NEET 2018: फॉर्म में करेक्शन का आज आखिरी दिन, ऐसे करें ठीक

कैंडिडेट्स अपने फॉर्म में पर्सनल डिटेल्स को करेक्ट कर सकते हैं, हालांकि इसके लिए उन्हें फीस देनी होगी।

एजुकेशन डेस्क, नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) ने नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) में अपीयर हुए कैंडिडेट्स को फॉर्म में हुई गलती को सुधारने का एक और मौका दिया था, जो शुक्रवार को खत्म हो रहा है। स्टूडेंट्स फॉर्म में तीन कैटेगरी में हुई गलती को बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट cbseneet.nic.in पर जाकर करेक्ट कर सकते हैं। इसके बाद स्टूडेंट्स को फॉर्म करेक्शन का कोई मौका बोर्ड की तरफ से नहीं दिया जाएगा। बता दें कि फॉर्म में करेक्शन के लिए बोर्ड ने 15 मई को ओपन की थी, जो शुक्रवार शाम 5 बजे तक ही ओपन रहेगी।

इन गलतियों को ठीक कर सकते हैं कैंडिडेट्स

- CBSE ने बुधवार को फॉर्म में करेक्शन करने के लिए दोबारा से मौका दिया है। जो कैंडिडेट्स अपनी पर्सनल डिटेल्ट में करेक्शन करना चाहते हैं, वो बोर्ड की वेबसाइट पर जाकर ठीक कर सकते हैं।
- कैंडिडेट्स अपनी सिर्फ बर्थ डेट और कैटेगरी को ही ठीक कर सकते हैं। इसके साथ ही फिजिकल डिसेबिलिटी वाले कैंडिडेट्स अपने स्टेटस में करेक्शन कर सकते हैं।
- हालांकि जिन कैंडिडेट्स को अपन फॉर्म में करेक्शन करना है, उसके लिए अलग से फीस भी देनी होगी।

13 लाख से ज्यादा कैंडिडेट्स ने दी NEET

- इस साल NEET एग्जाम में 13,26,725 से ज्यादा कैंडिडेट्स ने हिस्सा लिया। इसमें 7,46,076 फीमेल कैंडिडेट्स और 5,80,648 कैंडिडेट्स शामिल हैं। जबकि एक ट्रांसजेंडर कैंडिडेट ने भी NEET एग्जाम दिया था।
- इस एग्जाम के लिए देशभर के 136 शहरों में 2,225 एग्जाम सेंटर्स बनाए गए थे। बता दें कि एग्जाम का रिजल्ट 5 जून तक डिक्लेयर किया जा सकता है और इसी के बाद आगे की प्रोसेस शुरू होगी।

NEET एग्जाम से जुड़ी 3 बड़ी बातें

- साल 2016 से पहले तक मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम को ऑल इंडिया प्री-मेडिकल टेस्ट (AIPMT) कहा जाता था। जिसमें गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेजों की 15% एमबीबीएस और बीडीएस की सीटों को भरा जाता था, जबकि बाकी की 85% सीटें स्टेट गवर्नमेंट अपने एंट्रेंस एग्जाम के जरिए भरती थी। इसके साथ ही प्राइवेट कॉलेज भी अलग से एंट्रेंस टेस्ट लेते थे।
- इतने सारे एग्जाम्स की जगह 2017 में NEET का कॉन्सेप्ट आया और इसी साल पहली बार देशभर में ये एग्जाम हुआ। इस एग्जाम के जरिए ही स्टूडेंट्स को प्राइवेट और गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेजों में एडमिशन मिलता है। 
- NEET एग्जाम के जरिए AIIMS, JIPMER और AFMC को छोड़कर बाकी सभी गवर्नमेंट और प्राइवेट मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में एडमिशन मिलता है। 

Next News

NEET 2018: एग्जाम का पूरा एनालिसिस, कितना हो सकता है कटऑफ?

एक्सपर्ट के मुताबिक, पिछली साल की तुलना में इस साल का पेपर सरल रहा। साथ ही इस साल 556 से कम नंबर पर मिल सकता है गवर्नमेंट कॉलेज।

AIIMS: सेकेंड शिफ्ट का एग्जाम शुरू, 807 सीटों पर मिलेगा एडमिशन

AIIMS का एग्जाम दो शिफ्ट में रखा गया है। पहली शिफ्ट सुबह 9 से 12:30 बजे तक होगी, जबकि दूसरी शिफ्ट दोपहर 3 बजे से शाम 6:30 बजे तक रहेगी।

Array ( )