Articles worth reading

अटेंडेंस के वक्त स्टूडेंट्स यस सर-यस मैडम की जगह अब बोलेंगे ' जय हिंद '

प्रदेश के 1 लाख से ज्यादा सरकारी स्कूलों में लागू होगा यह नियम, इसके बाद प्रायवेट स्कूलों में लागू किया जाएगा।

एजुकेशन डेस्क, भोपाल | प्रदेश के सरकारी स्कूलों में शिक्षकों द्वारा अटेंडेंस लिए जाने पर स्टूडेंट्स को 'यस सर-यस मैडम' की जगह 'जय हिंद' बोलना पड़ेगा। इस बारे में स्कूल शिक्षा विभाग ने मंगलवार को आदेश जारी कर दिए हैं। विभाग के उप सचिव प्रमोद सिंह द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि स्टूडेंट्स में देश भक्ति की भावना जागृत करने के लिए राज्य शासन द्वारा यह निर्णय लिया गया है। 

 

एनसीसी दिवस पर की था घोषणा

राजधानी के शौर्य स्मारक में हुए राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में राज्य के स्कूल शिक्षा मंत्री विजय शाह ने घोषणा की थी। घोषणा में उन्होंने कहा था कि अब स्टूडेंट्स यस सर, यस मैडम के स्थान पर जय हिंद सर व जय हिंद मैडम बोलेंगे। उन्होंने कहा था कि प्राइवेट स्कूलों को भी इस संबंध में एडवाइजरी जारी की जाएगी।

 

15 मई को आदेश जारी

बता दें कि विद्यालय में अटेंडेंस देते समय स्टूडेंट्स अभी तक यस सर-यस मैडम बोलते आए हैं। शिक्षा विभाग नें मंगलवार को इसे लागू करने का आदेश जारी कर दिया है। शाह के मुताबिक, प्रदेश के सभी एक लाख 22 हजार शासकीय स्कूल में यह व्यवस्था लागू होगी। उसके बाद निजी स्कूलों में यह व्यवस्था लागू की जाएगी। 

 

" हम देश भक्ति को जबरन किसी पर लागू नहीं कर सकते। इसे अनिवार्य करने की कोई जरूरत नहीं है। 

सबसे पहले हमें एजुकेशन की क्वालिटी पर ध्यान देने के साथ ही सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की कमी को पूरा करने की जरूरत है।"

- के.के. मिश्रा  (कांग्रेस प्रवक्ता)

 

 

कितनी है प्रदेश में स्कूलों की संख्या

स्कूल

संख्या

शासकीय प्राथमिक शाला

81335

अनुदान प्राप्त प्राथमिक शाला

961

निजी प्राथमिक शाला

13221

शासकीय माध्यमिक शाला

24293

अनुदान प्राप्त माध्यमिक शाला

370

निजी माध्यमिक शाला

11236

आश्रम शाला (प्रारंभिक स्तर)

878

 


 

Next News

तमिलनाडु बोर्ड: 12वीं का रिजल्ट घोषित, 91.1% स्टूडेंट्स हुए पास

विरुधनगर डिस्ट्रिक्ट के सबसे ज्यादा 97% स्टूडेंट्स ने पास किया। दूसरे नंबर पर ईरोड डिस्ट्रिक्ट रहा जहां पर 96.3% स्टूडेंट्स पास हुए।

रिसर्च में फंडिंग तो बढ़ी, लेकिन छात्रों में जागरुकता की कमी

पिछले दो वर्षों के दौरान तकनीकी संस्थानों को रिसर्च के लिए मिलने वाली फंडिंग में इजाफा हुआ है।

Array ( )