आईटी के बजाय ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग अब बन रहा पसंदीदा स्ट्रीम

एचआर एक्सपर्ट्स के मुताबिक ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में बिग डेटा व आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बढ़ते महत्व ने आईटी बैकग्राउंड वाले इंजीनियर्स की रुचि इस क्षेत्र में पैदा की है। 

करियर डेस्क । आईटी लंबे समय से इंजीनियरिंग ग्रेजुएट्स के लिए टॉप प्राथमिकता रही है न केवल तेजी से आगे बढ़ने के लिए बल्कि इसमें विदेश में नौकरी की भी अच्छी संभावनाएं रही हैं। लेकिन अब आईटी कंपनियों के स्टाफ में कटौती और सख्त यूएस वीजा नियमों के चलते मैन्यूफैक्चरिंग फील्ड जॉब सीकर्स को ज्यादा लुभा रहा है। एचआर एक्सपर्ट्स के मुताबिक ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में बिग डेटा व आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बढ़ते महत्व ने आईटी बैकग्राउंड वाले इंजीनियर्स की रुचि इस क्षेत्र में पैदा की है। 

ऑटो कंपनियों में बढ़ी नौकरी की संभावनाएं

विशेषज्ञों के मुताबिक पूर्व में मैकेनिकल इंजीनियर आईटी इंडस्ट्री में जा रहे थे, लेकिन अब वे लौट रहे हैं। अब लग रहा है कि स्थिति उल्टी हो गई है और अब ऑटो कंपनियों को मिलने वाली एप्लीकेशंस में बढ़ोतरी हुई है। पिछले समय में ऑटो कंपनियों में विस्तार व नए प्रॉडक्ट प्लेटफॉर्म्स के चलते हायरिंग बढ़ी है। नौकरी जॉबस्पीक डेटा (मार्च 2018) के मुताबिक, ऑटो इंडस्ट्री में महत्वपूर्ण हायरिंग ग्रोथ हुई है। मार्च 2017 की तुलना में इस सेक्टर नेमार्च 2018 में 33 प्रतिशत ग्रोथ देखी है। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि आईटी का आकर्षण कम पड़ा है। पे ग्रोथ भी अब उतनी बेहतर नहीं है जितनी पहले हुआ करती थी। ऐसेमें ऑटो इंडस्ट्री को जॉइन करने वालों की तादाद बढ़ रही है। 

Next News

पहले जॉब के लिए करने जा रहे हैं अप्लाय तो इन बातों का रखें ध्यान

किसी भी जॉब के लिए आप बेस्ट कैंडिडेट हो सकते हैं, लेकिन इस स्थिति में आपका सीवी आपके और रिक्रूटर के बीच संवाद की पहली कड़ी होता है। रिक्रूटर आपको तभी कॉल

छोटे बिजनेस की ग्रोथ के लिए बदलनी होगी आपको अपनी स्ट्रैटजी

ऐसी कई ग्रोथ स्ट्रैटजी हैं, जो छोटे उद्यमों के काम आ सकती हैं। बस जरूरत है उन्हें सही प्लानिंग के साथ आजमाने की। अगर आप भी किसी छोटे बिजनेस से जुड़े आंत्रप्रेन्योर

Array ( )