33 की मां ने 16 साल के बेटे के साथ दिया 10वीं का एग्जाम, दोनों हुए पास

तपाई ने 1999 में भी 10वी की परीक्षा दी पर पास नहीं हो पाई थी।

एजुकेशन डेस्क, ओड़िसा। वो कहते है ना "सिर्फ पंख ही काफी नहीं आसमान के लिए हौंसला भी चाहिए ऊंची उड़ान के लिए।"  ऐसी ही एक मिसाल देखने को मिली ओड़िसा के लक्ष्मणनाथ गांव में जहां रहने वाली एक 33 साल की महिला ने 19 साल बाद अपने ही 16 साल के  बेटे के साथ 10वीं  की परीक्षा पास की और हैरानी की बात यह है कि मां-बेटे दोनों एक ही ग्रेड से पास हुए।

पहले भी दे चुकी हैं 10वीं की परीक्षा
ओड़िसा एजुकेशन बोर्ड ने 7 मई को 10वीं के रिजल्ट घोषित किए जिसमें यह मामला सामने आया। तपाई नाम की इस महिला ने 1999 में भी 10वी की परीक्षा दी पर पास नहीं हो पाई थी। उसके अगले ही साल में उसकी शादी कर दी गई जिसके बाद वह एग्जाम देना चाह रही थी लेकिन घर की आर्थिक हालात ठीक नहीं होने से वह दोबारा एग्जाम नहीं दे पाई। इसके बाद उसने अपने बेटे के साथ एग्जाम देने का फैसला किया।

पंचायत समिति का लड़ा था चुनाव
- 2017 में तपाई ने ओड़िसा के बालासोर जिले के झलेश्वर ब्लॉक के पंचायत समिति के सदस्य के लिए चुनाव लड़ा था लेकिन वो इस चुनाव को हार गई थी।

यह कोई पहला मामला नहीं
- इससे पहले पंजाब की रहने वाली एक मां ने अपने बेटे के साथ 12वीं की परीक्षा पास की थी।
- इसी साल लुधियाना की रहने वाली 44 साल की मां भी अपने बेटे के साथ 10वीं का एग्जाम दे चुकी हैं।

इस साल 1 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स हुए फेल
- 10वीं बोर्ड के एग्जाम में बैठे 5,90,363 स्टूडेंट्स में से 4,38,348 स्टूडेंट्स पास हुए हैं। इस बार का पासिंग पर्सेंटेज 76.23 रहा।
- पास होने वाले स्टूडेंट्स में से 2,16,305 लड़के और 2,22,043 लड़कियां शामिल हैं। 
- एग्जाम में फेल होने वाले स्टूडेंट्स सप्लीमेंट्री एग्जाम के लिए 25 मई से 31 मई तक फॉर्म भर सकते हैं।

कब हुए थे 10वीं के एग्जाम?
- 10वीं बोर्ड के एग्जाम 23 फरवरी से 8 मार्च तक हुए थे। इस साल 5,90,363 स्टूडेंट्स ने एग्जाम में हिस्सा लिया था।
- जबकि 12वीं बोर्ड एग्जाम 5 मार्च से 29 मार्च तक चले थे और इसमें 3,65,826 स्टूडेंट्स शामिल हुए थे। 12वीं का रिजल्ट भी मई के तीसरे हफ्ते तक डिक्लेयर किया जा सकता है।

पिछली साल क्या रहा था रिजल्ट?
- 10वीं बोर्ड रिजल्ट : 85.28%
- 12वीं बोर्ड रिजल्ट : 74.24%

Next News

असफलता ही कामयाबी के लिए तैयार करती है: राकेश ओमप्रकाश मेहरा

आप चाहे जो कुछ भी कर रहे हों लेकिन सिर्फ सामान्य तरीके से उसे अंजाम दे रहे हैं तो उसका आउटपुट भी सामान्य ही होगा।

सफलता इंतजार करवाती है, धैर्य रखना जरूरी : राहुल द्रविड़

संघर्ष करना जरूरी है और सफलता व असफलता दोनों ही इसके हिस्से हैं। आपको दोनों का सामना करना पड़ेगा। 

Array ( )