सीआईटीएस कोर्स करने वाले कैंडिडेट्स को दिया जाएगा 30% वेटेज

16 सितंबर 2016 को राजस्थान अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड जयपुर की ओर से 402 कनिष्ठ अनुदेशक की भर्ती का विज्ञापन निकला था।

एजुकेशन डेस्क।  जोधपुर सरकार की आईटीआई में क्राफ्टमैन इंस्ट्रक्शन ट्रेनिंग स्कीम (सीआईटीएस) कोर्स की सुविधा नहीं होने का खामियाजा राजस्थान के अभ्यर्थियों को उठाना पड़ सकता है, क्योंकि हाल ही में 402 कनिष्ठ अनुदेशक पदों पर निकाली गई भर्ती में सीआईटीएस के प्राप्तांकों का 30 प्रतिशत वेटेज देने का निर्णय लिया गया। इस निर्णय के बाद प्रदेश की आईटीआई से पास आउट अभ्यर्थियों के पीछे रहने की पूरी संभावना है। दरअसल, प्राविधिक शिक्षा प्रशिक्षण के कौशल, नियोजन एवं उद्यमिता विभाग की ओर से 402 कनिष्ठ अनुदेशक की भर्ती निकाली गई है। इसमें सीआईटीएस किए हुए अभ्यर्थियों को 30 प्रतिशत का वेटेज दिया जाएगा। लेकिन पूरे प्रदेश में केंद्र सरकार की जोधपुर स्थित एक आईटीआई और चूरू के पास प्राइवेट आईटीआई में ही यह कोर्स संचालित हो रहा है। इसमें भी वर्ष 2014 से ही एक से चार ट्रेड में यह स्कीम चल रही थी, जबकि राजस्थान के बाहर अन्य राज्यों में लंबे समय से सीआईटीएस स्कीम चल रही है। ऐसे में इस भर्ती में राजस्थान को छोड़ बाहर के स्टूडेंट्स को फायदा मिलने की संभावना है।  

आईटीआई में 402 कनिष्ठ अनुदेशकों की भर्ती 

16 सितंबर 2016 को राजस्थान अधीनस्थ एवं मंत्रालयिक सेवा चयन बोर्ड जयपुर की ओर से 402 कनिष्ठ अनुदेशक की भर्ती का विज्ञापन निकला था। यह भर्ती तब 8 ट्रेड और 1 विषय के लिए होनी थी। लेकिन इस भर्ती से कुछ माह पूर्व 7 जनवरी 2016 को केंद्र सरकार की ओर से एक सर्कुलर जारी हो चुका है। इस सर्कुलर के मुताबिक कनिष्ठ अनुदेशक की भर्ती के लिए सीआईटीएस की अनिवार्यता को लागू कर दिया गया था। गाइडलाइन जारी होने के बाद राजस्थान में प्राविधिक शिक्षा प्रशिक्षण निदेशालय के सेवा नियमों में कोई परिवर्तन नहीं किया गया। फरवरी 2018 में सेवा नियमों में परिवर्तन के लिए प्रस्ताव भेजा गया है जो विचाराधीन है। ऐसी परिस्थिति में प्रदेश के अभ्यर्थी परीक्षा में भाग ले सकते हैं, पर उन्हें नौकरी मिलने की संभावना कम है, क्योंकि इसमें सीआईटीएस किए हुए दूसरे प्रदेशों के स्टूडेंट्स को 30 प्रतिशत का अतिरिक्त वेटेज मिल जाएगा। 

Next News

ICSI:टच नॉलेज एप मिलेगी सीएस की जानकारियां

स्टूडेंट्स की सुविधा को देखते हुए आईसीएसआई ने की पहल, ई-लाईब्रेरी की सुविधा भी होगी शुरू

स्टूडेंट्स ने एडमिशन नहीं लिया, तो उसके डॉक्यूमेंट्स और फीस लौटानी होगी : MHRD

इंस्टीट्यूट्स अगर एडमिशन नहीं लेने वाले स्टूडेंट्स की फीस और डॉक्यूमेंट्स नहीं लौटाते हैं, तो उनकी मान्यता रद्द की जा सकती है।

Array ( )