एग्रीकल्चर में बीएससी के बाद ऐसे बना सकते हैं करियर

एग्रीकल्चर में बीएससी के बाद जॉब का क्या स्कोप है?

करियर डेस्क । एग्रीकल्चर व्यवस्थित और नियंत्रित माहौल में फूड प्रॉडक्शन व अन्य फसलों के उत्पादन से संबंधित है। भारतीय अर्थव्यवस्था में एग्रीकल्चर इंडस्ट्री का महत्वपूर्णयोगदान है। देश की कुल जीडीपी में कृषि का योगदान 20% के करीब है और लगभग 62 प्रतिशत लोगों की आजीविका कृषि पर निर्भर है। यही वजह है कि सरकार भी इस क्षेत्र के विकास में सक्रिय रहती है। ऐसे में कृषि विशेषज्ञों की मांग इस क्षेत्र में लगातार बढ़ती जा रही है। बता रहे हैं एक्सपर्ट करियर काउंसलर जितिन चावला . . .

यहां मिलेगी नौकरी 

एग्रीकल्चर साइंटिस्ट के तौर पर आपको एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, इंडियन काउंसिल आॅफ एग्रीकल्चरल रिसर्च, स्टेट एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट, बैंकिंग सेक्टर में कॅरिअर के कई विकल्प मिलेंगे। यही नहीं सीड कंपनियों और फूड एंड एग्रीकल्चर आॅर्गेनाइजेशन, यूएनओ, नेशनल सीड कॉर्पोरेशन, स्टेट फार्म कॉर्पोरेशन, वेयरहाउसिंग कॉर्पोरेशन, फूड कॉर्पोरेशन के साथ भी जुड़ सकते हैं।

यहां हैं पढ़ाई के प्रमुख संस्थान 

एग्रीकल्चर में बीएससी करने के बाद एमएससी और पीएचडी का विकल्प भी चुन सकते हैं। एग्रीकल्चर साइंसेज के सभी कोर्सेज में प्रवेश के लिए इंडियन काउंसिल आॅफ एग्रीकल्चर रिसर्च द्वारा आयोजित परीक्षा पास करनी होती है। गोविंद वल्लभ पंत यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर, इंद्रा गांधी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी रायपुर, पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी, आईएआरआई, राजेन्द्र प्रसाद सेंट्रल एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी आदि एग्रीकल्चर की पढ़ाई के लिए कुछ प्रमुख संस्थान हैं।

रिसर्च के लिए भी हैं मौके 

इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चर जैसे संस्थानों में प्रवेश परीक्षा के जरिए एडमिशन लेने के बाद रिसर्च का मौका मिलता है। इस दौरान आप पढ़ाई के साथ कमा भी सकते हैं। इसी तरह आईएआरआई, आईवीआरआई, एनडीआरआई व सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फिशरी एजुकेशन में भी रिसर्च के भरपूर अवसर मौजूद ह

 

Next News

सीए vs सीएमए / जानिए दोनों कोर्सेज एक दूसरे से कैसे अलग हैं

10+2 करने के बाद आप कॉमन प्रोफिशियंसी टेस्ट (सीपीटी) दे सकते हैं

Array ( )