थे।
- परीक्षा में इन्हें उन विषयों में सम्मिलित भी नहीं किया गया। यानी बोर्ड के बाबुओं की लापरवाही से इनका रिजल्ट रुका हुआ है। 


स्टूडेंट्स के खाते में जमा होंगे 25 हजार रुपए 
- प्रतिभा प्रोत्साहन योजना के तहत सरकार ने अच्छे नंबर से पास होने वाले स्टूडेंट्स को लैपटॉप देने की घोषणा की है। एससी और एसटी वर्ग के स्टूडेंट्स को 75 और ओबीसी एवं सामान्य वर्ग के स्टूडेंट्स को 12वीं में 85 प्रतिशत नंबर लाने पर लैपटॉप दिया जाना है। 
- सरकार लैपटॉप नहीं देते हुए इसे क्रय करने के लिए 25 हजार रुपए स्टूडेंट्स के बैंक खाते में 28 मई को जमा करेगी। 

स्टूडेंट्स दुविधा में 
- रिजल्ट अटकने से इंदौर सहित प्रदेशभर के सैकड़ों स्टूडेंट्स दुविधा में हैं, उनके लैपटॉप का क्या होगा? विभाग ने साफ नहीं किया है कि 28 मई के बाद जिनका रिजल्ट जारी होगा उन्हें लैपटॉप की राशि मिलेगी या नहीं?
- स्टूडेंट्स का कहना है कि बोर्ड की लापरवाही का खामियाजा वह क्यों भुगते? रिजल्ट फौरन जारी किया जाए ताकि उन्हें भी लाभ मिल सके। 

सजा हम क्यों भुगते 
- मल्हाराश्रम स्कूल में सुपर-100 के स्टूडेंट्स हैं। सालभर हमने जी-जान से पढ़ाई की। हमें 90 फीसदी अंक मिलने की उम्मीद है। बोर्ड ने हमारा रिजल्ट अटका रखा है। यदि 28 मई के पहले परिणाम जारी नहीं हुआ तो हमें लैपटॉप नहीं मिल पाएगा। बोर्ड के बाबुओं की लापरवाही की सजा हमें भुगतना पड़ेगी। 
(वैशाली, ऋतिक, निधि, विनोद, साक्षी सभी परीक्षार्थी) 

अफसरों को रिमाइंडर किए 
- सुपर-100 के विद्यार्थी मुझसे मिले थे। उनका कहना है कि रिजल्ट अटकने से उन्हें लैपटॉप की राशि नहीं मिल पाएगी। उनके दस्तावेज सही पाए गए। मैंने दो-दो बार लोक शिक्षण आयुक्त और प्रमुख सचिव से बात की है। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि जल्द ही रिजल्ट जारी हो जाएगा। 
(जेके शर्मा, संभागीय संयुक्त संचालक, स्कूल शिक्षा) 

रिजल्ट जारी कर रहे हैं 
- हां, यह सही है कि प्रदेशभर के 12वीं के कई बच्चों के रिजल्ट घोषित नहीं हो सके हैं। इंदौर के सुपर-100 के स्टूडेंट्स का रिजल्ट तैयार किया जा रहा है। संभवत: आज-कल में जारी कर दिया जाएगा। उनके विषयों को लेकर कर्मचारियों को गलतफहमी हो गई थी, इसलिए परिणाम अटक गया। 
(जयश्री कियावत, आयुक्त, लोक शिक्षण, मप्र) 


 

Next News

9th-12th के स्टूडेंट्स के लिए स्कॉलरशिप टेस्ट, 25 मई तक करें अप्लाय

एक्जाम में पहला स्थान प्राप्त करने वाले को 50 हजार एवं दूसरा स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागी को 25 हजार रुपए की राशि प्रदान की जाएगी।

माधव म्यूजिक कॉलेज में ऑनलाइन होगा एडमिशन, जून से रजिस्ट्रेशन शुरू

समें महिलाओं के लिए उम्र का बंधन नहीं रहेगा। इसके अलावा पुरुषों के लिए अधिकतम उम्र के बंधन को बढ़ा दिया गया है। 

Array ( )