UPSC 2017: आईआईटियन हैं टॉप 5 में शामिल अतुल प्रकाश, सैकेंड अटैम्प्ट में हुए सफल

UPSC 2017 के फोर्थ टॉपर अतुल को उनके पिता विदेश भेजना चाहते थे। लेकिन अतुल ने सिविल सर्विस को चुना। अतुल प्रकाश पिछली बार रेल सेवा के लिए चुने गए थे। पर ज्वाइन नहीं किया। आईआईटी दिल्ली से पास आउट हैं।

बक्सर। चौसा प्रखंड के मंगरांव निवासी अतुल ने कहा कि लक्ष्य को सामने रखकर यदि सतत मेहनत की जाए तो सफलता की प्राप्ति जरूर होती है। उनकी सफलता का राज यही है। हालांकि, पिता चाहते थे कि बेटा हायर स्टडीज के लिए विदेश जाए, लेकिन अतुल ने सिविल सेवा को चुना। अतुल ने 2009 में दिल्‍ली पब्लिक स्‍कूल (डीपीएस) पटना से मैट्रिक पास की। इसके बाद वे 12th के लिए दिल्ली चले गए। वहां आईअाईटी की भी साथ-साथ तैयारी की। अतुल ने 2011 में दिल्ली से 12th का एग्जाम पास किया। जिसके बाद उन्हें आईआईटी दिल्ली में भी दाखिला मिल गया।

सैकेंड अटैम्प्ट में मिली सक्सेस

अतुल ने वर्ष 2016 में सिविल सेवा परीक्षा दी, लेकिन उन्‍हें 558th स्‍थान मिला। उन्होंने आगे भी प्रयास जारी रखा और वर्ष 2017 की परीक्षा में चौथे स्थान पर चयनित हुए हैं। अतुल के पिता रेलवे भर्ती बोर्ड के महेंद्रू स्थित कार्यालय में मुख्य अभियंता के पद पर कार्यरत हैं। अतुल ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता को ही दिया है।

शुरू से कन्फर्म था टॉप करेगा

अतुल के पिता अशोक राय ने बताया कि अतुल शुरू से ही अपनी सक्सेस लेकर श्योर था। इंडियन रेल सेवा में योगदान के बाद उसने लीव लेकर फिर तैयारी की। इसका नतीजा आज सामने है। उन्होंने बताया कि उनकी तमन्ना थी कि बेटा हायर स्टडीज के लिए विदेश जाए। लेकिन उसने सिविल सेवा में ही बेहतर करने की इच्छा जाहिर की। 

अभिलाषा का भी दूसरा प्रयास 

18th स्थान पर रहीं राजीवनगर की अभिलाषा अभिनव अभी नागपुर में आईआरएस की ट्रेनिंग ले रही हैं। उनके पिता भोलानाथ सरकार रिटायर्ड आईपीएस हैं। अभिलाषा के छोटे भाई ने बताया कि पिछले साल उनका 300 के आसपास रैंक आया था, उन्हें रेवेन्यू सर्विस मिली थी। 10th तक की पढ़ाई अभिलाषा ने डॉन बॉस्को एकेडमी, जबकि 12th डीपीएस बोकारो से की। एसी पाटिल संस्थान नवी मुंबई से उन्होंने बीटेक किया। बीटेक के बाद आईबीएम में जॉब करने लगीं। वहां से तैयारी कर सिंडिकेट बैंक में पीओ के पद पर ज्वाइन किया। फिर यूपीएससी की तैयारी की। दूसरे प्रयास में अभिलाषा को 18वां स्थान मिला। अभिलाषा का भाई आॅस्ट्रेलिया में इंजीनियर है।  

संपतचक के बीडीओ के बेटे नीतीश को 671th रैंक 

फुलवारीशरीफ। संपतचक के बीडीओ कुंज बिहारी के बेटे नीतीश कुमार काे यूपीएससी परीक्षा में 671th रैंक मिली है। बीडीओ ने बताया कि नीतीश को चौथी बार में यह सफलता मिली है। नीतीश ने बीटेक आईआईटी दिल्ली से और 10th डीएवी बोर्ड कॉलोनी, पटना से से की है। बड़ा पुत्र राकेश कुमार मर्चेंट नेवी में सेकेंड ऑफिसर है और मंझला पुत्र रविश कुमार अमेरिका में इंजीनियर हैं। कुंजी बिहारी भोजपुर के गढ़नी के पास बरौरा गांव के रहने वाले हैं। 

सरकार में रहकर ही समाज की सेवा की जा सकती है 
502th रैंक हासिल करने वाले राजगीर के शर्मा भवेश अनिल का मानना है कि समाज की सेवा करना उद्देश्य था। सरकार में रहकर ही समाज की सेवा की जा सकती है इसलिए यूपीएससी की ओर ध्यान गया। यूपीएससी के लिए घर में पहले से ही माहौल था। पूरा परिवार महाराष्ट्र के औरंगाबाद में है। बिहार आना-जाना लगा रहता है। पिता अनिल कुमार वहीं एक निजी कंपनी में सीनियर मैनेजर हैं। तीसरे प्रयास में यूपीएससी में यह सफलता मिली है। 

Next News

UPSC 2017: डॉक्टर बनने का था सपना यूपीएससी किया क्लीयर अब IAS बनेंगी ज्योति

आईएएस बनी ज्योति के पिता कहलगांव में रसकदम बनाते हैं। शहर के तीन अन्य युवा भी हुए सफल, नारायणपुर व एकचारी का नाम भी रोशन हुआ है।

UPSC CMS एग्जाम का नोटिफिकेशन जारी, ऑनलाइन ऐसे करें अप्लाय

22 जुलाई को होने वाले इस एग्जाम के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुके हैं और यूपीएससी की वेबसाइट पर जाकर अप्लाय किया जा सकता है।

Array ( )