ऑनलाईन सिनेमा छोटे मेकर्स को दे रहा बड़ा प्लेटफॉर्म

टफ्लिक्स और अमेजन प्राइम के बिजनेस मॉडल की लोकप्रियता ने ऑनलाइन सिनेमा को पूरी दुनिया के दर्शकों तक पहुंचा दिया है। इसके अलावा गूगल प्ले ने भी ऑनलाइन फिल्मों की पहुंच को आसान बनाया है।

करियर डेस्क । नेटफ्लिक्स और अमेजन प्राइम के बिजनेस मॉडल की लोकप्रियता ने ऑनलाइन सिनेमा को पूरी दुनिया के दर्शकों तक पहुंचा दिया है। इसके अलावा गूगल प्ले ने भी ऑनलाइन फिल्मों की पहुंच को आसान बनाया है। यही वजह है कि अब टिकट विंडो के सामने लाइन में लगने के बजाय घर में काउच पर मोबाइल में मूवी देखने का लुत्फ उठाने का चलन भारत में भी बढ़ता जा रहा है। अच्छी बात यह है कि सिनेमा के इस नए बिजनेस मॉडल ने उन लोगों के लिए शानदार कॅरिअर के रास्ते खोल दिए हैं, जो अभी तक पैसे की कमी की वजह से अपनी रचनात्मक क्षमता को दुनिया के सामने नहीं रख पाए थे। इस इंडस्ट्री ने नए डायरेक्टर्स और प्रोड्यूसर्स के अलावा भी ढेरों क्षेत्रों में असीम संभावनाएं हैं।

क्यों चुनें इस कॅरिअर को? 
देश में पिछले दो साल में वेब सीरीज की लोकप्रियता खासी बढ़ी है और अब तो कई बड़े प्रॉडक्शन हाउस वेब सीरीज प्रोड्यूस कर रहे हैं। उदाहरण के तौर पर इनसाइड एज, गर्ल इन द सिटी, टेस्ट केस जैसी सीरीज को उनकी रचनात्मकता और स्टोरी टैलिंग की वजह से दर्शकों ने खूब पसंद किया है। साथ ही बॉलीवुड के बड़े एक्टर्स भी इस क्षेत्र में उतर रहे हैं। बोस : डेड/अलाइव में मेन स्ट्रीम सिनेमा के एक्टर राजकुमार राव ने काम किया है। इसके अलावा नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम, वूट, एटीएल बालाजी और वीयू जैसे प्लेटफॉर्म्स ने राना दग्गुबाती, विवेक ओबेराय, आर माधवन, स्वरा भास्कर जैसे कलाकारों को कई पॉपुलर वेब सीरीज में फीचर किया है। ऐसी ही क्रिएटिव फिल्मों में अनुपम खेर और नसीरुद्दीन शाह जैसे मंझे हुए कलाकार भी काम कर रहे हैं। कुल मिलाकर तमाम मिसालें इस क्षेत्र की मजबूती की ओर संकेत दे रही हैं। 

क्या करना होगा? 
अगर आप भी इंटरनेट फिल्म मेकर के रूप में इस क्षेत्र से जुड़ना चाहते हैं तो आपको डिजिटल मीडिया के इस्तेमाल के साथ-साथ फिल्म मेकिंग, स्क्रीन राइटिंग, एडिटिंग, लाइटिंग, सेट डिजाइन और संबंधित कामों को देखना होगा। यहां सिनेमा के साथ-साथ काॅमर्शियल, इंडस्ट्रियल और डाॅक्यूमेंट्री वर्क में भी काम की भरपूर संभावनाएं हैं। साथ ही इस क्षेत्र को चुनने पर आपके पास पूरी दुनिया में अपने टैलेंट के प्रदर्शन का अवसर है। 

किसके लिए हैं अवसर 
ऑनलाइन सिनेमा दरअसल मेनस्ट्रीम सिनेमा का ही एक विकल्प है, जो अपने प्रचार व प्रसार के लिए इंटरनेट माध्यमों पर निर्भर करता है। यह समय और पैसे की बचत करता है। इस माध्यम को अपने बेहतरीन कंटेंट के लिए फिल्म मेकर, एडवरटाइजिंग डिजाइनर, फिल्म रिव्यूअर, ग्राफिक आर्टिस्ट, सोशल मीडिया पब्लिसिटी स्पेशलिस्ट, एनिमेटर, मीडिया मैनेजर, डिजिटल साउंड टेक्निशियन, वीडियो इंजीनियर, लाइटिंग टेक्निशियन व वीडियो एडिटर जैसे प्रोफेशनल्स की जरूरत होती है। 

किस तरह की ट्रेनिंग चाहिए? 
इस काम के लिए सबसे जरूरी है रचनात्मकता। शुरुआत किसी प्रॉडक्शन हाउस से जुड़कर की जा सकती है, जहां आपको फिल्म मेकिंग के सभी पहलुओं को जानने का मौका मिलेगा। साथ ही ढेरों संस्थान फिल्म मेकिंग के कोर्सेज करवाते हैं जो आपके लिए शुरुआती लाॅन्च पैड की तरह काम करते हैं।

मजबूत है बाजार 
स्टेटिस्टा के आंकड़ों के अनुसार आॅनलाइन सिनेमा सेग्मेंट ने अकेले यूएसए में 3, 407 मिलियन डाॅलर से ज्यादा की कमाई की है। 2016 में वीडियो आॅन डिमांड का रेवेन्यू जहां 11,840 मिलियन डाॅलर था, 2018 में बढ़कर यह 21,732 मिलियन डाॅलर होगा। एक अनुमान के मुताबिक 2016 में 218 मिलियन दर्शक वीडियो स्ट्रीमिंग से फिल्म देख रहे थे, वहीं 2018 में यह आंकड़ा 258 मिलियन होगा। जाहिर है मजबूत इंडस्ट्री के चलते यहां काम के लिए उन्नत अवसर पैदा हो रहे हैं। 

कितनी कमाई? 
डिजिटल फिल्म मेकिंग में आपकी कमाई पूरी तरह आपके प्रदर्शन और काम की क्वालिटी पर निर्भर करती है। देश में शुरुआती स्तर पर काम के हिसाब से 2 से 5 लाख का पैकेज सालाना डिजिटल फिल्मों से जुड़े प्रोफशनल्स को आसानी से मिल जाता है। 
 

Next News

सीईओ बनने के लिए 20 साल की उम्र से शुरू करें तैयारी

छोटी उम्र से ही खुद को विकसित करना आपको बड़ी सफलता की ओर ले जा सकता है। यहां कुछ लीडर्स के अनुभव और सलाहें हैं, जो बड़ी कामयाबी की ओर बढ़ने में आपके काम

कहीं आप भी तो नहीं फंस रहे फेक जॉब के जाल में

जॉब पोर्टल्स पर भी बड़ी संख्या में फर्जी नौकरियां पोस्ट हो रही हैं और यह काम इतना सावधानी पूर्वक किया जाता है कि असली और नकली नौकरी में अंतर कर पाना उम्मीदवारों

Array ( )