नौकरी में मिला रिजेक्शन भी दिला सकता है अगले इंटरव्यू में कामयाबी

रिजेक्शन में छिपी कई लर्निंग्स से आप अगले इंटरव्यू के लिए रणनीति बना सकते हैं और दोबारा दोगुनी तैयारी और ऊर्जा के साथ सफलता हासिल कर सकते हैं।

करियर डेस्क । एक जॉब सर्वे के मुताबिक करियर के शुरुआती इंटरव्यूज में 70% कैंडिडेट्स रिजेक्ट हो जाते हैं। जिनमें से 60 फीसदी ने इसका कारण नॉन वर्बल स्किल्स की कमी को माना है तो 33 प्रतिशत को इंटरव्यू की तैयारी में कमी इसकी मुख्य वजह लगी। जबकि विशेषज्ञों की राय में अगर आप ऐसी स्थिति का सामना करते हैं तो उससे आपको सकारात्मक तरीके से ओवरकम करना चाहिए। रिजेक्शन में छिपी कई लर्निंग्स से आप अगले इंटरव्यू के लिए रणनीति बना सकते हैं और दोबारा दोगुनी तैयारी और ऊर्जा के साथ सफलता हासिल कर सकते हैं।


फीडबैक लें 

इंटरव्यू होने के बाद हायरिंग मैनेजर को धन्यवाद देने और फीडबैक लेने के लिए ईमेल करें। फीडबैक से आप जान पाएंगे कि उन्हें किन क्वालिटीज की तलाश थी जिनपर आप खरे नहीं उतर पाए। इससे आप अपनी कमियों में सुधार करके सही स्किल्स का विकास कर पाएंगे।


ताकतों को पहचानें 

रिजेक्शन से डिप्रेस होने के बजाय उन तीन उपलब्धियों और बेस्ट स्किल्स की लिस्ट बनाएं जब आपने अच्छा प्रदर्शन किया हो। ये आपको मोटिवेशन से भर देंगी साथ ही आगे की रणनीति बनाने के लिए भी प्रेरित करती रहेगी। अगले इंटरव्यूमें इनका उल्लेख करना भी आपको सफलता के करीब ले जाएगा।


बदलाव लाएं 

इंटरव्यू से लौटने के बाद सभी सवालों की एक लिस्ट बनाएं और उन पर दिए अपने जवाबों को भी लिखें। इनका आकलन करें कि किस सवाल पर आप और भी अच्छा प्रदर्शन कर सकते थे। ऐसे में अगर आपकी तैयारी में कमी थी तो वह भी आपको पता चल जाएगी। चाहें तो किसी एक्सपर्ट की मदद लें।


आंकड़ों पर नजर

इंटरव्यू देने के बाद रिजल्ट के आंकड़ों पर नजर जरूर डालें। इससे आप जान पाएंगे कि कितने कैंडिडेट्स को पीछे छोड़कर आप फेस टू फेस इंटरव्यू के लिए सलेक्ट हुए। इससे आपको अपनी स्थिति का अंदाजा होगा और यह भी जान पाएंगे कि अभी आपको कितनी और मेहनत की जरूरत है।
 

Next News

सही करियर ऑप्शन चुनने में मदद करेंगे ये टिप्स

सही करियर का चुनाव करने में अपनी ताकतों और कमियों को जानना जरूरी है।सही करियर का चुनाव न केवल आपको संतोष देता है बल्कि सफलता भी। लेकिन यहां सवाल यह उठता

जॉब सर्च में काम आएंगे सोशल मीडिया हैशटैग

पहले फोटो और पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए हैशटैग्स का इस्तेमाल किया जाता था, लेकिन अब जॉब तलाशने वाले उम्मीदवार और रिक्रूटर दोनों

Array ( )